ग्लोबल ट्रेड वार में चीन का नया पैंतरा - नई दोस्तियां मतलब की

दुनिया का सबसे बड़ा व्यापारी देश चीन ग्लोबल ट्रेड वार में अमेरिका को नीचा दिखाने के लिए अपने विरोधियों से भी हाथ मिलाने को तैयार है..

ग्लोबल ट्रेड वार में चीन का नया पैंतरा - नई दोस्तियां मतलब की

बीजिंग. चीन से आई ये खबर तो सच ही है क्योंकि इससे जुड़ा है चीन का व्यापारिक हित. चीन ने अंतर्राष्ट्रीय ट्रेड वार में अमेरिका पर बढ़त पाने के लिए नयी चाल चली है. चीन अब जापान और दक्षिण कोरिया जैसे देशों से जुड़ेगा जो कभी उसे एक आँख नहीं सुहाते थे. 

अमेरिका के भीतर दाल नहीं गली चीन की 

चीन की व्यापारिक शर्तों का अमेरिका ने अक्सर अपने देश में मखौल बनाया है और अब कुल मिला कर चीन को अमेरिका के साथ व्यापार संबंध अनिश्चित नज़र आ रहे हैं. इसलिए उधर से ध्यान हटा कर चीन अब जापान और दक्षिण कोरिया से व्यापारिक संबंध ठीक करने की जुगत भिड़ा रहा है जो कि ग्लोबल ट्रेड वार के दौर में अमेरिका पर चीन को बढ़त दिला सकता है. 

जापान और दक्षिण कोरिया को बनाएगा साझेदार  

चीन ने अपनी नई रणनीति पर काम भी शुरू कर दिया है. जापान के लिए अपने सेवा क्षेत्र का मुँह खोल दिया है और इसकी जानकारी भी जापान पहुंचा दी है. इसके साथ साथ चीन ने दक्षिण कोरिया और यूरोप को जोड़ने वाले रेल नेटवर्क पर काम करने की चाहत दिखाई है और उसका प्रस्ताव भी तैयार कर लिया है. चीन के प्रधानमंत्री ली क्विंग ने खुद ये जिम्मा सम्हाला है और जापान और दक्षिण कोरिया के साथ यहां चल रहे त्रिपक्षीय शिखर सम्मेलन में उन्होंने इससे जुड़े प्रस्ताव भी पेश किये. 

जापान के साथ तीसरे देशों की आर्थिक भागेदारी पर बात की 

चीनी प्रधानमंत्री ली क्विन ने इस सिलसिले में जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे से शिखर सम्मलेन के दौरान ही तीसरे देशों के आर्थिक मोर्चे पर काम करने का प्रस्ताव रखा और उनकी आर्थिक मजबूती की दिशा में पहल करने की चाहत दिखाई. दक्षिण कोरिया की तरह ही चीन ने जापान के लिए अपने सेवा क्षेत्र को खोलने की इच्छा भी जताई.

ये भी पढ़ें. पाकिस्तान और कश्मीर मूल के ब्रिटिश सांसदों की धमकी - लड़ेंगे कश्मीरियों के हक की लड़ा