जानिए क्या है कोरोना वायरस, जिसके खौफ से पूरी दुनिया में मचा है हाहाकार, बचने के हैं ये उपाय

चीन में रहस्यमयी कोरोना वायरस(Coronavirus) से मरने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है. 

जानिए क्या है कोरोना वायरस, जिसके खौफ से पूरी दुनिया में मचा है हाहाकार, बचने के हैं ये उपाय
भारत इस रहस्यमयी कोरोनावायरस पर बारीकी से निगरानी कर रहा है.(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: चीन में रहस्यमयी कोरोना वायरस(Coronavirus) से मरने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है. स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि खतरनाक कोरोना वायरस की चपेट में आने से अबतक 25 लोगों की मौत हो गई है. जबकि इसके 830 मामलों की पुष्टि की गई है. हुबेई प्रांत में 24 और हेबेई में एक की मौत हुई है. गुरुवार मध्यरात्रि तक, हांगकांग में दो, मकाऊ में दो और ताइवान में एक मामले की पुष्टि हुई. थाईलैंड में तीन मामलों की पुष्टि की गई थी, जिनमें से दो मरीज अब ठीक हैं. जापान में इस रोग की चपेट में आया एक मरीज अब ठीक है. जबकि दक्षिण कोरिया, अमेरिका और सिंगापुर में एक-एक और वियतनाम में दो मामलों की पुष्टि हुई है. वहीं, भारत इस रहस्यमयी कोरोनावायरस पर बारीकी से निगरानी कर रहा है. बीजिंग में भारतीय दूतावास वुहान में चीनी अधिकारियों के साथ-साथ हुबेई प्रांत में भारतीयों के संपर्क में है.
 
क्या है कोरोना वायरस
कोरोना असल में वायरसों का एक बड़ा समूह है जो जानवरों में आम है. अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीएस) के अनुसार, कोरोना वायरस जानवरों से मनुष्यों तक पहुंच जाता है. नया चीनी कोरोनो वायरस, सार्स वायरस की तरह है. इसके संक्रमण से बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्याएं हो जाती हैं. यह न्यूमोनिया का कारण भी बन सकता है. 

यह भी देखें:-

हांगकांग विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के वायरोलॉजिस्ट लियो पून, जिन्होंने पहले इस वायरस को डिकोड किया था, उन्हें लगता है कि यह संभवतः एक जानवर में शुरू हुआ और मनुष्यों में फैल गया.

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के उपाय:-

  • जिन्हें सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण हों, उनके साथ करीबी संपर्क बनाने से बचें.
  • अपने हाथ साबुन और पानी या अल्कोहल युक्त हैंड रब से साफ करें.
  • मीट और अंडों को अच्छे से पकाएं.
  • खांसते या छींकते वक्त अपनी नाक और मुंह को टिश्यू या मुड़ी हुई कोहनी से ढकें.
  • जंगल और खेतों में रहने वाले जानवरों के साथ असुरक्षित संपर्क न बनाएं.