सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद की प्रतिक्रिया, कहीं फिर पलटी तो नहीं मारेंगे अजित पवार ?

महाराष्ट्र मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ गया है. कल फ्लोर टेस्ट कराया जाएगा और तब मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस या यूं कहें कि भाजपा की अग्निपरीक्षा होगी. प्रोटेम स्पीकर का चुनाव होगा और प्रोटेम स्पीकर ही फ्लोर टेस्ट कराएंगे. इस बीच संविधान दिवस के मौके पर सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को तमाम नेता, वकील ऐतिहासिक बता रहे हैं. 

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद की प्रतिक्रिया, कहीं फिर पलटी तो नहीं मारेंगे अजित पवार ?

नई दिल्ली: कांग्रेस के पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि संविधान दिवस पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला काबिल-ए-तारीफ है. वे इस फैसले से काफी संतुष्ट हैं. उन्होंने कहा कि "कल सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक प्रोटेम स्पीकर का चुनाव होगा और इसके बाद 5 बजे भाजपा का शक्ति परीक्षण किया जाएगा. इसके अलावा उन्होंने देवेंद्र फड़णवीस को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने को भी कहा". इसके अलावा एनसीपी के नवाब मलिक ने कहा कि "सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भाजपा का खेल अब खत्म हो गया है. 27 को फ्लोर टेस्ट में दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा और कुछ ही दिनों में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की सरकार होगी."

संजय राउत ने कहा सत्य परेशान हो सकता है पराजित नहीं

शिवसेना के संजय राउत ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ट्विटर से लगातार दो ट्वीट कर कहा कि सत्यमेव जयते. सत्य परेशान हो सकता है.पराजित नही हो सकता. जय हिंद!. इसके पहले सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि आज संविधान दिवस के दिन अदालत ने जो फैसला सुनाया है, वह स्वागत योग्य है और वे काफी खुश हैं. 

फैसले के बाद कहीं पलटेंगे तो नहीं अजित पवार

इस फैसले के बाद शिवसेना और एनसीपी के नेता अजित पवार को मनाने में लगे हुए हैं. फ्लोर टेस्ट से पहले अजित पवार को साथ लाने के लिए एनसीपी की सुप्रिया सुले को लगाया गया है और सूत्रों की मानें तो सु्प्रिया सुले आज भी अजित पवार से मिलने पहुंच रही हैं. उनके साथ छगन भुजबल भी लगे हुए थे. इसके पहले अजित पवार ने भाजपा से अपनी नजदीकी भी पिछले दिनों ही कम कर दी. सूत्रों के हवाले से खबर आई कि अजित पवार ने सिक्रेट मीटिंग के बाद कहा कि वे जल्द फैसला लेंगे कि उन्हें क्या करना है. इस मीटिंग में उनके साथ कांग्रेस नेता कमलेश सुतार और प्रफुल्ल पटेल भी थे. अजित पवार इसके बाद मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस से मिलने वर्षा पहुंचे हैं.