मध्य प्रदेश की सियासी हलचल पर स्पीकर का बयान, 'मुझे 9 विधायकों का इंतजार'

मध्य प्रदेश की सियासी उटापटक लगातार जारी है. भाजपा और कांग्रेस अपने अपने दांव चल कर अपनी राजनीतिक लड़ाई मजबूत करने में जुटे हैं. इस बीच विधानसभा स्पीकर नर्मदा प्रसाद प्रजापति का बड़ा बयान आया है.

मध्य प्रदेश की सियासी हलचल पर स्पीकर का बयान, 'मुझे 9 विधायकों का इंतजार'

भोपाल: मध्य प्रदेश विधानसभा के स्पीकर एनपी प्रजापति ने कहा कि वो उन 9 विधायकों का इंतजार कर रहे हैं, जिन्होंने इस्तीफा भेजा था. स्पीकर ने कहा कि वो विधायक मेरे पास नहीं आ रहे हैं लेकिन दूसरी जगहों पर जा रहे हैं. मैं चिंतित हूं कि उन विधायकों के साथ क्या हो रहा है. इससे पहले स्पीकर ने सिंधिया खेमे के 6 विधायकों के इस्तीफे स्वीकार कर लिये हैं. 

फ्लोर टेस्ट पर फैसला कल- स्पीकर

 

फ्लोर टेस्ट के बारे में स्पीकर नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने कहा कि फ्लोर टेस्ट कल हो पाएगा या नहीं ये कल ही तय होगा. अभी से इस पर बोल पाना संभव नहीं है. उन्होंने कहा, 'इसके बारे में आपको कल ही पता चलेगा. मैं आपको अपने फैसले के बारे में पहले से नहीं बताऊंगा'.

कांग्रेस नेताओं की विधायकों को मनाने की कोशिश

मध्य प्रदेश के राज्यपाल ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को बहुमत साबित करने के लिए कहा है. राज्यपाल के इस फरमान के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा है कि कांग्रेस मध्य प्रदेश में फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार है. कांग्रेस दावा तो कर रही है कि उसके पास 112 विधायक हैं लेकिन 112 विधायक दिख नहीं रहे हैं. सूत्रों के अनुसार पता चला है कि कांग्रेस के पास केवल 92 विधायक हैं. आपको बता दें कि मौजूदा राजनीतिक हालातों से पता चलता है कि कमलनाथ सरकार का बच माना नामुमकिन है. 

विधायकों का कोरोना टेस्ट करा सकती है कमलनाथ सरकार

मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने कहा, 'राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में चर्चा की गई कि हमारे विधायक जो जयपुर से आए हैं, उनका चिकित्सकीय परीक्षण किया जाना चाहिए. साथ ही हरियाणा और बेंगलुरु में रहने वाले विधायकों का भी चिकित्सकीय परीक्षण किया जाना चाहिए.' पीसी शर्मा ने कहा कि भोपाल लौटे सभी विधायकों का कोरोना वायरस का टेस्ट होगा. दरअसर कांग्रेस बागी विधायकों से किसी भी प्रकार से संपर्क करके उन्हें अपने पाले में लाने की कोशिश कर रही है. 

ये भी पढ़ें- सरकार बचाने के लिये कमलनाथ ने जानिये कौन सी नई चाल चली?