dholavira

UNESCO की विश्व धरोहर में धोलावीरा भी शामिल, 5000 साल पुरानी सभ्यता का है प्रमाण

धोलावीरा, हड़प्पा सभ्यता से संबंधित एक ऐतिहासिक शहरी बस्‍ती का उत्‍कृष्‍ट उदाहरण है जो उस काल की वास्तुकला, जल प्रबंधन प्रणाली तथा तत्कालीन सांस्कृतिक - सामाजिक व्यवस्था की झलक बताता है. उन्होंने कहा कि वहां ईसा पूर्व तीसरी और दूसरी सहस्राब्दि के जन-जीवन के साक्ष्य मिले हैं. 

Jul 28, 2021, 01:56 PM IST

हड़प्पा काल के गुजरात के इस मकाम को यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में मिली जगह, संस्कृति मंत्री ने दी मुबारकबाद

गुजरात में पहले से तीन विश्व धरोहर प्लेस थे, जिनमें पावागढ़ के नजदीक चंपानेर, पाटन में रानी की वाव और ऐतिहासिक शहर अहमदाबाद शामिल हैं.

Jul 27, 2021, 05:25 PM IST

Gujarat: हड़प्पा काल का शहर Dholavira विश्व धरोहर में शामिल, जानें इसकी खासियत

नई दिल्ली: तेलंगाना के 13वीं सदी के रामप्पा मंदिर (Ramappa Temple) को यूनेस्को की ओर से वर्ल्ड हेरिटेज साइट का दर्जा मिलने के बाद अब भारत की एक और धरोहर को सम्मान मिला है. यूनेस्को (UNESCO) ने गुजरात में स्थित धोलावीरा (Dholavira) को भी वर्ल्ड हेरिटेज साइट (World Heritage Site) घोषित कर दिया है. आइए जानते हैं धोलावीरा के बारे में सबकुछ...  

Jul 27, 2021, 05:22 PM IST