ग्राहकों के लिए बड़ी खबर: अगर हाउसिंग प्रोजेक्ट फंसा तो नहीं देना होगा लोन का एक भी रुपया

अब नए प्रोजेक्ट में होम लोन का बोझ आपको नहीं सताएगा. 

ग्राहकों के लिए बड़ी खबर: अगर हाउसिंग प्रोजेक्ट फंसा तो नहीं देना होगा लोन का एक भी रुपया
फाइल फोटो

नई दिल्ली: घर खरीदते वक्त आपके जेहन में सबसे बड़ी चिंता इस बात की होती है कि अगर प्रोजेक्ट फंसा तो बेवजह होम लोन - Home Loan का बोझ बढ़ जाएगा. दिल्ली एनसीआर - NCR में तो कई बड़े प्रोजेक्ट रुकने के बाद लोग सिर्फ होम लोन ही चुका रहे हैं. जबकि ये भी पक्का नहीं है कि घर मिलेगा या नहीं. लेकिन अब नए प्रोजेक्ट में होम लोन का बोझ आपको नहीं सताएगा. State Bank of India (SBI) एक ऐसी अनूठी योजना लेकर आई है जो आपको चिंतामुक्त कर देगी. बैंक की नई योजना के तहत अगर प्रोजेक्ट में देरी होती है या किसी कारणवश रुकता है तो होम लोन की भरपाई खुद एसबीआई करेगी. 

ये है नई होम लोन स्कीम
एसबीआई के चेयरमैन रजनिश कुमार का कहना है कि अब ग्राहकों को अपार्टमेंट प्रोजेक्ट में देरी या रुकने पर खुद बैंक पैसा वापस करेगी. यह योजना उन प्रोजेक्ट्स के लिए है जिनमें एसबीआई सिर्फ अकेला लोन देने वाला बैंक हो. अगर बिल्डर रेरा - Real Estate Regulation and Development Act (RERA) के तहत अपने समयसीमा के भीतर प्रोजेक्ट पूरा नहीं करेगी तो बैंक लोन का पैसा वापस कर देगी. यानि ग्राहक को बेवजह होम लोन चुकाने की जरुरत नहीं है.

नए प्रोजेक्ट्स को मिलेगी रफ्तार
उल्लेखनीय है कि जेपी- Jaypee Infratech Ltd. , आम्रपाली- Amrapali Group और यूनिटेक जैसी बड़ी कंपनियों के बड़े प्रोजेक्ट्स रुकने बाद से ही ज्यादातर खरीददारों ने नए प्रोजेक्ट्स में पैसा लगाना बिलकुल बंद कर दिया है. नए प्रोटेक्ट्स में कोई ग्राहक पैसा लगाना ही नहीं चाहता. क्योंकि प्रोजेक्ट रुकने या बंद होने की हालत में भी खरीददार को होम लोन चुकाने में कोई राहत या रियायत नहीं मिलती. क्योंकि लोन के बोझ और घर नहीं मिलने की दोहरी मार ग्राहकों पर ही पड़ती है. एसबीआई के नई योजना से बाजार में नए खरीददार आने की उम्मीद है. 

22 फीसदी तक घट गई है नए घरों की डिमांड
जानकारों का कहना है कि 2019 में नए प्रोजेक्ट्स के लिए खरीददार नहीं मिल रहे. एनसीआर समेत 6 महानगरों में नए घर खरीदने में 22 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है.