जब पत्रकारों ने विराट कोहली से पूछ लिया नागरिकता कानून पर सवाल? मिला ये जवाब

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली शनिवार को श्रीलंका के साथ 5 जनवरी को होने वाली पहले टी-20 मैच की पूर्व संध्या पर मीडिया से मुखातिब हुए.

जब पत्रकारों ने विराट कोहली से पूछ लिया नागरिकता कानून पर सवाल? मिला ये जवाब
कोहली आईसीसी के चार दिन के टेस्ट मैच के पक्ष में नहीं हैं..

गुवाहाटी: भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली शनिवार को श्रीलंका के साथ 5 जनवरी को होने वाली पहले टी-20 मैच की पूर्व संध्या पर मीडिया से मुखातिब हुए. पत्रकारों ने उनके नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर सवाल पूछ लिया. इस पर कोहली ने कहा कि वह इस कानून पर पूरी जानकारी के बिना कोई टिप्पणी नहीं करेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि कि किसी को गुवाहाटी आने में कोई समस्या नहीं हुई. 

दरअसल, नागरिकता कानून को लेकर गुवाहाटी में जबर्दस्त प्रदर्शन देखने को मिले थे. कोहली ने कहा, "यह शहर निश्चित रूप से सुरक्षित है. हमें यहां पहुंचने में कोई समस्या नहीं हुई. जहां तक बात नागरिकता कानून (CAA) की है तो मैं गैरजिम्मेदाराना तरीके से कोई भी टिप्पणी नहीं करूंगा. कोई भी राय जाहिर करने से पहले, आपके पास पूरी जानकारी होनी चाहिए. मैं ऐसे किसी भी मामले में खुद को नहीं जोड़ना चाहूंगा जिसकी पूरी जानकारी मेरे पास नहीं है." 

गौरतलब है कि नागरिकता कानून को लेकर देश में कई हिस्सों में अभी भी विरोध प्रदर्शन जारी हैं. वहीं, बीजेपी इसके पक्ष में पूरे देश में जागरूकता अभियान चला रही है. पार्टी ने 5 जनवरी से 15 जनवरी तक नागरिकता संशोधन कानून(सीएए) को लेकर व्यापक जनजागरण अभियान चलाकर लोगों की शंकाओं का समाधान करने का फैसला किया है. पार्टी पदाधिकारी बुद्धिजीवियों से मिलने से लेकर नगर-नगर और गांव-गांव जाकर जनता के सामने कानून की सही तस्वीर रखेंगे. 
 
कोहली ने चार दिन के टेस्ट के आइडिया को नकारा
भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली आईसीसी के चार दिन के टेस्ट मैच के पक्ष में नहीं हैं क्योंकि उनना मानना है कि यह खेल के सबसे शुद्ध फॉर्मेट के साथ न्याय नहीं होगा. कोहली के मुताबिक टेस्ट क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए डे-नाइट टेस्ट बहुत है क्योंकि इसके माध्यम से टेस्ट क्रिकेट का व्यापक बाजारीकरण किया जा सकता है. 

कोहली ने संवाददाताओं से कहा, "मेरे हिसाब से इसमें बदलाव नहीं होने चाहिए. जैसा मैंने कहा टेस्ट क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए डे-नाइट टेस्ट लाया गया है, इससे उत्साह पैदा होता है, लेकिन इससे ज्यादा इससे छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए। मुझे नहीं लगता कि ऐसा किया जाना चाहिए."

उन्होंने कहा, "आप टेस्ट क्रिकेट में ज्यादा से ज्यादा डे-नाइट टेस्ट का बदलाव कर सकते हो. इसकी चलन शुरू हो चुकी है. किसी और बात पर ध्यान केंद्रित करने की जगह सिर्फ डे-नाइट टेस्ट पर ही फोकस किया जाए तो इस फॉरमेंट में काफी आकर्षण आ सकता है"

यह वीडियो भी देखें -

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.