Microsoft ने कहा- AI की मदद से पूरा होगा "मॉडर्न इंडिया" का सपना

इंटरनेट के बढ़ते इस्तेमाल की वजह से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल सरकारी योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के लिए किया जा सकता है.

Microsoft ने कहा- AI की मदद से पूरा होगा "मॉडर्न इंडिया" का सपना
माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के अध्यक्ष अनंत महेश्वरी.

मुंबई: टेक्नोलॉजी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने बुधवार को आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर 'एज ऑफ इंटेलिजेंस' शीर्षक श्वेत पत्र जारी करते हुए कहा कि एआई के माध्यम से भारतीयों को सशक्त बनाया जा सकता है. इस श्वेत पत्र में कहा गया है कि स्वास्थ्य सेवाएं, रोजगार, शिक्षा, सरकारी सेवाओं में एआई के प्रयोग से सामाजिक-आर्थिक अवसरों का कम सुविधाओं वाले वर्ग तक विस्तार हो सकता है. इस श्वेत पत्र का अनावरण नैस्कॉम टेक्नॉलॉजी एंड लीडरशिप फोरम (एनटीएलएफ) 2019 में किया गया.

'एज ऑफ इंटेलिजेंस' में एआई के संबंध में चुनौतियों और अवसरों का प्रारूप दिया गया है और बताया गया है कि किस प्रकार उचित सरकारी नीतियों, नवीनतम प्रौद्योगिकीयों जैसे इंटरनेट का बढ़ता उपयोग और कनेक्टिविटी मिलकर आने वाले समय में डिजिटल परिवर्तन के लाभ को कम सुविधाओं वाले वर्ग तक पहुंचाने में सक्षम होंगे. इसमें क्लाउड अवसंरचना और इंटेलिजेंट क्लाउड सेवाओं का तीव्र क्रियान्वयन एआई को अपनाने में प्रमुख भूमिका अदा करेगा.

देश में नौकरी करने के लिए ये 3 कंपनियां सबसे अच्छी

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के अध्यक्ष अनंत महेश्वरी ने कहा, "हमारा उद्देश्य एआई में मानव-केंद्रित दृष्टिकोण समाहित करना है. भारत में अभी एआई अपनाने की शुरुआत हुई है. चार आधारभूत स्तंभों - उद्योगों में डिजिटल परिवर्तन संभव बनाने, इनोवेशन के लिए सहयोग करने, भविष्य के लिए तैयार कार्यबल निर्मित करने और सतत सामाजिक प्रभाव उत्पन्न करने में एआई के उपयोग से इसे गति मिलेगी. एआई के विकास और उपयोग के लिए यह सब एक विकसित नैतिक ढांचे के तहत किया जाना चाहिए."

भारत में भाषाई विविधता है, यहां AI का बेहतर इस्तेमाल होगा
माइक्रोसॉफ्ट ने कहा कि उदाहरण के लिए भारत की भाषाई विविधता एवं साक्षरता के कारण समावेशन एक बड़ी चुनौती है. डिजिटल भाषा की बाधा के कारण नागरिकों को सेवाएं आसानी से उपलब्ध नहीं है. एआई इस बाधा को दूर करने में मुख्य भूमिका निभा रहा है तथा सभी मुख्य भारतीय भाषाओं के लिए वॉयस रिकग्निशन, टेक्स्ट टू स्पीच एवं ट्रांसलेशन संभव बना रहा है. एक बार यह पूरा उपलब्ध हो जाने के बाद सभी सेवाएं सभी नागरिकों को उनकी पसंद की भाषा में दी जा सकेंगीं. माइक्रोसॉफ्ट सभी प्रमुख भारतीय भाषाओं में ये सेवाएं प्रदान करने के लिए डेवलपर्स के साथ मिलकर काम कर रहा है.

AI की मदद से बर्बादी पर बेहतर लगाम लगाया जा सकता है
कंपनी ने कहा कि एआई टूल्स सरकारों को अपने नागरिकों से ज्यादा प्रभावशाली तरीके से कनेक्ट होने, बर्बादी रोकने और महत्वपूर्ण जानकारी को सुरक्षित करने में मदद करते हैं. माइक्रोसॉफ्ट की स्मार्ट सिटीज- इंटेलिजेंट टेक्नॉलॉजी और सिटिजन सर्विसेज टूल्स सामान्य चुनौतियों जैसे शुल्क और टोल प्रबंधन, ट्रैफिक के ऑप्टिमाइजेशन के लिए डिजाइन किए गए हैं. ये ट्रैकिंग, सर्च और कन्वर्सेशनल बॉट्स द्वारा नागरिकों को समेकित सरकारी सेवाओं की आसान उपलब्धता प्रदान करते हैं.

(इनपुट-आईएएनएस)