वैक्सीन से Blood Clot की शिकायतों के बीच, कई और देशों ने लगाई AstraZeneca के इस्तेमाल पर अस्थायी रोक

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) ने कहा कि एहतियात के तौर पर AstraZeneca की कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल पर अस्थायी रोक लगाई गई है. उन्होंने कहा कि रोक तब तक जारी रहेगी, जब तक कि यूरोपियन मेडिसिंस एजेंसी की ओर से वैक्सीन की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं की जाती.   

वैक्सीन से Blood Clot की शिकायतों के बीच, कई और देशों ने लगाई AstraZeneca के इस्तेमाल पर अस्थायी रोक
फाइल फोटो

बर्लिन: एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca) की कोरोना  वैक्सीन (Corona Vaccine) लगने के बाद खून के थक्के जमने (Blood Clot) की शिकायतों को ध्यान में रखते हुए जर्मनी, फ्रांस, इटली और स्पेन (Germany, France, Italy and Spain) ने भी वैक्सीन के इस्तेमाल पर अस्थायी रोक लगा दी है. इससे पहले, आयरलैंड ने रोक लगाने का फैसला लिया था. हालांकि, AstraZeneca और वैश्विक स्वास्थ्य अधिकारियों ने दावा किया है कि टीका पूरी तरह सुरक्षित है. इटली ने इस संबंध में एक बयान जारी करते हुए कहा कि यह फैसला अन्य यूरोपीय देशों की ओर से उठाए गए कदमों के मद्देनजर लिया गया है. 

Emmanuel Macron ने कही ये बात

इटली के उत्तरी पिडमोंट क्षेत्र में 57 वर्षीय एक शिक्षक ने शनिवार को टीका लगवाया था और रविवार सुबह उसकी मौत हो गई. वहीं, फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) ने कहा कि एहतियात के तौर पर AstraZeneca के इस्तेमाल पर अस्थायी रोक लगाई गई है. उन्होंने कहा कि यह रोक कम से कम मंगलवार दोपहर तक जारी रहेगी, जब तक यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी की ओर से इस पर राय नहीं दी जाती.  

ये भी पढ़ें -महाराष्ट्र में कोरोना के मामले बढ़े, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन्स

AstraZeneca ने बताया सुरक्षित 

स्पेन ने कहा है कि वो दो हफ्तों के लिए वैक्सीन के इस्तेमाल को रोक रहा है, जब तक विशेषज्ञ वैक्सीन की सुरक्षा की समीक्षा नहीं कर लेते. उधर, जर्मनी ने भी सोमवार को कहा कि खून का थक्का जमने की रिपोर्ट्स के बाद एस्ट्राजेनेका का इस्तेमाल फिलहाल रोक दिया गया है. बता दें कि जर्मनी यूरोप का सबसे बड़ा देश है जिसने इस वैक्सीन पर रोक लगाई है. जबकि कंपनी का कहना है कि उसकी वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है. AstraZeneca ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि विभिन्न देशों में 17 मिलियन से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है और खून थक्का जमने की केवल 37 रिपोर्ट सामने आई हैं. कंपनी ने आगे कहा कि इसके कोई सबूत नहीं हैं कि वैक्सीन से खून का थक्का जमने का खतरा बढ़ जाता है.

Thursday को बुलाई समीक्षा बैठक

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और यूरोपीय संघ की यूरोपियन मेडिसिंस एजेंसी ने भी कंपनी के दावे का समर्थन करते हुए कहा कि मौजूदा आंकड़े यह नहीं बताते कि खून के थक्के जमने और टीका लगने के बीच कोई संबंध है. इस बीच, यूरोपीय संघ की औषधि नियामक एजेंसी ने AstraZeneca के बारे में विशेषज्ञों के निष्कर्षों की समीक्षा के लिए गुरुवार को बैठक बुलाई है. ब्रिटिश स्वीडिश दवा कंपनी AstraZeneca और ब्रिटेन के दवा नियामक ने कहा है कि कोरोना 9 से सुरक्षा के लिए AstraZeneca के साथ मिलकर ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन सुरक्षित है.  

Ireland पहले ही लगा चुका है रोक

इससे पहले, नॉर्वे में एस्ट्राजेनेका टीकाकरण के बाद खून के थक्के जमने के गंभीर मामले सामने आने के बाद आयरलैंड ने इस पर अस्थायी रोक का ऐलान किया था. आयरलैंड के डिप्टी चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ. रोनन ग्लिन ने कहा था कि नॉर्वे की मेडिसिंस एजेंसी के मुताबिक एस्ट्राजेनेका टीका लगने के बाद वयस्कों में खून के थक्के जमने के चार मामले सामने आए, जिसके बाद इस पर रोक लगाने का फैसला लिया गया. उन्होंने कहा कि था हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि टीका और इन मामलों के बीच क्या संबंध हैं, लेकिन रोक एहतियात के तौर पर लगाई गई है. इसी तरह, नीदरलैंड ने भी वैक्सीन के इस्तेमाल को रोक दिया है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.