सावधान! WhatsApp पर नया घोटाला खाली कर देगा आपका बैंक अकाउंट, अगर ऐसा मैसेज आए तो तुरंत करें Delete
X

सावधान! WhatsApp पर नया घोटाला खाली कर देगा आपका बैंक अकाउंट, अगर ऐसा मैसेज आए तो तुरंत करें Delete

Whatsapp पर नया घोटाला सामने आया है. इस ट्रिक से घोखेबाज आपके बैंक अकाउंट को खाली कर सकते हैं. अगर आपने ऑनलाइन ऑर्डर किया है, तो आप इस चीज से सावधान हो जाएं...

सावधान! WhatsApp पर नया घोटाला खाली कर देगा आपका बैंक अकाउंट, अगर ऐसा मैसेज आए तो तुरंत करें Delete

नई दिल्ली. जब से दुनिया में कोरोना वायरस की महामारी फैली है, तब से ऑनलाइन घोटाले बढ़ रहे हैं. सुरक्षा शोधकर्ताओं ने यूजर्स को एक नए डिलिवरी घोटाले के बारे में चेतावनी दी है जो कि चर्चा में है. स्कैमर वॉट्सएप के माध्यम से दुर्भावनापूर्ण लिंक वाले संदेश भेजते हैं और यूजर्स को उनके ऑनलाइन ऑर्डर के बारे में सूचित करते हैं. निर्दोष यूजर्स घोटाले के शिकार हो जाते हैं और अपनी सारी बैंक बचत खो देते हैं. यदि आप काफी फुर्तीले हैं, तो आप इस तरह के घोटालों के लिए कभी नहीं पड़ेंगे, लेकिन झांसे में आकर आप सारी डिटेल जाल देंगे, तो स्कैमर को फायदा हो जाएगा.

ऐसे करते हैं ठगी

Kaspersky लैब के रूसी सुरक्षा शोधकर्ताओं ने पैकेज वितरण घोटालों के बारे में चेतावनी जारी की है जो बढ़ रहे हैं. शोधकर्ताओं ने खुलासा किया कि हमलावर ऑनलाइन डिलीवरी कंपनियों के अधिकारियों के रूप में सामने आए. फिर वे उस व्यक्ति को एक पैकेज के बारे में सूचित करते हैं जिसे उनके घर तक पहुंचाने की आवश्यकता होती है. हालांकि, यह प्रक्रिया उतनी सहज नहीं है जितनी दिखाई देती है. साइबर अपराधी तब यूजर्स को प्रक्रिया को पूरा करने के लिए संदेश के साथ दिए गए लिंक पर क्लिक करने के लिए कहते हैं. उन्हें यह सुनिश्चित करने के लिए एक छोटा सा भुगतान करने के लिए कहा जाता है कि उत्पाद सुरक्षित रूप से उनके निवास तक पहुंचा दिया जाए.

नकली वेबसाइट ले जाया जाता है

कास्परस्की लैब ने कहा, ' प्राप्तकर्ता द्वारा भुगतान की आवश्यकता वाले अप्रत्याशित पार्सल इस पिछली तिमाही में सबसे आम चालों में से एक रहे. 'मेल कंपनी' के चालान का कारण सीमा शुल्क से लेकर शिपमेंट लागत तक कुछ भी हो सकता है. सेवा के लिए भुगतान करने का प्रयास करते समय, जैसा कि मुआवजा धोखाधड़ी, पीड़ितों को एक नकली वेबसाइट पर ले जाया गया, जहां उन्होंने न केवल राशि खोने का जोखिम उठाया बल्कि उनके बैंक कार्ड के विवरण को भी फैलाने का जोखिम उठाया.'

ऐसे लेते हैं बैंक डिटेल

जब उपयोगकर्ता लिंक पर क्लिक करता है, तो उसे एक नकली वेबसाइट पर ले जाया जाता है, जहां उसे छोटा भुगतान करने के लिए अपने बैंक विवरण दर्ज करने के लिए कहा जाता है. ऐसा तब होता है जब ग्राहक को अपने ऑनलाइन ऑर्डर के बारे में कुछ भी याद नहीं रहता है. 

ऑनलाइन डिलिवरी एप नहीं करने को कहती ऐसा

जब आप Amazon या Flipkart से कुछ खरीदते हैं, तो आप जानते हैं कि आपने क्या ऑर्डर किया है और पार्सल आपको कब डिलीवर किया जाएगा. ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके पास ऐप पर एक ट्रैकर है और आपको उत्पादों के स्थान के बारे में संदेश भी मिलते हैं. कोई भी कंपनी आपको सुरक्षित डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए कभी भी भुगतान करने के लिए नहीं कहेगी, भले ही आपने भुगतान के कैश ऑन डिलीवरी मोड का विकल्प चुना हो. ऑर्डर पहले आपको डिलीवर किया जाएगा और फिर आप भुगतान कर सकते हैं या आप अपने वॉलेट या कार्ड का उपयोग करने से पहले पैसे का भुगतान कर सकते हैं। कोई अतिरिक्त भुगतान नहीं लिया जाएगा चाहे कुछ भी हो जाए.

ऐसे बचें

शोधकर्ताओं ने उपयोगकर्ताओं को ऐसे ईमेल से सावधान रहने और हमेशा उन संदेशों के स्रोत की जांच करने के लिए कहा है जो बहुत विश्वसनीय नहीं लगते हैं. आपको कभी भी किसी ऐसे लिंक पर क्लिक नहीं करना चाहिए जिसमें वेबसाइट का उचित पता न हो या संदिग्ध लगे. ऐसे खतरों, फ़िशिंग हमलों को दूर रखने के लिए सुरक्षा समाधान स्थापित करने की सलाह दी जाती है.

Trending news