• चीन भारत की बातचीत में भारत का नेतृत्व लेह स्थित 14वीं कोर के जनरल कमांडिंग ऑफिसर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने की
  • सूत्रों के अनुसार, 'चीन की तरफ से तिब्बत मिलिटरी डिस्ट्रिक्ट के कमांडर ने अगुआई की'
  • लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत से पहले स्थानीय कमांडरों के स्तर पर दोनों सेनाओं के बीच 12 राउंड बातचीत हो चुकी है
  • देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,15,942 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,36,656: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,14,072 जबकि अबतक 6,642 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • पिछले 24 घंटों में कुल 1.37 लाख कोरोना के नमूनों की जांच की गई. कुल परीक्षणों की संख्या 45.34 लाख से ज्यादा(ICMR)
  • कोविड-19 महामारी के बीच प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना से स्ट्रीट वेंडर्स को किफायती ऋण दिया जाएगा.
  • 6 मई से अब तक वंदे भारत मिशन के तहत करीब 64,000 लोगों को वापस लाया गया
  • आईएनएस जलाश्व के माध्यम से मालदीव और श्रीलंका से 2,700 भारतीय नागरिकों को स्वदेश वापस लाया गया
  • कोविड-19 के लक्षण दिखाई देने पर घबराएं नहीं, तुरंत 1075 डायल करें.

लॉकडाउन ने भारत को दिया अनोखा तोहफा, नदियों का पॉल्यूशन 'डाउन'

जानलेवा कोरोना वायरस आज इंसान का सबसे बड़ा दुश्मन बन गया है. लेकिन इस महामारी की वजह से कुछ ऐसे चमत्कार हो रहे हैं. जिसकी कल्पना शायद ही किसी ने की हो. कोरोना की वजह से पूरे देश में लॉकडाउन है. लेकिन इस लॉकडाउन की वजह से पर्यावरण के लिए लगातार अच्छी खबरें आ रही हैं.

लॉकडाउन ने भारत को दिया अनोखा तोहफा, नदियों का पॉल्यूशन 'डाउन'

नई दिल्ली: कोरोना को हराने के लिए भारत ने सबसा बड़ा और बेहतर हथियार लॉकडाउन को बनाया है. देश में 21 दिनों का लॉकडाउन चल रहा है. लेकिन इस लॉकडाउन के चलते देश के अलग-अलग कोने से काफी सारी अच्छी खबरें आ रही हैं. आपको एक-एक करके अलग-अलग शहरों के हालात से रूबरू कराते हैं.

दिल्ली

जो काम अब तक करोड़ों की सरकारी योजनाएं नहीं कर पाई वो लॉकडाउन ने कर दिखाया. कोरोना वायरस रोकने के लिए देशभर में लॉकडाउन का ऐलान हुआ और इसका नतीजा ये रहा कि भारत में प्रदूषण का स्तर रिकॉर्ड स्तर पर नीचे आ चुका है. जिसकी वजह से शहरों की हवा-पानी पूरी तरह शुद्ध हो गई.

ये लॉकडाउन का ही सबसे बड़ा परिणाम है कि जीवन दायनी, पतित पावनी गंगा नदी से लेकर विलुप्त होने की कगार पर खड़ी यमुना नदी नीले आसमान की तरह नजर आ रही है. दिल्ली में यमुना के इस अविरल धारा को देखकर हर कोई हैरान है.

वाराणसी, उत्तर प्रदेश

कोरोना वायरस के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए सरकार ने 21 दिन तक पूरे देश में लॉक डाउन जैसे ही किया तो गंगा का जंल स्वच्छ दिखने लगा. गंगा घाट पर पसरा ये सन्नटा पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कभी पर्यटकों से भरे रहने वाले गंगा घाट पर आज लोगों की हलचल नहीं बल्कि चिड़ियों की चहचहाहट सुनने को मिल रही है. जिसके बाद से गंगा की बहती निर्मल धारा अब साफ-सुथरी और नीले रंग की देखने को मिल रही है.

लॉकडाउन होने की वजह से गंगा में गिरने वाले फैक्ट्रियों से निकलने वाला वेस्टेज और केमिकल, जो गंगा को प्रदूषित करता था, वो पूरी तरह बंद है. लोग घाटों पर नहीं नही रहे हैं. इसलिए गंगा की स्थिति में इतना सुधार देखा जा रहा है. गंगा के साफ होने से वाराणसी के स्थानीय लोग काफी खुश नजर आ रहे हैं.

लॉकडाउन के दौरान गंगा-यमुना में बॉयोकेमिकल ऑक्सीजन डिमांड यानी बीओडी का लेवल घटकर 2.1 पर पहुंच चुका है. बीओडी लेवल घटने से गंगा-यमुना का जल अब पूरी तरह से नीला नज़र आ रहा है. हवा में पीएम-10 का लेवल यानी AQI भी पिछले कुछ सालों के सबसे अच्छे स्तर पर पहुंच गया है.

जानकारों का दावा है कि गंगा के प्रदूषण में भी कमी आई है और गंगाजल में 40 से 50 फीसदी सुधार हुआ है.

प्रयागराज, उत्तर प्रदेश

प्रयागराज में भी गंगा का पानी एक दम साफ दिखने लगा है. संगम तट पर रहने वाले तीर्थ पुरोहितों का मानना है कि पहले के मुकाबले जल की गुणवत्ता औऱ शुद्धता में काफी परिवर्तन हुआ है. पहले जो जल आचमन के लायक नहीं था उसकी मुख्य वज़ह थी कानपुर और आगरा की फैक्ट्रियां जिनका कूड़ा और कचरा सीधे गंगा में छोड़ा जा रहा था. लॉकडाउन के बाद फैक्ट्रियां बंद होने की वजह से गंदगी नहीं आ रही है और जल क़ी शुद्धता में सुधार हुआ है.

कानपुर, उत्तर प्रदेश

कानपुर में भी कुछ ऐसा ही नज़ारा है. यहां बहने वाली गंगा नदी का पानी इतना साफ है कि लोगों को यकीन ही नहीं हो रहा. लॉक डाउन के चलते कानपुर में गंगा तटों पर पक्षियों की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है. जो पहले सूना रहता था.

वहीं कानपुर में बड़े-बड़े कारेखाने और फैक्ट्रियों हैं जहां सले निकलने वाला हजारों लीटर केमिकल गंगा को दूषित कर रहा था लेकिन लॉकडाउन के बाद गंगा के प्रदूषण में भारी कमी आई है. शहर की आबोहवा बिल्कुल बदली हुई है जहां साफ गंगाजल देख लोग खुश हैं वहीं वायु प्रदूषण में भी कमी आई है.

जुहू चौपाटी, मुंबई

नदी ही नहीं लॉकडाउन का असर समंदरों के पानी पर भी दिख रहा है. तस्वीरें मुंबई के जुहू चौपाटी की है. पहले लहर के साथ समंदर में फेंके गए कचरे वापस तट पर लौट जाते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है.

जालंधर, पंजाब

ऐसी ही सुंदर नज़ारा पंजाब के जालंधर से भी दिखाई देने लगा है. जहां आसमान से ही हिमालय की चोटियां नज़र आने लगी. लॉकडाउन के दौरान वाहन सड़कों पर नहीं  हैं, फैक्ट्रियां बंद हैं और इसका सीधा असर प्रदूषण पर भी पड़ा है. आसमान ऐसा साफ हुआ कि जालंधर से बर्फीली पहाड़ियां दिखाई देने लगीं.

इसे भी पढ़ें: PM मोदी की अपील पर जगमगा उठा पूरा का पूरा Bollywood

इसे भी पढ़ें: आशाओं के दीप से जगमग देश, जानिए वैदिक काल से लेकर आज तक क्या है इसका महत्व