close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टैक्स विवाद पर BCCI की दो टूक- ICC चाहे तो हमसे वर्ल्ड कप की मेजबानी छीन ले...

भारत को 2021 में टी20 विश्व कप और 2023 में वनडे विश्व कप की मेजबानी करनी है. आईसीसी का कहना है कि बीसीसीआई को इस आयोजन में टैक्स में छूट देनी होगी.

टैक्स विवाद पर BCCI की दो टूक- ICC चाहे तो हमसे वर्ल्ड कप की मेजबानी छीन ले...

मुंबई: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और आईसीसी (ICC) के बीच विश्व कप के आयोजन को लेकर टैक्स विवाद बढ़ता जा रहा है. आईसीसी (इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल) ने हाल ही में ही अपनी तिमाही बैठक में बीसीसीआई (BCCI) से कहा था कि अगर उसे टी20 विश्व कप 2021 और वनडे विश्व कप2023 की मेजबानी करनी है तो टैक्स में छूट देनी होगी. अगर बीसीसीआई ऐसा नहीं कर पाता है तो उसे मेजबानी खोनी पड़ सकती है. आईसीसी की इस चेतावनी का बीसीसीआई पर ज्यादा असर नहीं हुआ है. उसने आईसीसी से दो टूक कह दिया है कि वह चाहे तो विश्व कप को भारत से बाहर ले जा सकती है. 

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि आईसीसी चाहे तो भारत से विश्व कप की मेजबानी छीन सकता है. टैक्स का मुद्दा सरकार से जुड़ा है. इसके लिए सरकार की मंजूरी की जरूरत होती है. इस तरह के बाहरी दबाव इसमें कोई मदद नहीं कर सकते. 

अधिकारी ने कहा, ‘अगर वह आईसीसी टूर्नामेंट बाहर ले जाना चाहते हैं तो कोई बात नहीं. फिर बीसीसीआई अपना रेवेन्यू भी आईसीसी में से वापस लेगा. फिर देखेंगे कि किसका नुकसान होता है.’ इस अधिकारी ने कहा, ‘जो लोग प्रशासन में हैं वे लोग पॉलिसी को बिना कानूनी तरीके से बनाना चाहते हैं. आईसीसी के ऐसे फैसले मानने के लिए बीसीसीआई को मुश्किलात होगी. इनमें से कई मुद्दे बोर्ड की पहुंच में नहीं होते’. बीसीसीआई के एक और अधिकारी ने बताया कि आईसीसी दावा तो सभी को साथ लेकर चलने का करती है, लेकिन ऐसा लगता है कि उसकी कोशिश हर तरह से भारत को नुकसान पहुंचाने की होती है. 

इस अधिकारी ने कहा, ‘पहले भी ऐसा पाया गया है कि आईसीसी का अपने सदस्यों से अलग तरह के बर्ताव रहता है. उदाहरण के तौर पर क्रिकेट आस्ट्रेलिया को सिर्फ टैक्स में छूट हासिल करने की कोशिश करने को कहा जाता है. वहीं, बीसीसीआई को यह बात सुनिश्चित करने को कहा जाता है कि वह टैक्स में छूट हासिल करे.’ उन्होंने कहा, ‘ऐसा नहीं हो सकता कि बीसीसीआई इस पर राजी हो जाए. आईसीसी एक तरफ यह नहीं कह सकती कि उनका मकसद सभी को साथ लेकर चलने का है वहीं दूसरी तरफ वह भारत के नुकसान पहुंचाने की हर संभव कोशिश करती है.’

(इनपुट: आईएएनएस)