इथोपिया विमान हादसे के बाद DGCA ने स्पाइसजेट और जेट एयरवेज को विशेष निर्देश दिया

इथोपिया विमान हादसे में 157 लोगों की मौत हो गई है.

इथोपिया विमान हादसे के बाद DGCA ने स्पाइसजेट और जेट एयरवेज को विशेष निर्देश दिया
जिन पायलट के पास 1000 घंटे का अनुभव है वही विमान उड़ाएंगे. (फाइल)

नई दिल्ली: नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने बोइंग 737 मैक्स विमानों के परिचालन के लिए स्पाइसजेट और जेट एयरवेज को अतिरिक्त सुरक्षा निर्देश जारी किए हैं. डीजीसीए के निर्देशों के अनुसार इन विमानों की उड़ानों का परिचालन करने वाले पायलटों के पास कम से कम 1,000 घंटे का उड़ान अनुभव होना चाहिए. एक दिन पहले ही इथियोपिया में 737 -मैक्स विमान हादसे में 157 लोग मारे गए. इसी के बाद डीजीसीए ने अभी उपलब्ध जानकारी के आधार पर अंतरिम सुरक्षा उपाय किए हैं. 

नियामक ने बयान में कहा कि डीजीसीए स्थिति पर नजदीकी निगाह रखेगा. दुर्घटना जांच एजेंसी एफएए-बोइंग से मिलने वाली जानकारी के आधार पर वह अतिरिक्त परिचालन-रख रखाव उपाय कर सकता है या अंकुश लगा सकता है. डीजीसीए ने विमानन कंपनियों से कहा है कि वे 737 मैक्स विमानों के संदर्भ में इंजीनियरिंग और रखरखाव कर्मियों के बारे में विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करें. बयान में कहा गया है कि 12 मार्च को दिन में 12 बजे के बाद से डीजीसीए के ताजा निर्देशों के अनुपालन के बिना बी 737-8 मैक्स विमानों का परिचालन नहीं किया जा सकेगा.

इथोपियन विमान दुर्घटना: मृतकों में पर्यावरण मंत्रालय की सलाहकार सहित चार भारतीय

पिछले 6 महीने में बोइंग के दो विमान हादसे का शिकार हुए हैं. इससे पहले अक्टूबर में इंडोनेशिया की लायन एयर कंपनी का विमान जकार्ता से उड़ान भरने के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. विमान में सवार सभी 189 यात्रियों की मौत हो गई थी. इसी बीच अदीस अबाबा से इथोपिया की एयरलाइन ने सोमवार को बताया कि उन्होंने बोइंग 737 मैक्स 8 के विमानों का परिचालन रोक दिया है. सरकारी एयरलाइन ने ट्विटर पर जारी एक बयान में बताया, 'ईटी 302 की दुखभरी घटना के बाद इथोपिया की एयरलाइन ने बी-737-8 मैक्स विमानों का परिचालन रोकने का निर्णय लिया है.'