बार में घुसे युवक, महिला को घसीटकर बाहर निकाला और पार की हैवानियत की हद
X

बार में घुसे युवक, महिला को घसीटकर बाहर निकाला और पार की हैवानियत की हद

एक महिला के साथ केवल इसलिए बेरहमी से मार-पिटाई की गई, क्योंकि आरोपी युवकों को उसके समलैंगिक होने का शक था. ये वारदात कैमरून की राजधानी में दिनदहाड़े हुई. इस मामले में पुलिस की भूमिका पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं, क्योंकि उसने गिरफ्तारी के महज कुछ ही घंटों में एक आरोपी को छोड़ दिया. 

बार में घुसे युवक, महिला को घसीटकर बाहर निकाला और पार की हैवानियत की हद

योंडे: बार (Bar) में काम करने वाली एक महिला (Woman) के साथ कुछ युवकों ने जमकर मारपीट की. वो उसे घसीटते हुए बाहर ले गए और काफी देर तक प्रताड़ित करते रहे. इस दौरान, उसके कपड़े फाड़े गए और अश्लील हरकतें भी की गईं. दिनदहाड़े कैमरून (Cameroon) की राजधानी योंडे में हुई इस घटना की हर तरफ निंदा हो रही है. मानवाधिकार संगठनों ने सरकार से आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है.

पूरे शरीर पर चोटों के निशान

'डेली स्टार' की रिपोर्ट के अनुसार, सारा (Sara) नामक एक महिला स्थानीय बार में वेटर्स का काम करती है. 15 अक्टूबर को कुछ युवक बार में आए और अचानक उसके साथ मारपीट करने लगे. आरोपियों ने घटना का वीडियो भी बनाया और बाद में उसे वायरल कर दिया. महिला को गंभीर चोटें आईं हैं. डॉक्टरों का कहना है कि उसके पूरे शरीर पर चोट के निशान है. उसे कम से कम 15 दिनों तक चिकित्सीय निगरानी में रखना होगा.

ये भी पढ़ें -शादी के बाद से हर साल प्रेग्नेंट हुई ये महिला, अब तक दे चुकी है इतने बच्चों को जन्म

इस वजह से हुआ महिला पर हमला 

सारा ने पुलिस को बताया कि कुछ युवक बार में आए और उसे बालों से घसीटते हुए बाहर ले गए, जहां उसके साथ मारपीट और अश्लील हरकतें की गईं. दरअसल, युवकों को शक था कि सारा LGBT समुदाय से ताल्लुख रखती है और इसी बात को लेकर वो नाराज थे. बता दें कि कैमरून में समलैंगिक होना गैरकानूनी है. यहां दोषी पाए जाने पर पांच साल की सजा भी हो सकती है.

पुलिस को लेकर लोगों में गुस्सा 

वहीं, मामला सामने आने के बाद सरकार पर कार्रवाई का दबाव बढ़ गया है. LGBT संगठनों का कहना है कि इस तरह किसी को निशाना बनाना अपराध है. सारा के साथ जिन लोगों ने मारपीट की है उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए. उधर, कैमरून फाउंडेशन फॉर एड्स नामक संस्था ने सारा की तरफ से पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है. पुलिस ने इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार भी किया था, लेकिन महज 48 घंटों के अंदर ही उसे छोड़ दिया गया. इसे लेकर भी लोगों में गुस्सा है.

 

Trending news