महाशिव‍रात्रि पर मंदिरों में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, कुंभ का समापन भी आज, देखें PICS

आज ही प्रयागराज कुंभ मेले का भी समापन होना है. आज ही होगा आखिरी शाही स्‍नान.

महाशिव‍रात्रि पर मंदिरों में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, कुंभ का समापन भी आज, देखें PICS
शिव मंदिरों में उमड़ रही भक्‍तों की भीड़. फोटो ANI

नई दिल्ली: आज महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जा रहा है. देश भर के शिव मंदिरों पर भक्‍तों की भारी भीड़ उमड़ रही है. आज ही प्रयागराज में आयोजित हुए कुंभ मेला का समापन भी होना है. कुंभ में आज ही अखिरी शाही स्‍नान भी होगा. हिंदू धर्म में भगवान शिव शंकर पर लोगों की बहुत आस्था है. इसलिए देवों के देव महादेव को खुश करने वाला आस्था से परिपूर्ण महाशिवरात्रि का व्रत सबसे महत्वपूर्ण होता है.


पुणे के शिव मंदिर में उमड़ी भक्‍तों की भीड़. फोटो ANI

वैसे तो शिवरात्रि (चतुर्दशी) हर माह आती है मगर फाल्गुन मास में आने वाली महाशिवरात्रि कुछ ज्‍यादा ही खास होती है. इस दिन श्रद्धालु भगवान शिव को फल-फूल अर्पित करते हैं और शिवलिंग पर दूध व जल अर्पित करते हैं. 


नासिक के त्रयंबकेश्‍वर मंदिर में पूजा की गई. फोटो ANI

हुआ था भगवान शिव और मां पार्वती का विवाह
पुराणों के मुताबिक, फाल्गुन मास के दिन होने वाली शिवरात्रि पर भगवान शिव शंकर और माता पार्वती का विवाह हुआ था. इसलिए इस पर्व को महाशिवरात्रि कहते हैं.


मुंबई के मंदिर में की गई पूजा. फोटो ANI 

व्रत रखने से पूरी होती है इच्छा
इस दिन भगवान शिव की पूजा पूरे विधि विधान की जाए तो आपके जीवन में सुख-समृद्धि आती है. इस दिन शिवरात्रि का व्रत रखने की भी परंपरा है. माना जाता है कि इससे सदैव भोग और मोक्ष की प्राप्ति होती है. ऐसी मान्यता है कि पुरुष व्रत करें तो उन्हें धन-दौलत, यश एवं र्कीत प्राप्त होती है, महिलाएं सुख-सौभाग्य एवं संतान प्राप्त करती हैं, कुंवारी कन्याएं सुन्दर एवं सुयोग्य पति पाने की कामना से यह व्रत करती हैं. 


दिल्‍ली का गौरी शंकर मंदिर. फोटो ANI

शिवरात्रि का महत्‍व
महाशिवरात्रि में पूजा का बड़ा ही महत्व है. चतुर्दशी तिथि के स्वामी भगवान भोलेनाथ अर्थात स्वयं शिव ही हैं. इसलिए प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मासिक शिवरात्रि के तौर पर मनाया जाता है. ज्योतिष शास्त्रों में इस तिथि को अत्यंत शुभ बताया गया है. गणित ज्योतिष के आंकलन के हिसाब से महाशिवरात्रि के समय सूर्य उत्तरायण हो चुके होते हैं और ऋतु-परिवर्तन भी चल रहा होता है.

ज्योतिष के अनुसार, चतुर्दशी तिथि को चंद्रमा अपनी कमजोर स्थिति में आ जाते हैं. चन्द्रमा को शिव जी ने मस्तक पर धारण किया हुआ. इसलिए शिवजी के पूजन से व्यक्ति का चंद्र सबल होता है, जो मन का कारक है. शिव की आराधना इच्छा-शक्ति को मजबूत करती है.