कोटाः सीएम गहलोत बोले, 3-4 बच्चों की मौत रोज होती है, नई बात नहीं

मीडियाकर्मियों ने सीएम से पूछा था कि अस्पताल में बच्चों की जानें गई हैं, तो इसकी भरपाई कौन करेगा. इस पर जवाब देते हुए गहलोत ने कहा कि उनके पास आंकड़ें हैं कि बीते 6 सालों में इस साल सबसे कम जानें गई हैं. उन्होंने दावा किया कि इस साल केवल 900 मौतें हुई हैं. सीएम ने कहा कि एक भी बच्चे की मौत दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन मौतें 1400 भी हुई हैं, 1500 भी हुई हैं. इस साल तकरीबन 900 मौतें हुई हैं.

कोटाः सीएम गहलोत बोले, 3-4 बच्चों की मौत रोज होती है, नई बात नहीं

जयपुरः राजस्थान के कोटा में दस नवजात बच्‍चों की अचानक हुई मौत मामले पर प्रदेश के सीएम अशोक गहलोत ने बड़ा असंवेदनशील बयान दिया है. मीडिया से बात करते हुए शनिवार को उन्होंने कहा कि प्रदेश के हर अस्पताल में हर रोज 3-4 मौतें होती हैं. यह कोई नई बात नहीं है. उन्होंने इस दौरान दावा किया कि इस साल पिछले 6 सालों के मुकाबले सबसे कम मौतें हुई हैं.

बोले-बीते 6 सालों में इस साल सबसे कम जानें गई हैं
मीडियाकर्मियों ने सीएम से पूछा था कि अस्पताल में बच्चों की जानें गई हैं, तो इसकी भरपाई कौन करेगा. इस पर जवाब देते हुए गहलोत ने कहा कि उनके पास आंकड़ें हैं कि बीते 6 सालों में इस साल सबसे कम जानें गई हैं. उन्होंने दावा किया कि इस साल केवल 900 मौतें हुई हैं. सीएम ने कहा कि एक भी बच्चे की मौत दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन मौतें 1400 भी हुई हैं, 1500 भी हुई हैं. इस साल तकरीबन 900 मौतें हुई हैं.

'नई बात नहीं'
सीएम ने आगे कहा, '900 भी क्यों हुई हैं, वह भी नहीं होनी चाहिए. देश-प्रदेश के अंदर हर दिन हर अस्पताल के अंदर 3-4 मौतें होती हैं. इसमें कोई नई बात नहीं है. सीएम ने कहा कि इसके लिए उन्होंने जांच कराई है और ऐक्शन भी लिया है. उन्होंने कहा कि अपनी सरकार के पिछले टर्म में भी उन्होंने अस्पतालों के ऑपरेशन थिअटर को लंबे अंतराल के बाद अपग्रेड कराया था. गौरतलब है कि कोटा के जेकेलोन मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में दस नवजात बच्‍चों की अचानक मौत हो गई थी. इस महीने इसी अस्पताल में 77 बच्चों की मौत हो चुकी है.

Year Ender 2019: लोकसभा चुनाव में 'मोदी मैजिक' के आगे हर कोई हुआ फेल

ओम बिड़ला ने जताई चिंता
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने इसे चिंता का विषय बताते हुए राजस्थान सरकार से इस मामले में संवेदनशीलता के साथ तुरंत कार्रवाई करने की मांग की है. बता दें कि कोटा बिड़ला का संसदीय क्षेत्र है.

CAA हिंसा: दंगाइयों पर योगी सरकार का सख्त एक्शन जारी