ऑनलाइन कारोबार बढ़ने से घबराए दुकानदार, करेंगे देशव्यापी बंद

आजकल ऑनलाइन का जमाना है. लगभग हर आदमी बिना दुकान पर गए ऑनलाइन वेबसाइट से वस्तुएं मंगाना पसंद करने लगा है. लेकिन इसकी वजह से दुकानदार घबराने लगे हैं. क्योंकि उनके रोजगार पर इसका बुरा असर दिख रहा है. इसीलिए देश भर के इलेक्ट्रोनिक दुकानदारों ने विरोध प्रदर्शन करने का फैसला किया है. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jan 4, 2020, 06:37 PM IST
    • आठ जनवरी को जयपुर बंद
    • जयपुर सहित प्रदेशभर में बंद रहेंगी मोबाइल दुकानें
    • ऑनलाइन ट्रेडर्स के एफडीआई नियमों की अनदेखी का विरोध
    • द राजस्थान सेलुलर एसोसिएशन का समर्थन
    • ऑनलाइन ट्रेडर्स पर लगाया खुदरा कारोबार प्रभावित करने का आरोप
    • जयपुर में 200 और प्रदेशभर में 2000 दुकानें हुई बंद
    • ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर घाटा सहकर मुनाफे से बदली ग्राहकी
    • केवल डिस्प्ले सेंटर बनकर रह गई हैं मोबाइल शॉप्स
    • केंद्र सरकार से की जाएगी नीति निर्धारण की मांग
ऑनलाइन कारोबार बढ़ने से घबराए दुकानदार, करेंगे देशव्यापी बंद

जयपुर: उपभोक्ताओं को तेजी से आकर्षित कर रही ऑनलाइन कंपनियों के खिलाफ रिटेल दुकानदारों ने अब सड़कों पर उतरने का फैसला किया है. 

देश भर में प्रदर्शन का ऐलान
ऑनलाइन ट्रेड में FDI की खामियों के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन में जयपुर सहित प्रदेशभर में आठ जनवरी को मोबाइल बाजार बंद रखने का ऐलान किया है. इसके लिए दिल्ली में दुकानदारों का देशव्यापी प्रदर्शन होगा. जिसमें जयपुर के 500 और देशभर से 2500 दुकानदार भाग लेंगे.  द राजस्थान सेलुलर एसोसिएशन ने इसका समर्थन किया हैं. 

दुकानदारों ने लगाया साजिश का आरोप
खुदरा कारोबारियों ने आरोप लगाया है कि ऑनलाइन कंपनियां घाटा खाकर भी कारोबार कर रही हैं. उनका मकसद रिटेल कारोबारियों की कमर तोड़ना हैं. यह फेयर ट्रेड की श्रेणी में नहीं आता है. यही वजह है कि पूरे राजस्थान प्रदेश की मोबाइल दुकानें आठ जनवरी को नहीं खुलेंगी.  इस दिन कारोबारी दिल्ली में विरोध के लिए इकठ्ठा होंगे. 

ये है व्यापारियों की मांग
व्यापारियों ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय से ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से बिक्री के नियम निर्धारित करने की मांग की है. द राजस्थान सेलुलर एसोसिएशन के अध्यक्ष सुनील गुप्ता का कहना हैँ कि ऑनलाइन ट्रेडर्स खुदरा कारोबार को प्रभावित कर रहे हैं. अधिक मुनाफे का लालच देकर उत्पाद बिक्री कर रहे हैँ, जबकि उनको घाटा हो रहा है.  इनका मकसद रिटेल कारोबारियों को बाजार से हटाना हैं ताकि बाद में बाजार पर मनमानी कीमतें थोप सकें. 

देश में बढ़ रहा है ई-कॉमर्स का बाजार
भारत में ई-कॉमर्स बाजार ऑफलाइन खुदरा विकास को तेजी से पीछे छोड़ रहा है और इसके 2028 तक 230 अरब डॉलर को छूने की उम्मीद हैं. इसका असर खुदरा दूकानदारों पर बहुत ज्यादा दिख रहा है. दुकानदारों का आरोप है कि पूरे देश में ऑनलाइन ट्रेड के चलते 40 हजार दूकानें बंद हो गई हैं.  6 लाख लोगों का रोजगार प्रभावित हुआ है.  जबकि निर्माता कंपनियां ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों विक्रताओं को समान दर पर उत्पाद मुहैया करवाती हैं, इसके बावजूद छूट देकर रिटेल कारोबार को खत्म करने की कोशिश की जा रही है. 

एकजुट हो रहे हैं रिटेल कारोबारी
ऑनलाइन कारोबार के खिलाफ दवा, गारमेंट, इलेक्ट्रोनिक्स के बाद अब मोबाइल सेक्टर के खुदरा कारोबारियों ने प्रदर्शन करने का फैसला कियाहै.  आठ जनवरी को मोबाइल विक्रेताओं के बंद से मौटे तौर पर 50 करोड़ रुपए का राजस्व और 500 करोड़ रुपए की बिक्री प्रभावित होगी.  अगर इस प्रदर्शन के बाद भी केंद्र सरकार ने प्रभावी नियामक कदम नहीं उठाएं तो, आने वाले दिनों में अन्य सेक्टर के प्रभावित रिटेल कारोबारियों से मिलकर बड़े प्रदर्शन की तैयारी करेंगे.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़