TRAI ने लिया बड़ा फैसला, अब जी भरकर भेज सकेंगे SMS

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने करोड़ों मोबाइल उपभोक्ताओं को बड़ी राहत देते हुए अब एक दिन में मुफ्त एसएमएस भेजने की सीमा को पूरी तरह से खत्म कर दिया है. 

TRAI ने लिया बड़ा फैसला, अब जी भरकर भेज सकेंगे SMS
फाइल फोटो

नई दिल्लीः भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने Lockdown के बीच करोड़ों मोबाइल उपभोक्ताओं को बड़ी राहत देते हुए अब एक दिन में मुफ्त एसएमएस भेजने की सीमा को पूरी तरह से खत्म कर दिया है. अब मोबाइल उपभोक्ता दिन भर में चाहे जितने भी एसएमएस मुफ्त में भेज सकेंगे. 

पहले लगता था 100 एसएमएस के बाद चार्ज
इससे पहले मोबाइल उपभोक्ता दिन भर में केवल 100 एसएमएस ही कर पाते थे. इसके बाद उनको प्रति एसएमएस 50 पैसा शुल्क देना होता था. ट्राई ने इसके लिए सभी स्टेक होल्डर्स के लिए टेलिकम्युनिकेशन टैरिफ (65वां संशोधन) ऑर्डर 2020' का ड्राफ्ट जारी कर दिया है. 

इसलिए लगता था चार्ज
2012 में लागू हुए इस नियम के तहत ही 100 एसएमएस के बाद 50 पैसे का चार्ज लगता था. यह चार्ज इसलिए लगाया गया था ताकि उपभोक्ताओं के पास फालतू अवांछित कमर्शियल मैसेज पर रोकथाम लग सके. अब ट्राई ने कहा है कि स्पैम मैसेज को रोकने के लिए अब पर्याप्त टेक्नोलॉजी है. उसने कुछ साल पहले ही DND को भी शुरू किया था. इस सर्विस के जरिए यूजर्स अपने नंबर पर आने वाले विज्ञापन संबंधी मैसेज को रोक सकते हैं. 

ये भी पढ़ें: Maruti Suzuki लंबे समय बाद रैंकिंग में फिसली, Hundai की ये कार बनी नंबर-1

स्पैम रोकने के लिए नई तकनीक अपनाने पर जोर
ट्राई मोबाइल कंपनियों से स्पैम मैसेज रोकने के लिए लगातार नए तरीके खोजने पर जोर दे रहा है. साल 2017 में ट्राई ने UCC पर रोक के लिए TCCCPR पेश किया. ट्राई ने कहा है, 'TCCCPR 2018 के तहत निर्धारित नया रेग्युलेटरी फ्रेमवर्क टेक्नोलॉजी आधारित है. यह स्पैम SMS पर अंकुश लगा सकता है.ट्राई ने टेलिकम्युनिकेशन्स टैरिफ (65वां संशोधन) ऑर्डर, 2020 का ड्राफ्ट तैयार किया था. इसके लिए ट्राई ने स्टेकहोल्डर्स से 3 मार्च तक लिखित कॉमेंट और 17 मार्च तक काउंटर कॉमेंट मांगे थे. अब ट्राई ने यह फैसला लिया गया है.

ये भी देखें-

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.