नागरिकता कानूनः अलर्ट पर दिल्ली पुलिस, जवानों की छुट्टियां रद्द

 कहा जा रहा है कि मंडल आयोग के विरोध प्रदर्शन के बाद दिल्ली में यह सबसे बड़ा प्रदर्शन का दिन हो सकता है. इसमें एक साथ दिल्ली के विभिन्न इलाकों में 40 से अधिक मोर्चे खुल सकते हैं. प्रोटेस्ट से निपटने के लिए दिल्ली पुलिस ने दिल्ली से यूपी और हरियाणा के तमाम जिलों के कप्तान और कमिश्नर से बात कर दिल्ली में शांति बनाए रखने में मदद मांगी है.

नागरिकता कानूनः अलर्ट पर दिल्ली पुलिस, जवानों की छुट्टियां रद्द

नई दिल्लीः दिल्ली पुलिस के लिए शुक्रवार (आज) का दिन और भी अधिक चुनौती भरा हो सकता है. खुफिया इनपुट में शुक्रवार को दोपहर बाद दिल्ली में हालात बिगड़ने के संकेत दिए गए हैं. कहा जा रहा है कि मंडल आयोग के विरोध प्रदर्शन के बाद दिल्ली में यह सबसे बड़ा प्रदर्शन का दिन हो सकता है. इसमें एक साथ दिल्ली के विभिन्न इलाकों में 40 से अधिक मोर्चे खुल सकते हैं. प्रोटेस्ट के दौरान तोड़फोड़, आगजनी और दंगा भड़काने के लिए इंडियन मुजाहिदीन और सिमी से जुड़े कट्टरपंथी मॉड्यूल तैयारी के साथ प्रोटेस्ट में शामिल हो चुके हैं. ये इनपुट्स खुफिया एजेंसियों ने दिल्ली पुलिस के साथ साझा किए हैं.

प्रोटेस्ट से निपटने के लिए दिल्ली पुलिस ने दिल्ली से यूपी और हरियाणा के तमाम जिलों के कप्तान और कमिश्नर से बात कर दिल्ली में शांति बनाए रखने में मदद मांगी है. यह भी बताया जा रहा है कि शुक्रवार को नई दिल्ली जिले और कुछ और चुनिंदा पॉइंट्स को छोड़ते हुए बड़े इलाके में इंटरनेट सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं.

पुलिस ने सोशल मीडिया से लेकर जमीन तक की तैयारी
खासतौर से वॉट्सऐप, ट्विटर और फेसबुक पर वायरल होने वाली अफवाहों को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने पुख्ता इंतजाम किए हैं. पुलिस के साइबर सेल ने उन तमाम सोशल मीडिया अकाउंट्स को निगरानी पर रखा है, जो अफवाहें फैलाने में लगे हैं. पुलिस ने अपने तमाम जवानों और अफसरों की छुट्टियां रद्द कर दी हैं. साथ ही होम मिनिस्ट्री से भी अतिरिक्त फोर्स की मांग की गई है. इसके तहत रणनीति बनाई जा रही है कि गुरुवार रात से ही दिल्ली में बैरिकेडिंग कर दी जाए. शुक्रवार को भी दिल्ली में कई मेट्रो स्टेशन कुछ देर के लिए बंद किए जा सकते हैं.

नागरिकता कानून पर मचे संग्राम के 10 बड़े अपडेट

पुलिस को खुफिया सूचना मिली है कि प्रोटेस्ट के दौरान तोड़फोड़, आगजनी व दंगा भड़काने के लिए इंडियन मुजाहिदीन और सिमी से जुड़े कट्टरपंथी मॉड्यूल तैयारी के साथ प्रोटेस्ट में शामिल हो चुके हैं. ये इनपुट्स खुफिया एजेंसियों ने दिल्ली पुलिस के साथ साझा किए हैं. इस बात की तस्दीक दिल्ली पुलिस के अफसर ने की.

उन्होंने बताया कि इनपुट्स यह भी मिला था कि गुरुवार को होने जा रहे प्रोटेस्ट में बड़ी संख्या में मेवात, नूंह व उसके आसपास एरिया में करीब 25 हजार लोग गाड़ियों के जरिए दिल्ली में दाखिल होकर प्रदर्शन में हिंसा फैला सकते हैं. इसी के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने रात को ही गुड़गांव बॉर्डर पर बैरिकेड्स लगाकर पुख्ता इंतजाम कर दिए थे.

हिंसक प्रदर्शन करने वालों, सावधान, लगेंगी कड़े कानून की ये धाराएं