• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,69,789 और अबतक कुल केस- 7,67,296: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 4,76,378 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 21,129 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 61.53% से बेहतर होकर 62.08% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 19,547 मरीज ठीक हुए
  • कोविड-19 की राष्ट्रीय रिकवरी दर 62.08% पर पहुंची; सक्रिय मामलों की तुलना में ठीक होने वाले लगभग 2 लाख ज्यादा
  • देश में प्रयोगशालाओं की कुल संख्या 1,119 हुई. पिछले 24 घंटे में 2.6 लाख से ज्यादा नमूनों की जांच की गई
  • भारतीय नौसेना का ऑपरेशन समुद्र सेतु पूरा हुआ, इसके तहत 3,992 भारतीय नागरिकों को सफलतापूर्वक स्वदेश लाया गया
  • 30 जून तक 62,870 करोड़ रुपये की क्रेडिट सीमा के साथ 70.32 लाख किसान क्रेडिट कार्ड स्वीकृत किए गए हैं
  • उत्तर प्रदेश में वर्ष 2020-21 में 1.02 करोड़ घरों में नल कनेक्शन देने की योजना है
  • आपकी सुरक्षा आपके हाथों में है, बिना मास्क/फेस कवर पहने घर से बाहर न निकलें
  • कोविड-19 से संबंधित मदद, सलाह और उपायों के लिए 24x7 टोल-फ्री राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करें

चिट्ठी लिखकर कोरोना वायरस में भी सियासत खोज रही हैं सोनिया गांधी

कोरोना वायरस पर पीएम मोदी लगातार जुटे हुए हैं. मोदी सरकार के प्रयासों की तारीफ पूरी दुनिया कर रही है लेकिन कांग्रेस कोरोना जैसी घातक महामारी में भी सियासी लाभ खोजने में जुटी है.

चिट्ठी लिखकर कोरोना वायरस में भी सियासत खोज रही हैं सोनिया गांधी

नई दिल्ली: कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिखी है. सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार द्वारा सांसदों की सैलरी में 30 फीसदी की कटौती करने के फैसले का समर्थन किया लेकिन उन्होंने इसमें भी सियासी रंज दिखा दिया. सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री के सामने 5 सुझाव भी रखे हैं जिनमें उनकी सियासी कूटनीति झलकती है.

सरकारी विज्ञापनों पर लगे रोक- सोनिया

अपनी चिठ्ठी में सोनिया गांधी ने कहा कि सरकार के द्वारा टेलीविजन, प्रिंट और ऑनलाइन मीडिया को दिए गए सभी विज्ञापनों पर रोक लगनी चाहिए. इन्हें दो साल के लिए बंद करना चाहिए, जिससे 1250 करोड़ रुपये प्रति साल की जो बचत होगी और उसका इस्तेमाल कोरोना से लड़ने में किया जाना चाहिए.

मोदी की सफलता से सियासी नुकसान की चिंता

कांग्रेस को चिंता है कि अगर कोरोना महामारी से लड़ाई में अगर भारत जीत जाता है तो इससे मोदी सरकार के प्रयासों की तारीफ न केवल भारत में होगी बल्कि पूरी दुनिया में मोदी के नाम का डंका बजेगा जिससे कांग्रेस को सियासी नुकसान हो सकता है. इसलिए सोनिया गांधी चिट्ठी के बहाने अपने पॉइंट स्कोर करना चाहती हैं.

सरकारी बिल्डिंग के निर्माण पर लगे रोक

सोनिया गांधी ने अपनी चिट्ठी में लिखा कि सरकार के द्वारा सरकारी बिल्डिंग में कंस्ट्रक्शन के काम के लिए जो 20 हजार करोड़ आवंटित किए गए हैं, उन्हें रोक दिया जाए. मुझे विश्वास है कि संसद की मौजूदा बिल्डिंग से काम किया जा सकता है, इस राशि से अस्पताल में सुधार, PPE जैसी सुविधा की व्यवस्था की जा सकती है.

पीएम मोदी ने मंत्रियों को दिये निर्देश, लॉकडाउन के बाद क्या रहेगी स्थिति

राहुल गांधी के विवादित बयानों पर पर्दा डालने की कोशिश

पिछले कुछ दिनों में राहुल गांधी के द्वारा दिये गए बयानों की आम जन मानस ने तीखी आलोचना की है. कोरोना वायरस के मुद्दे पर कांग्रेस के कई नेता मोदी सरकार को घेरने के चक्कर में गलत बयानबाजी कर चुके हैं. सोशल मीडिया पर लोग कांग्रेस की मानसिकता और विचारधारा पर सवाल खड़े कर रहे हैं. इन सभी नकारात्मक मुद्दों से कांग्रेस को बचाने के लिए सोनिया गांधी 'चिट्ठी पॉलिटिक्स' कर रही है.

आगे बढ़ सकता है लॉकडाउन, केंद्र सरकार कर रही है विचार

सोनिया ने सरकारी यात्राओं पर रोक की मांग की

सोनिया गांधी ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, राज्य के मंत्रियों समेत सभी अधिकारियों की विदेश यात्रा पर रोक लगाने की मांग की है. ऐसी यात्राओं से बचने वाले पैसे का इस्तेमाल कोरोना से लड़ाई में किया जा सकता है. चिट्ठी में लिखा कि प्रधानमंत्री और केंद्रीय मंत्रियों की यात्राएं रुकने से 393 करोड़ बच सकते हैं.

उल्लेखनीय है कि जब 2014 में मोदी सरकार का गठन हुआ था तभी पीएम मोदी ने फिजूल खर्ची और अनुपयुक्त यात्राओं पर रोक लगा दी थी.

 

पीएम केयर्स फंड का पैसा पीएम राहत कोष में रखें

सोनिया गांधी ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि प्रधानमंत्री केअर्स में जितनी भी राशि मदद के रूप में आई है, उसे प्रधानमंत्री राहत कोष में ट्रांसफर करना चाहिए. इससे पारदर्शिता आएगी, अभी प्रधानमंत्री राहत कोष में मौजूद 3800 करोड़ की राशि पड़ी है. ऐसे में दोनों फंड की राशि को मिलाकर इस्तेमाल किया जा सकता है.