• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 3,01,609 और अबतक कुल केस- 8,78,254: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 5,53,471 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 23,174 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 62.92% से बेहतर होकर 63.01% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 18,850 मरीज ठीक हुए
  • कोविड-19 से ठीक होने वाले मामलों की संख्या, सक्रिय मामलों से 2,51,862 से ज्यादा, रिकवरी दर 63.01% पर पहुंची
  • देश भर में कोविड-19 की कुल 1194 प्रयोगशालाएं हो गई है. बीते 24 घंटे में 2.8 लाख से अधिक नमूनों की जांच की गई
  • मामलों की जल्द से जल्द से पहचान, सही समय पर निदान जैसे उपायों से देश में कोविड की वजह से मृत्यु दर सबसे न्यूनतम 2.66% है
  • भारतीय रेलवे ने पहली बार देश की सीमाओं से परे आंध्र प्रदेश से बांग्लादेश तक विशेष पार्सल ट्रेन लोड कर भेजा है
  • तराशे और पॉलिश किए गए हीरे के पुनः आयात के लिए 3 माह की छूट प्रदान की है, जिन्हें प्रमाणन और ग्रेडिंग के लिए विदेश भेजा जाता है
  • कोविड-19 से संबंधित मदद, सलाह और उपायों के लिए 24x7 टोल-फ्री राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करें
  • कोविड मरीजों के साथ दुर्व्यवहार न करें, एक सुरक्षित शारीरिक दूरी बनाए रखें

कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी को देखते हुए, दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर सील

तमाम प्रयासों के बाद भी कोरोना पर अब तक काबू नहीं पाया गया है. और यही वजह है कि गाजियाबाद ऑरेंज जोन से रेड जोन में आ चुका है जिसे देखते हुए दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर को सील  कर दिया गया है.

कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी को देखते हुए, दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर सील

गाजियाबाद: दिल्ली और गाजियाबाद बॉर्डर को एक बार फिर सील कर दिया गया है. बॉर्डर को सील बिल्कुल उसी तरह किया गया है जैसे कि लॉकडाउन 2 के समय किया गया था.

बता दें कि पिछले कुछ समय से गाजियाबाद में लगातार कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ती हुई देखी जा रही है जिसके चलते यह फैसला लिया गया है. यह व्यवस्था अग्रीम आदेश तक लागू रहेगी. लेकिन इसके साथ ही यह भी जानकारी दी गई है कि पुलिस, स्वास्थ्यकर्मी, बैंक कर्मचारी और मीडिया के लोगों को किसी प्रकार की पास की जरूरत नहीं है केवल उनका पहचान पत्र ही काफी है.

कुलगाम मुठभेड़: दो आतंकवादियों का खात्मा, हथियार बरामद और इंटरनेट सेवा बंद.

इसके अलावा एम्बुलेंस भी बिना किसी रोकटोक के आना-जाना कर सकती है. यह फैसला लगातार गाजियाबाद में बढ़ रहे कोरोना मरीजों के बाद किया गया है. बता दें कि गाजियाबाद ऑरेंज जोन से रेड जोन में आ चुका है. प्रशासन और सरकार के तमाम कोशिशों के बाद भी अभी तक कोरोना पर काबू नहीं पाया जा सका है.