Mission 2022 in UP: जेपी नड्डा ने CM योगी समेत सभी पदाधिकारियों संग की बैठक

भाजपा ने उत्तरप्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियां अभी से शुरू कर दी हैं. BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने राज्य BJP के वरिष्ठ पदाधिकारियों संग बैठक की.  

Mission 2022 in UP: जेपी नड्डा ने CM योगी समेत सभी पदाधिकारियों संग की बैठक

लखनऊ: उत्तरप्रदेश (Uttarpradesh) में 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. राज्य में चुनाव हमेशा जनवरी फरवरी के महीने में होता है. इस हिसाब से लगभग 15 महीने शेष हैं. BJP मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में सत्ता चला रही है. भाजपा की योजना है कि 2022 में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में बम्पर जीत हासिल की जाए ताकि भाजपा 2024 के लोकसभा चुनाव में पहले से भी बड़ी जीत दर्ज कर सके.

संगठन को मजबूती देने पर जोर- जेपी नड्डा

BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बैठक में हिस्सा लिया. इसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह समेत सभी नये पदाधिकारी शामिल रहे. जेपी नड्डा ने कहा कि नवगठित प्रदेश पदाधिकारियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि यह पद नहीं, बल्कि जिम्मेदारी है. सभी प्रदेश पदाधिकारियों को नियमित प्रवास करके संगठन को मजबूत करना है.

क्लिक करें- Bihar Election: रामविलास पासवान के इस बयान ने बढ़ाई नीतीश की चिंता, जानिए क्या कहा

पीएम मोदी के जन्मदिन पर भव्य सेवा  सप्ताह मनाने की तैयारी

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में 14 से 20 सितम्बर तक सेवा सप्ताह के तहत सभी जिला, मण्डल, सेक्टर तथा बूथ पर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे. उन्होंने कहा कि 25 सितम्बर पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्म जयन्ती से लेकर दो अक्टूबर महात्मा गांधी की जयन्ती के उपलक्ष्य में मनाये जाने वाले सभी कार्यक्रमों के लिए बैठक कर रूपरेखा तैयार कर ली गई है.

CM योगी ने भी BJP पदाधिकारियों को किया संबोधित

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर कहा कि भाजपा केवल राजनीतिक दल नहीं बल्कि मातृभूमि के प्रति समर्पण व सेवाभाव का एक महत्वपूर्ण उदाहरण पेश करने वाले कार्यकर्ताओं की टीम है. उन्होंने कहा कि स्वाभाविक रुप से जब एक ओर भारत अपनी मजबूत पकड़ के साथ दुनिया में आगे बढ़ रहा है. CM योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कि ऐसे बहुत लोग है जिन्हें भारत की प्रगति, समृद्धि और भारत का वह विराट स्वरूप जो दुनिया को मार्गदर्शन देने की स्थिति में है, अच्छा नहीं लग रहा है.