ratan mani lal

#Gandhi150: गांधी जयंती का उत्सव तो ठीक है, उनका अनुकरण करना जरूरी

चाहे बात रही हो स्वच्छता की, या ग्राम रोज़गार की, या अस्पृश्यता दूर करने की; सांप्रदायिक सद्भाव की या रूढ़िवाद के विरुद्ध जागरूकता की – गांधीजी ने तो जीवन और समाज के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं पर लोगों को एक रास्ता दिखने की कोशिश की थी. उनका अपना जीवन भी ऐसी बुराइयों के खिलाफ शांतिपूर्ण आन्दोलन चलाते बीता.

Oct 2, 2018, 11:33 AM IST

कितनी यादगार होंगी अटल घोषणाएं, योजनाएं या स्मारक?

इसमें कोई शक नहीं है कि वाजपेयी देश के उन कुछ राजनीतिक नेताओं में हैं जिनकी लोकप्रियता दलों की सीमाओं से बंधी नहीं है. 

Aug 24, 2018, 07:30 PM IST

भारतीय राजनीतिः उतार चढ़ाव के नए रंग

समाजवादी पार्टी के नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जिस तेजी से एक ‘युवा’ नेता के तौर पर उभरे थे, उसी तेजी से वे बसपा और कांग्रेस से गठबंधन करने की संभावनाओं पर सार्वजानिक कोशिश करने के बाद कमजोर पड़ते दिख रहे हैं.

Jul 30, 2018, 06:33 PM IST

कर्नाटक ने राजनीतिक पार्टियों को दिखाए कई रास्ते

सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने के बाद भाजपा के लिए भले ही अभी सरकार बनाने में थोडा समय लगे, लेकिन सत्ता से बाहर हुई कांग्रेस के लिए पूर्व मुख्य मंत्री सिद्धारमैया और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की मेहनत रंग न दिखा पाई.

मई 15, 2018, 02:43 PM IST

Opinion: अखिलेश यादव के बहुत जल्द, बहुत ज्यादा के पीछे क्या है?

कर्नाटक में भाजपा-विरोधी प्रचार को धार देने के लिए अखिलेश यादव के साथ उप्र की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के कर्नाटक जाने की ख़बरों पर फिलहाल सिद्धारमैया की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

Apr 28, 2018, 02:17 PM IST

Opinion : BJP की दक्षिण विजय की राह में आने वाले रोड़े!

दक्षिण भारत में कर्नाटक एकमात्र राज्य है जहां भाजपा एक बार सत्ता में रह चुकी है, और पार्टी यहां की जीत के बल पर दक्षिण के राज्यों में अपनी पैठ बनाने की संभावनाओं के द्वार खोलना चाहती है.

Apr 10, 2018, 01:17 PM IST

सपा-बसपा गठबंधन : दूरियां कम करने की इच्छा, लेकिन 'ईगो' का क्या होगा?

अखिलेश भले ही अपनी ओर से सपा और बसपा के बीच दूरियां कम करने के इच्छुक हों, लेकिन ऐसे गठबंधन का नेतृत्त्व वे खुद ही करना चाहेंगे इसमें किसी को संदेह नहीं है.

Mar 7, 2018, 02:10 PM IST

जनाधार के बिना BJP को पूर्वात्तर में आखिर कैसे मिली कामयाबी

त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय के चुनाव नतीजों के बाद एक बड़ा सवाल उठता है – आखिर भारतीय जनता पार्टी ऐसा क्या कर रही है कि उसे ऐसे राज्यों में भी सफलता मिल रही है जहां उसका कोई जनाधार कुछ साल पहले तक नहीं था? 

Mar 3, 2018, 03:22 PM IST

Zee Analysis : BJP से रिश्ता तोड़ने से शिवसेना को कितना फायदा!

2014 में हुए महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में शिवसेना-भाजपा का गठबंधन टूट गया था और दोनों पार्टियों ने स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ा था.

Jan 23, 2018, 06:04 PM IST

Zee Analysis : BJP को जीत तो मिली लेकिन जश्न नहीं, सावधान रहने का संकेत!

गुजरात में भाजपा पिछले 22 वर्षों से सत्ता में है, और यहां के निवासी आमतौर पर राजनीतिक प्रयोगों से दूर रहते हैं. गठबंधन की सरकारें और राजनीतिक अस्थिरता यहां के मिजाज में नहीं हैं.

Dec 19, 2017, 12:11 PM IST

यूपी निकाय चुनाव : भाजपा की बढ़ती राजनीतिक स्वीकार्यता

उत्तरप्रदेश में नगर निकाय चुनाव में सबकी अपेक्षा के अनुरूप नतीजे आए हैं. भारतीय जनता पार्टी का कहना है कि उनकी पार्टी ने जिस गंभीरता से चुनाव प्रचार किया था यह उसका परिणाम है कि पार्टी को अधिकतर निकायों में जीत मिली है. 

Dec 1, 2017, 06:24 PM IST