MahaShivratri 2021: शिवयोग और धनिष्ठा नक्षत्र में महाशिवरात्रि का त्योहार, सभी मनोकामनाएं होंगी पूरी

11 मार्च गुरुवार को महाशिवरात्रि का त्योहार है जो इस बार कल्याणकारी शिव योग में मनाया जा रहा है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन व्रत रखने वालों को सौभाग्य और समृद्धि की प्राप्ति होती है.

MahaShivratri 2021: शिवयोग और धनिष्ठा नक्षत्र में महाशिवरात्रि का त्योहार, सभी मनोकामनाएं होंगी पूरी
महाशिवरात्रि पर बन रहा शिवयोग

नई दिल्ली: हिंदू पंचांग (Panchang) के अनुसार, हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि के रूप में मनाया जाता है लेकिन महाशिवरात्रि (Mahashivratri) साल में सिर्फ एक बार आती है जो फाल्गुन महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को होती है. इस बार यह तिथि 11 मार्च गुरुवार को है. महाशिवरात्रि के दिन भगवान भगवान शिव (Lord Shiva) की पूरे विधि-विधान के साथ पूजा की जाती है. ऐसी मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन व्रत रखने वालों सौभाग्य, समृद्धि और संतान की प्राप्ति होती है. इस बार की महाशिवरात्रि कई मायनों में खास है क्योंकि इस दिन कई शुभ संयोग बन रहे हैं. 

महाशिवरात्रि पर बन रहे कई शुभ योग

11 मार्च गुरुवार को महाशिवरात्रि कई शुभ संयोगों में आ रही है. 
- इस दिन मकर राशि (Capricorn) में एक साथ 4 बड़े ग्रह होंगे- शनि, गुरु, बुध और चंद्रमा
- हिंदू पंचांग के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन विशेष फलकारी धनिष्ठा नक्षत्र होगा (Dhanishtha Nakshatra)
- पंचांग के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन सुबह 9.25 तक महान कल्याणकारी शिव योग (Shiv Yoga) है. ऐसी मान्यता है कि इस योग में किया गया हर शुभ कार्य सफल होता है
- पंचांग के अनुसार शिव योग के बाद सिद्ध योग (Siddha Yoga) शुरू हो जाएगा. इस योग में भी कोई कार्य शुरू करके कार्यसिद्धि प्राप्त की जा सकती है.
- इसके अलावा इस दिन आंशिक काल सर्प योग (Kaal Sarp Yoga) भी रहेगा. ऐसे अवसर पर जिन लोगों की कुंडली में कालसर्प योग है, वे इसकी शांति के लिए पूजा-पाठ करवा सकते हैं.

ये भी पढ़ें- महाशिवरात्रि पर करें इन मंत्रों का जाप, बदल सकती है आपकी जिंदगी

इन विशेष संयोगों की वजह से महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव की पूजा का विशेष महत्व होगा. शिव की आराधना से भक्त की सभी मनोकामनाएं पूरी होगी. इस दिन रुद्राभिषेक करना शुभदायक होगा. इन दुर्लभ योगों में भगवान शिव की पूजा और व्रत करने से सभी तरह के दोष और कष्टों से मुक्ति मिलेगी. 

महाशिवरात्रि पूजा का शुभ मुहूर्त

महाशिवरात्रि तिथि- 11 मार्च 2021, गुरुवार 
चतुर्थी तिथि प्रारंभ- 11 मार्च 2021 को दोपहर 2.39 बजे से 
चतुर्थी तिथि समाप्त- 12 मार्च 2021 को दोपहर 3.02 बजे तक
महाशिवरात्रि पारण का समय- 12 मार्च की सुबह 6.34 से दोपहर 3.02 तक
निशिता काल पूजा समय- 11 मार्च को रात में 12:06 बजे से 12:54 बजे तक, अवधि- 48 मिनट

ये भी पढ़ें- कहां मनाई जाती है महाशिवरात्रि के एक दिन बाद शिवरात्रि

शिवलिंग की पूजा का महत्व

शिवलिंग (Shivling) भगवान शिव का प्रतीक है. शिव का अर्थ है- कल्याणकारी और लिंग का अर्थ है सृजन. सृजनहार के रूप में लिंग की पूजा होती है. संस्कृत में लिंग का अर्थ है प्रतीक. भगवान शिव अनंत काल के प्रतीक हैं. मान्यताओं के अनुसार, शिवलिंग को ब्रह्मांड का प्रतीक माना जाता है. शिव जी को महादेव, भोलेनाथ, आदिनाथ के नामों से भी जाना जाता है. पौराणिक ग्रंथों के अनुसार भगवान शिव ने ही धरती पर सबसे पहले जीवन के प्रचार-प्रसार का प्रयास किया था, इसीलिए भगवान शिव को आदिदेव भी कहा जाता है.

- ज्योतिर्विद मदन गुप्ता सपाटू

धर्म से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.