close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शुरुआती तेजी के बाद नीचे आया शेयर बाजार, सेंसेक्स 36 हजार के ऊपर

सरकार के व्यापार घाटे के 10 माह के न्यूनतम स्तर पर होने की घोषणा के बाद घरेलू निवेशकों की भारी खरीद के चलते बीएसई का सेंसेक्स बुधवार को तेजी के साथ खुला.

शुरुआती तेजी के बाद नीचे आया शेयर बाजार, सेंसेक्स 36 हजार के ऊपर

मुंबई : सरकार के व्यापार घाटे के 10 माह के न्यूनतम स्तर पर होने की घोषणा के बाद घरेलू निवेशकों की भारी खरीद के चलते बीएसई का सेंसेक्स बुधवार को तेजी के साथ खुला. एक समय यह 100 अंक से ज्यादा चढ़ गया. लेकिन कुछ देरे बार इसमें गिरावट का रुख देखा गया. शुरुआती कारोबार में 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 122.14 अंक यानी 0.34 प्रतिशत चढ़कर 36,440.47 अंक पर पहुंच गया. वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 10,900 के आंकड़े को पार कर गया. शुरुआती कारोबार में निफ्टी 33.75 अंक यानी 0.31 चढ़कर 10,920.55 अंक पर पहुंच गया.

तेजी के बाद नीचे आया सेंसेक्स
कारोबारी सत्र के दौरान बुधवार को करीब 11.15 बजे 30 शेयर वाला सेंसेक्स 7.74 अंक की बढ़त के साथ 36,326.07 के स्तर पर कारोबार करते देखा गया. लगभग इसी समय निफ्टी 0.75 अंक की मामूली बढ़त के साथ 10,887.55 के स्तर पर कारोबार कर रहा है. इससे पहले मंगलवार को सेंसेक्स 464.77 अंक यानी 1.30 प्रतिशत चढ़कर 36,318.33 अंक पर बंद हुआ था. वहीं निफ्टी 149.20 अंक यानी 1.39 की बढ़त के साथ 10,886.80 अंक पर बंद हुआ था.

बैंकिंग शेयरों में तेजी
बुधवार को शुरुआती सत्र में इंडसइंड बैंक, एनटीपीसी, एसबीआई, रिलायंस इंडस्ट्रीज, आईसीआईसीआई बैंक, वेदांता, एक्सिस बैंक, टाटा स्टील, पावर ग्रिड, ओएनजीसी और इन्फोसिस के शेयरों में 1.35 प्रतिशत तक की उछाल देखी गई. वहीं आईटीसी, टीसीएस, हीरो मोटो कॉर्प, एचसीएल टेक, एचयूएल और सन फॉर्मा के शेयरों में 0.66 प्रतिशत की गिरावट देखी गई.

कारोबारियों के अनुसार वैश्विक बाजारों में कमजोर धारणा के बावजूद निर्यात में नाम-मात्र की वृद्धि और आयात में गिरावट के कारण दिसंबर 2018 में व्यापार घाटा कम होकर 10 महीने के न्यूनतम स्तर 13.08 अरब डालर पर आ जाने से दलाल स्ट्रीट में निवेशकों ने जमकर लिवाली की. बीएसई के शुरुआती आंकड़ों के मुताबिक मंगलवार को विदेशी निवेशकों ने शुद्ध आधार पर 159.60 करोड़ रुपये की लिवाली की जबकि घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 417.44 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे.