रूस ने समुद्र पर बने 19 किलोमीटर लंबे पुल का उद्धाटन किया

 रूस ने 2014 में यूक्रेन के क्रीमिया पर कब्जा कर लिया था. इस पुल की लंबाई 19 किलोमीटर है और यह केर्च जलडमरूमध्य से होकर गुजरता है. इस पुल के उद्घाटन के बाद खुद पुतिन ट्रेन पर सवार होकर क्रीमिया से रूस के तामान प्रायद्वीप में गए. 

रूस ने समुद्र पर बने 19 किलोमीटर लंबे पुल का उद्धाटन किया

नई दिल्लीः रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने उस पुल का उद्घाटन कर दिया है जो रूस को क्रीमिया से जोड़ता है. रूस ने 2014 में यूक्रेन के क्रीमिया पर कब्जा कर लिया था. इस पुल की लंबाई 19 किलोमीटर है और यह केर्च जलडमरूमध्य से होकर गुजरता है. इस पुल के उद्घाटन के बाद खुद पुतिन ट्रेन पर सवार होकर क्रीमिया से रूस के तामान प्रायद्वीप में गए. ड्राइवर के केबिन में उनकी तस्वीरें मीडिया में दिखाई जा रही हैं. पुल का निर्माण पूरा होने पर राष्ट्रपति पुतिन ने कामगारों को बधाई दी. उन्होंने कहा, "इससे बड़े इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स को पूरा करने से हमारी क्षमता साबित होती है.

2020 में खुलेगा रेलवे पुल
साढ़े तीन अरब डॉलर से ज्यादा की लागत से पूरे हुए इस प्रोजेक्ट में दो समांतर पुल बनाए गए हैं जिनमें से एक रेल यातायात के लिए है जबकि दूसरा गाड़ियों के लिए. इस प्रोजेक्ट की योजना 2014 में उसी वक्त बनाई गई थी जब रूस ने क्रीमिया पर कब्जा किया था.

ऑटोमोबाइल के लिए बने पुल का उद्घाटन पुतिन मई 2018 में ही कर चुके हैं और कुछ महीनों बाद उसे ढुलाई वाले भारी वाहनों के लिए खोल दिया गया था. रेलवे पुल को माल गाड़ियों के लिए जून 2020 में खोला जाएगा.

 केर्च जलडमरूमध्य से होकर गुजरता है पुल
क्रीमिया पर रूस का कब्जा होने से पहले भी दोनों देशों के बीच रेल यातायात था. क्रीमिया के शहरों सिम्फेरोपोल और सेवास्तोपोल से यूक्रेन, रूस और बेलारूस के लिए ट्रेन सेवा मौजूद थी. क्रीमिया पर कब्जे के बाद लंबी दूरी की ट्रेन सेवाएं बाधित हो गईं. सिर्फ क्रीमिया प्रायद्वीप में स्थानीय ट्रेनें चल रही थीं. रूस ने क्रीमिया में बुनियादी ढांचे से जुड़े प्रोजेक्ट्स में खूब पैसा लगाया है जिससे पुल और नए बिजली घर बनाए जा रहे हैं.

रूस का सबसे लंबा रेलवे पुल
यात्री रेलों के लिए पुल खुल जाने के बाद अब सेंट पीटर्सबर्ग और सेवास्तोपोल के बीच यात्रा करना संभव होगा. इस सफर में 43 घंटे का समय लगता है. सेंट पीटर्सबर्ग राष्ट्रपति पुतिन का जन्म स्थान है. वहां से पहली ट्रेन पुल के उद्घाटन के कुछ समय बाद ही क्रीमिया में पहुंची. रूस का कहना है कि यह यूरोप का सबसे लंबा रेलवे पुल है. दूसरी तरफ यूक्रेन ना तो इस पुल से खुश है और ना ही इसके उद्घाटन के लिए क्रीमिया में पुतिन की मौजूदगी से.

क्रीमिया पर यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के प्रतिनिधि ने फेसबुक पर अपने एक बयान में कहा है कि ये रेल संपर्क और राष्ट्रपति पुतिन का क्रीमिया दौरा "रूस की तरफ से यूक्रेन की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का घोर उल्लंघन है.

यूरोपीय संघ ने पुल के उद्घाटन को यूक्रेन की संप्रभुता का उल्लंघन बताया 
यूरोपीय संघ ने भी पुल के उद्घाटन को यूक्रेन की संप्रभुता का उल्लंघन बताया है. संघ की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि केर्च पुल का निर्माण "यूक्रेन की रजामंदी के बिना" किया गया है और यह "गैर कानूनी तरीके से हथियाए गए प्रायद्वीप को बलपूर्वक अपने क्षेत्र में मिलाने की तरफ एक और कदम" है. यूरोपीय संघ ने फिर जोर देकर कहा है कि वह क्रीमियाई प्रायद्वीप पर रूस के कब्जे को ना तो मान्यता देता है और ना ही देगा. इसी महीने यूरोपीय संघ ने यूक्रेन संकट की वजह से रूस पर लगाए गए प्रतिबंधों को छह महीने के लिए बढ़ा दिया है. इससे पहले, राष्ट्रपति पुतिन फ्रांस की राजधानी पेरिस में राष्ट्पति जेलेंस्की से मिले. दोनों नेताओं की चर्चा में यूक्रेन संकट से जुड़े तनाव को घटाने पर चर्चा हुई.

IMF ने बताया बुरे दौर में है भारतीय अर्थव्यवस्था, सरकार उठाए ठोस कदम