ऑनलाइन शॉपिंग ऑफर्स लगा सकते हैं चूना, ऐसे बनें स्मार्ट कस्टमर

त्यौहारों के दौरान ऑनलाइन शॉपिंग साइट्स पर ऑफर्स की बाड़-सी लगी रहती है। ई-कॉमर्स वेबसाइट्स पर 80 से 100 फीसदी तक डिस्काउंट मिल जाता है। लेकिन ऑनलाइन शॉपिंग में डीलर की तरफ से होने वाली धोखाधड़ी और साइबर अपराध आपको अच्छी खासी चपत लगा सकते हैं। ऐसे में इन ऑफर्स की सही पहचान करना और उनका लाभ उठाने के लिये सही प्रोसेस को फॉलो करना बेहद जरूरी है। 

ऑनलाइन शॉपिंग ऑफर्स लगा सकते हैं चूना, ऐसे बनें स्मार्ट कस्टमर

नई दिल्ली : त्यौहारों के दौरान ऑनलाइन शॉपिंग साइट्स पर ऑफर्स की बाड़-सी लगी रहती है। ई-कॉमर्स वेबसाइट्स पर 80 से 100 फीसदी तक डिस्काउंट मिल जाता है। लेकिन ऑनलाइन शॉपिंग में डीलर की तरफ से होने वाली धोखाधड़ी और साइबर अपराध आपको अच्छी खासी चपत लगा सकते हैं। ऐसे में इन ऑफर्स की सही पहचान करना और उनका लाभ उठाने के लिये सही प्रोसेस को फॉलो करना बेहद जरूरी है। 

आपमें से कई लोग ऑनलाइन शॉपिंग का अनुभव नहीं होने के चलते आंकड़ों के खेल में उलझ जाते हैं और कई बार साइबर क्राइम का शिकार हो जाते हैं। ऐसे में चंद सावधानियां बरतकर आप भी अपने ऑनलाइन खरीदारी के अनुभवों को अच्छा बना सकते हैं। 

1. ऑफर की सही जानकारीः पहली नजर में बेहद आकर्षक लगने वाले ऑफर्स में कई बार ऐसी शर्तें जुड़ी होती है, को ठीक से पढ़ना बेहद जरूरी होता है। कई बार आंकड़ों की बाजीगरी करके कंपनियां डिस्काउंट देने के बजाय उल्टा आपको चूना लगा सकती है। ऑनलाइन कूपन भी एक अच्छा विकल्प हो सकते हैं। इसके अलावा ऑफर को ठीक से पढ़कर अच्छी तरह समझना जरूरी है। ऑफर पढ़ते समय यह जरूर देखें कि कंपनी जो गिफ्ट वाउचर दे रही है वो आपके काम का भी है या नहीं। कई बार कंपनियां ऐसे वाउचर्स या कैश बेक को किसी खास सेवा का उपयोग करने के लिये ही बनाती है।

2. खरीदारी का रिकॉर्ड रखें: ढेर सारी शॉपिंग करना हमारी फितरत में शामिल होता है। ऐसे में कई बार ऐसे ऑफर्स का लाभ लेने से आप वंचित रह सकते हैं, जिनका लाभ तुरंत नहीं मिलता। आपके द्वारा खरीदे गये प्रोडक्ट्स पर मिलने वाले पे बैक पॉइंट्स, थोड़े दिन बाद मिलने वाले कैश बेक, ऑफर कोड्स आदि को नोट करके रखें। ताकि बाद में आप मिलने वाला फायदा सुनिश्चित कर सकें। 

3. क्वालिटी से समझौताः ऑनलाइन शॉपिंग में आपको सामान को स्क्रीन पर देखना और परखना होता है। ऐसे में पेमेंट करने से पहले खुद को प्रो़डक्ट के प्रति पूरी तरह संतुष्ट कर लें। कानूनी विकल्पों का सहारा लेने के लिये ऑर्डर करते समय ही पूरी तैयारी कर लें। प्रोडक्ट की खरीदारी की प्रक्रिया के दौरान स्क्रीन शॉट्स लेना भी फायदेमंद साबित होगा।

4. पेमेंट मोडः सामानों की धड़ाधड़ बिक्री के चलते स्टॉक जल्दी ही खत्म हो जाते हैं। बुकिंग के बाद भी सामान आपके घर पहुंच जाए इसकी कोई गारंटी नहीं है। ऐसे में एक बार पेमेंट होने के बाद आप उलझन में पड़ सकते हैं। इससे बचने के लिये बेहतर होगा कि कैश ऑन डिलीवरी के विकल्प को प्राथमिकता दें। इससे आप ऑनलाइन पैसों की ठगी से भी काफी हद तक बच सकते हैं।

इसके अलावा कुछ छोटी-छोटी बातों का भी ध्यान रखें। जैसे कभी भी सायबर कैफे के कम्प्यूटर के माध्यम से अपने डेबिट-क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग आदि का इस्तेमाल ना करें। कई बार कंप्यूटर में पासवर्ड ट्रैकिंग करने वाले सॉफ्टवेयर इंस्टाल होते हैं, जो आपके खातों से संबंधित निजी जानकारियां हासिल कर लेते हैं। इसके अलावा उपयोग करने के बाद ठीक से सारे अकाउंट्स लॉग आउट करना ना भूलें।

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.