Warren Buffett के उत्तराधिकारी का सस्पेंस खत्म, Greg Abel संभालेंगे बर्कशायर हैथवे का कारोबार!

Warren Buffett: दिग्गज निवेशक वॉरेन बफे (Warren Buffett) ने अपने उत्तराधिकारी को लेकर लगाई जा रही अटलकों पर विराम लगा दिया है. वॉरेन बफे ने उस नाम का खुलासा कर दिया है जो उनकी अरबों के कारोबार को संभालेगा, यानी अपने उत्तराधिकारी के नाम से पर्दा उठा दिया है.

Warren Buffett के उत्तराधिकारी का सस्पेंस खत्म, Greg Abel संभालेंगे बर्कशायर हैथवे का कारोबार!
फाइल फोटो: वॉरेन बफे

नई दिल्ली: Warren Buffett: दिग्गज निवेशक वॉरेन बफे (Warren Buffett) ने अपने उत्तराधिकारी को लेकर लगाई जा रही अटलकों पर विराम लगा दिया है. वॉरेन बफे ने उस नाम का खुलासा कर दिया है जो उनकी अरबों के कारोबार को संभालेगा, यानी अपने उत्तराधिकारी के नाम से पर्दा उठा दिया है. Bloomberg Billionaires Index के मुताबिक बफे 104 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ दुनिया के 8वें सबसे बड़े रईस हैं. 

ये होंगे वॉरेन बफे के उत्तराधिकारी! 

वॉरेन बफे ने कहा कि अगर उन्हें बर्कशायर हैथवे (Berkshire Hathway Inc) के CEO का पद छोड़ना पड़ता है तो कंपनी के नॉन इंश्योरेंस बिजनसेज के वाइस चेयरमैन ग्रेग ऐबल (Greg Abel) उनके संभावित उत्तराधिकारी हो सकते हैं. बर्कशायर हैथवे का कुल असेट 630 अरब डॉलर है. 90 साल की उम्र पार कर चुके वॉरेन बफे ने कहा कि बोर्ड इस प्रस्ताव पर सहमत है कि अगर उन्हें कुछ होता है तो 58 साल के ऐबल उनके उत्तराधिकारी के तौर पर सबसे ज्यादा संभावित उम्मीदवार हो सकते हैं. 

ये भी पढ़ें- यूपी में आज से जाम टकराना और महंगा, 10-40 रुपये महंगी हो गई शराब, लगा Covid Cess

उत्तराधिकारी की योजना अभी गुप्त है

कंपनी में उत्तराधिकार योजना को गुप्त रखा है. हालांकि कंपनी ने निवेशकों को भरोसा दिया है कि उसके पास इसके लिए एक पूरी योजना है. दरअसल बर्कशायर के वाइस चैयरमैन Charlie Munger ने शनिवार की सालाना बैठक में कुछ ऐसे के संकेत दिए थे कि जिनसे Abel को बफे का उत्तराधिकारी बनाए जाने की अटकलों को बल मिला था.

बफे को Abel पर भरोसा क्यों 

Abel का नाम बफे के उत्तराधिकारी के रूप में काफी लंबे समय से चल रहा है. Abel अभी 60 साल के भी नहीं हुए हैं, उनके पास व्यापक अनुभव है. बफे ने कहा, बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स इस बात से सहमत हैं कि अगर आज रात मुझे कुछ हो जाता है तो ग्रेग कल सुबह से कुर्सी संभाल सकते हैं. उन्होंने कहा कि हमारी कंपनी में हम सर्वसम्मति से फैसला करते हैं कि अगले दिन किसे कुर्सी संभालनी चाहिए. 

भारतीय मूल के अजित जैन भी रेस में थे

इस रेस में कंपनी के इंश्योरेंस बिजनेस के वाइस चेयरमैन 69 साल के अजित जैन को भी दावेदार के रूप में देखा जा रहा था. बफे ने उनकी काफी तारीफ की थी. हालांकि, अब बफे का कहना है कि उनके उत्तराधिकारी के चुनाव में उम्र बड़ा फैक्टर था. बफे ने कहा कि दोनों लोग शानदार हैं, लेकिन किसी के पास 20 साल ज्यादा हैं तो इससे बड़ा फर्क पड़ता है.

ये भी पढ़ें- 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों के लिए राहत की खबर! 'pay fixation' की डेडलाइन 3 महीने के लिए बढ़ी

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.