"लॉकडाउन के दौरान UP में 57 लाख से ज्यादा मज़दूरों को मिला रोज़गार"

उत्तर प्रदेश में मुहाजिर मज़दूरों के लौटने के बाद से ही वज़ीरे आला योगी आदित्यनाथ ने अपनी हुकूमत के अफसरों को हुक्म दे दिया था कि ऐसे लोगों के लिए रोज़गार के मौके पैदा किए जाएं.

"लॉकडाउन के दौरान UP में 57 लाख से ज्यादा मज़दूरों को मिला रोज़गार"
फाइल फोटो

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी हुकूमत ने लॉकडाउन के दौरान सूबे में 57 लाख से ज्यादा मज़दूरों को रोज़गार दिया है. यह दावा किया है उत्तर प्रदेश के देही तरक्की वज़ीर राजेंद्र प्रताप सिंह ने जी मीडिया से एक्सक्लूसिव बातचीत में बताया कि मनरेगा के तहत रोज़गार देने के मामले में सूबा मुल्क के 10 सूबों में सरे फहरिस्त है.

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश हुकूमत के ज़रिए एक करोड़ मज़दूरों को रोज़गार देने का हदफ रखा गया है, जिसे जल्द हासिल कर लिया जाएगा. देही तरक्की वज़ीर के मुताबिक सूबे में अब तक 57 लाख से ज्यादा मज़दूरों को रोज़गार दिया गया है. उत्तर प्रदेश में मुहाजिर मज़दूरों के लौटने के बाद से ही वज़ीरे आला योगी आदित्यनाथ ने अपनी हुकूमत के अफसरों को हुक्म दे दिया था कि ऐसे लोगों के लिए रोज़गार के मौके पैदा किए जाएं.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने 'एक जिला, एक उत्पाद'  स्कीम से लेकर मनरेगा और दीगर स्कीमों में इन मुहाजिरीन को काम देने का हुक्म दिया था. हांलाकि अपोज़ीशल पार्टी कांग्रेस ने इसे महज़ आंकड़ों का खेल बताया है. कांग्रेस सूबाई नायब सद्र पंकज मलिक की मानें तो यह तादाद महज दिखावा है और कुछ नहीं. उन्होंने कहा कि हकीकत में जिस तरह की कोशिशों की दरकार है हुकूमत वह नहीं कर पा रही है.

Zee Salaam Live TV