close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

B'day Special: हेडन ने बनाया था ऐसा रिकॉर्ड जिसने ब्रैडमैन को छोड़ दिया था बहुत पीछे

Australian Cricketer: मैथ्यू हेडन के नाम कई ऐसे ऑस्ट्रेलियाई रिकॉर्ड जो आज भी तोड़े नहीं जा सके हैं. 

B'day Special: हेडन ने बनाया था ऐसा रिकॉर्ड जिसने ब्रैडमैन को छोड़ दिया था बहुत पीछे
हेडन ने 2007 विश्व कप में सबसे तेज हाफ सेंचुरी लगाई थी. (फोटो: Reuters)

नई दिल्ली: ऑस्ट्रेलिया ने दुनिया के कई महान और क्लासिक बल्लेबाज दिए हैं. इनमें सर डॉन ब्रैडमैन  (Don Bradman) से लेकर स्टीव स्मिथ (Steve Smith) की लंबी चौड़ी लिस्ट है. इस लिस्ट में बाएं हाथ के बल्लेबाज मैथ्यू हेडन (Matthew Hayden) का नाम एक अलग ही मुकाम रहा है. हेडन को कभी भी क्लासिक बल्लेबाज नहीं माना गया. इस बेखौफ बल्लेबाज के नाम आज भी वह रिकॉर्ड जो सर डॉन ब्रैडमैन सहित किसी ऑस्ट्रेलियाई से बहुत आगे है.  हेडन मंगलवार को 49 साल के हो रहे हैं. 

लंबे समय तक की ऑस्ट्रेलिया की सलामी बल्लबाजी
ऑस्ट्रेलिया का यह खब्बू सलामी बल्लेबाज एक समय दुनिया भर के तेज गेंदबाजों के लिए कहर बन कर टूट पड़ता था. चौदह साल के क्रिकेट करियर के दौरान हेडन ने ऑस्ट्रेलिया के लिए सफलतापूर्वक सलामी बल्लेबाजी की.  टेस्ट और वनडे क्रिकेट में माइकल स्लेटर, मार्क टेलर, जस्टिन लेंगर, एडम गिलक्रिस्ट, मार्क वॉ, फिल जैक्स के साथ ऑस्ट्रेलियाई पारी की शुरुआत की. इनमें लंबे समय तक उनके जोड़ीदार लेंगर रहे. हेडन-लेंगर की जोड़ी ने कई टेस्ट मैचों में ऑस्ट्रेलिया को बेहतरीन शुरुआत देकर अपनी टीम की जीत की नींव रखीं. 

यह भी पढ़ें: बांग्‍लादेश के खिलाफ सौ फीसदी टी20 रिकॉर्ड है टीम इंडिया का, लेकिन इस बार है चुनौती

शुरुआत का समय रहा संघर्षपूर्ण
हेडन ने अपने करियर का पहला टेस्ट मार्च 1994 में खेला, इसके बाद उन्हें तीन साल तक टीम से बाहर रहना पड़ा. उन्होंने कड़ी मेहनत की और तीन साल बाद न्यूजीलैंड के खिलाफ 31 मार्च 2000 को हेमिल्टन टेस्ट से टीम में वापसी की. इसके बाद वे अपने प्रदर्शन के आधार पर कभी टीम से बाहर नहीं रहे. कुछ मौकों पर वे चोटिल होकर बैंच पर बैठे, लेकिन जल्द ही वापस भी आए. हेडन की मौजूदगी से सालों-साल ऑस्ट्रेलियाई टीम मैनेजेमेंट को सलामी बल्लेबाजी को लेकर अलग से कोई योजना नहीं बनानी पड़ी.

वह खास रिकॉर्ड जो आज भी है हेडन के नाम
हेडन की सबसे ज्यादा खास पारी 2003 में पर्थ टेस्ट में हेडन ने जिम्बॉब्वे के खिलाफ 380 रनों की है. यह उस समय टेस्ट क्रिकेट की एक पारी में सबसे बड़ी पारी थी. यह रिकॉर्ड ज्यादा दिन तक हेडन के नाम नहीं रह सका. ब्रायन लारा ने एक बार फिर इसे अपने नाम कर लिया, लेकिन हेडन की इस पारी की खासियत यह थी कि उन्होंने ये 380 रन 90 की स्ट्राइक रेट से बनाए थे. लारा भले ही हेडन से आगे निकल गए हों, लेकिन अब तक कोई भी ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी हेडन के इस रिकॉर्ड के आसपास भी नहीं आ सका है. डॉन ब्रैडमैन और मार्क टेलर के नाम ही 334 रन की पारी है. 

शानदार रिकॉर्ड है हेडन का
हेडन ने 103 टेस्ट मैचों में 30 शतक और 29 अर्धशतक के साथ 50.73 की औसत से 8625 रन बनाए हैं वे ऑस्ट्रेलिया के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले पांचवे टेस्ट बल्लेबाज हैं. वहीं 161 वनडे मे हेडन ने 78.96 के स्ट्राइक रेट और 43.80 के औसत से, दस शतक और 36 अर्द्धशतकों की मदद से कुल 6133 रन बनाए हैं और वे यहां ऑस्ट्रेलिया के छठे नंबर के बल्लेबाज हैं. अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के अंतिम दिनों में हेडन भले ही बेहतरीन फॉर्म में न रहे हो, लेकिन उसके बाद ही हेडन ने आईपीएल में अपनी धाक जमाई और 2009 के आईपीएल में उन्होंने ऑरेंज कैप भी हासिल की