Year Ender 2019: दुनियाभर में आक्रामक विरोध-प्रदर्शन वाला वर्ष

साल 2019 दुनिया के लिए कई मोर्चों पर चुनौतियों और उपलब्धियों का मिलाजुला असर वाला साल रहा. इस साल दुनिया में कई विरोध प्रदर्शन देख गए. आपको इस रिपोर्ट के जरिए पढ़ना चाहिए, दुनिया में उथल-पुथल और प्रदर्शन वाले साल की दास्तान.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 31, 2019, 07:03 AM IST
    1. दुनिया में उथल-पुथल और प्रदर्शन वाले साल की दास्तान
    2. दुनियाभर के कई अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन
    3. सत्ता उसकी नीतियों के खिलाफ भड़का आम लोगों का गुस्सा
    4. सबसे ज्यादा आक्रामक और लंबा चला हन्ग-कॉन्ग का संघर्ष
Year Ender 2019: दुनियाभर में आक्रामक विरोध-प्रदर्शन वाला वर्ष

नई दिल्ली: 2019 में दुनियाभर के कई अलग-अलग हिस्सों में कई मुद्दों के खिलाफ प्रदर्शन देखे गए. दुनिया भर में सत्ता उसकी नीतियों और राजनीतिक हस्तियों के खिलाफ आम जनता का गुस्सा भड़का. सड़कों पर कई विरोध प्रदर्शन देखने को मिले.

विरोध-प्रदर्शनों का साल 2019

इराक से लेबनान और फ्रांस-स्पेन से चिली तक सार्वजनिक विरोध प्रदर्शन हुए. सभी प्रदर्शन, वजहों, तरीकों और लक्ष्यों के हिसाब से अलग-अलग हैं. लेकिन कुछ समानताएं हैं, जो उन्हें एक साथ जोड़ती हैं. हज़ारों मील दूर होने के बावजूद, कई देशों में इन प्रदर्शनों के कारण लगभग समान रहे, और कुछ ने एक दूसरे को प्रेरित भी किया. आर्थिक संकट, गैर-बराबरी, और स्वात्तता जैसी वजहों को लेकर सड़कों पर उतरने वालों ने सत्ता को नाको चने चबाने को मजबूर कर दिया.

लंबा चला हन्ग-कॉन्ग का संघर्ष

इनमें सबसे ज्यादा आक्रामक और लंबा चला हन्ग-कॉन्ग का संघर्ष. एक्स्ट्राडिशन बिल के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ जिसमें कुछ मामलों में संदिग्ध अपराधियों को चीन को सौंपे जाने का प्रावधान था. हॉन्ग कॉन्ग चीन का हिस्सा है, पर एक समझौते के तहत हॉन्ग-कॉन्ग के लोगों को विशेष स्वतंत्रता हासिल है. पर अब डर बढ़ रहा है कि बीजिंग उन पर ज्यादा नियंत्रण हासिल करना चाहता है. इन प्रदर्शनों ने कई बार हिंसक रूप भी अख्तियार कर लिया. लेकिन, हॉन्ग-कॉन्ग प्रशासन को घुटने के बल ला दिया. हालत ये हो गई कि विवादास्पद बिल वापस लेना पड़ा, फिर भी पूर्ण स्वतंत्रता, पुलिस की बर्बरता के खिलाफ स्वतंत्र जांच और गिरफ्तार लोगों की रिहाई और माफी जैसी मांगों ने आंदोलन जिंदा रखा है.

Year Ender 2019 : दुनियाभर के अलग-अलग क्षेत्र की 8 बड़ी घटनाएं

"THE RAPIST IS YOU" का नारा 

वैसे तो फेमनिस्ट आंदोलन का इतिहास बेहद पुराना रहा है. महिलाओं के खिलाफ़ हो रही हिंसा के विरोध का ये चिलियन सॉन्ग लेकिन इस सालपूरी दुनिया में इतना लोकप्रिय हुआ है कि ये तेजी से फैल रहा है. इस गाने में चिली के नारिवादियों ने "THE RAPIST IS YOU" का जो नारा दिया, वो महिला सशक्तिकरण का एक नया और सॉफ्ट हथियार बनता जा रहा है. दुनिया के कई देशों में इस सॉन्ग को दोहराते हुए महिलाओं ने अपनी आवाज बुलंद की.

Year Ender 2019 : पाकिस्तान के लिए बर्बादी का साल

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़