पिछले 6 महीने में शेयर बाजार की सबसे बड़ी गिरावट, निवेशकों के 4.82 लाख करोड़ स्‍वाहा
X

पिछले 6 महीने में शेयर बाजार की सबसे बड़ी गिरावट, निवेशकों के 4.82 लाख करोड़ स्‍वाहा

गुरुवार को शेयर मार्केट के गिरने से बैंकों, डेली यूज का सामान बनाने वाली कंपनियों और ऊर्जा शेयरों में भारी बिक्री का दबाव रहा. साथ ही मिडकैप और समॉलकैप (मझोली और छोटी कंपनियां) भी भारी नुकसान में रहीं.

पिछले 6 महीने में शेयर बाजार की सबसे बड़ी गिरावट, निवेशकों के 4.82 लाख करोड़ स्‍वाहा

मुंबई: शेयर बाजार में गुरुवार को बड़ी गिरावट आई और  बीएसई सेंसेक्स (BSE SENSEX) 1,159 अंक लुढ़क गया. आपको बता दें कि पिछले 6 महीने में शेयर बाजार में किसी एक दिन में यह सबसे बड़ी गिरावट है. ग्लोबल स्तर पर कमजोर रुख और कंपनियों के उम्मीद के अनुरूप वित्तीय परिणाम नहीं रहने के बीच वायदा एवं विकल्प खंड में सौदे के निपटान के अंतिम दिन निवेशकों की बिकवाली (Selling) से बाजार नीचे आया.

6 महीने बाद देखी गई इतनी बड़ी गिरावट 

गुरुवार को बैंकों, डेली यूज का सामान बनाने वाली कंपनियों और ऊर्जा शेयरों में भारी बिक्री का दबाव रहा. साथ ही मिडकैप और समॉलकैप (मझोली और छोटी कंपनियां) भी भारी नुकसान में रहीं. ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि शेयर बाजार में लगातार दूसरे दिन यह गिरावट रिकॉर्ड की गई है और 30 शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 1,158.63 अंक यानी 1.89% का गोता लगाकर 59,984.70 अंक पर बंद हुआ. आपको बता दें यह इस साल 12 अप्रैल के बाद सबसे बड़ी गिरावट है. उस दिन सेंसेक्स 1,708 अंक पर बंद हुआ था.

यह भी पढ़ें: लाखों कर्मचारियों को दिवाली से पहले ही मिला गिफ्ट, जानकर खुशी से झूम उठेंगे

बैंकों को उठाना पड़ा भारी नुकसान

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) का निफ्टी (NIFTY) 353.70 अंक यानी 1.94% लुढ़क कर 17,857.25 अंक पर बंद हुआ. सेंसेक्स के शेयरों में ITC 5.54% की गिरावट के साथ सर्वाधिक नुकसान में रही. कंपनी का बुधवार को जारी किया गया फाइनेंशियल रिजल्ट उम्मीद के हिसाब से नहीं रहने की वजह से शेयर नीचे आया है. आईटीसी के शुद्ध लाभ में चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 10.9% की वृद्धि हुई. इसके अलावा, ICICI बैंक, Kotak बैंक, Axis बैंक, SBI और HDFC बैंक प्रमुख रूप से नुकसान में रहे. इनमें 4.39% तक की गिरावट दर्ज की गई. दूसरी तरफ, IndusInd बैंक, L&T, अल्ट्राटेक सीमेंट, एशियन पेंट्स , मारुति और बजाज फाइनेंस लाभ में रहे, सेंसेक्स के 30 शेयरों में से केवल 6 शेयर ही लाभ में रहे.

गौरतलब है कि बाजार में गुरुवार को आई गिरावट से निवेशकों (Investors) को 4.82 लाख करोड़ रुपये की चपत लगी. साथ ही बीएसई में लिस्टेड कंपनियों का बाजार पूंजीकरण (Capitalization) 2.68 करोड़ रुपये पर आ गया.

यह भी पढ़ें: केंद्रीय कर्मचारियों के लिए जरूरी खबर! Gratuity का पैसा बढ़ा, 7 लाख तक का होगा फायदा

कंपनियों ने दीं ऐसी प्रतिक्रियाएं

रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीति प्रमुख विनोद मोदी ने कहा, 'कमजोर वैश्विक रुख के साथ मुख्य रूप से वायदा एवं विकल्प खंड में सौदों के निपटान के अंतिम दिन खासकर वित्तीय शेयरों की बिक्री से बाजार नीचे आया.'

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च प्रमुख विनोद नायर ने कहा, 'मंदड़िये बाजार पर लगातार हावी हैं. यूरोपीय सेंट्रल बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा (Monetary Policy Review) से पहले एशियाई और यूरोपीय बाजारों में कमजोर रुख का असर घरेलू बाजार पर भी पड़ा. वैश्विक स्तर पर निवेशकों को अमेरिका में जीडीपी (GDP) आंकड़े का इंतजार है. यह जारी किया जाएगा. इसके अलावा उन्हें फेडरल रिजर्व की बैठक के नतीजे की भी प्रतीक्षा है जो अगले सप्ताह आएगा.'

यह भी पढ़ें: क्रेडिट कार्ड रखने वालो सावधान! ग्राहकों के खाते से जबरन पैसे निकाल रहा देश का ये बड़ा बैंक

भारत के अलावा और भी देशों ने झेला है नुकसान

आपको बता दें भारत के अलावा एशिया के अन्य बाजारों में भी गिरावट दर्ज की गई है. जिसमें कि चीन का शंघाई कंपोजिट सूचकांक (SSE Composite Index), हांगकांग का हैंगसेंग (Hang Seng Index), दक्षिण कोरिया का कॉस्पी (KOSPI) और जापान के निक्की (Nikkei) में गिरावट रही. इसके अलावा यूरोप के प्रमुख शेयर बाजारों में भी दोपहर कारोबार में गिरावट देखी गई. इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड (Brent Crude) 1.11% फिसलकर 82.94 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. साथ ही अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 11 पैसे की तेजी के साथ 74.92 पर बंद हुआ. शेयर बाजार के आंकड़े के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बुधवार को 1,913.36 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे.

LIVE TV

Trending news