भारत, चीन, पाकिस्तान बढ़ा रहे हैं अपने परमाणु हथियार, SIPRI रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा

दुनिया में नौ देशों अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस, चीन, भारत, पाकिस्तान, इजराइल और उत्तर कोरिया के पास परमाणु हथियार हैं. 

भारत, चीन, पाकिस्तान बढ़ा रहे हैं अपने परमाणु हथियार, SIPRI रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा
फाइल फोटो

नई दिल्ली: चीन, पाकिस्तान और भारत के पास इस साल जनवरी तक क्रमश: 350, 165 और 156 परमाणु आयुध हैं और ऐसा प्रतीत होता है कि तीनों देश अपने परमाणु शस्त्रागारों का विस्तार कर रहे हैं. स्टॉकहोम अंतरराष्ट्रीय शांति अनुसंधान संस्थान (एसआईपीआरआई) के एक अध्ययन में यह जानकारी दी गई है.

9 देशों के पास आधिकारिक तौर पर परमाणु हथियार

एसआईपीआरआई के अनुसार, अनुमानित 13,080 वैश्विक परमाणु हथियारों का 90 प्रतिशत से भी अधिक हिस्सा रूस और अमेरिका के पास है. एसआईपीआरआई के अध्ययन में सोमवार को बताया गया कि पिछले साल जनवरी तक चीन, पाकिस्तान और भारत के पास क्रमशः 320, 160 और 150 परमाणु हथियार थे. दुनिया में नौ देशों अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस, चीन, भारत, पाकिस्तान, इजराइल और उत्तर कोरिया के पास परमाणु हथियार हैं. अध्ययन में कहा गया है, 'चीन अपने परमाणु हथियारों का आधुनिकीकरण और विस्तार कर रहा है, और भारत और पाकिस्तान भी अपने परमाणु शस्त्रागार का विस्तार कर रहे हैं.'

भारत-चीन में हुई थी तनातनी

पूर्वी लद्दाख में पांच मई, 2020 को भारत और चीन की सेनाओं के बीच हुए सैन्य गतिरोध को एक साल से अधिक समय हो गया और इस दौरान दोनों पक्षों के जवान हताहत हुए थे. भारत और पाकिस्तान ने इस साल 25 फरवरी को अपने सैन्य अभियानों के महानिदेशकों के बीच बातचीत के बाद नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम की घोषणा करते हुए एक संयुक्त बयान जारी किया था. एसआईपीआरई के अध्ययन में उन कच्चे माल के भंडारों के बारे में भी बात की गई है जो अपने परमाणु हथियार बनाने के लिए देशों के पास हैं.

प्लूटोनियम बढ़ा रहे हैं परमाणु शक्ति संपन्न देश

उसने कहा, 'परमाणु हथियारों के लिए कच्चा माल विखंडनीय सामग्री है, यह या तो अत्यधिक संवर्धित यूरेनियम (एचईयू) है या पृथक प्लूटोनियम ... भारत और इजराइल ने मुख्य रूप से प्लूटोनियम का उत्पादन किया है, और पाकिस्तान ने मुख्य रूप से एचईयू का उत्पादन किया है, लेकिन वह अब प्लूटोनियम का उत्पादन करने की अपनी क्षमता बढ़ा रहा है.' अध्ययन में उल्लेख किया गया है कि चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका ने अपने परमाणु हथियारों में उपयोग के लिए एचईयू और प्लूटोनियम दोनों का उत्पादन किया है.

भारत-पाकिस्तान नहीं देते हथियारों की जानकारी

इसमें कहा गया है, 'भारत और पाकिस्तान की सरकारें अपने कुछ मिसाइल परीक्षणों के बारे में बयान देती हैं लेकिन वे अपने (परमाणु) शस्त्रागार की स्थिति या आकार के बारे में कोई जानकारी नहीं देती हैं.' ‘एसआईपीआरआई ईयरबुक 2021’ में उल्लिखित अध्ययन में कहा गया है कि दुनिया में कुल 13,080 वैश्विक परमाणु आयुधों में से लगभग 2,000 आयुध को "उच्च परिचालन अलर्ट की स्थिति में रखा गया है.'

हथियार खरीद में दूसरे नंबर पर भारत

उसने यह भी कहा कि सऊदी अरब, भारत, मिस्र, ऑस्ट्रेलिया और चीन 2016 और 2020 के बीच दुनिया में प्रमुख हथियारों के पांच सबसे बड़े आयातक थे. इस समयावधि में प्रमुख हथियारों के वैश्विक आयात में सऊदी अरब की 11 प्रतिशत और भारत की 9.5 प्रतिशत हिस्सेदारी थी.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.