टारगेट किलिंग का मामला: आरोपियों को पंजाब जेल में खतरा

पंजाब में सिलसिलेवार टारगेट किलिंग मामलों की जांच में जुटी राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनआईए) आरएसएस नेता बिग्रेडियर जगदीश गगनेजा हत्या मामले को दिल्ली की पटियाला हाऊस कोर्ट में ट्रांसफर करवाना चाहती है. 

टारगेट किलिंग का मामला: आरोपियों को पंजाब जेल में खतरा

चंडीगढ़: पंजाब में सिलसिलेवार टारगेट किलिंग मामलों की जांच में जुटी राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनआईए) आरएसएस नेता बिग्रेडियर जगदीश गगनेजा हत्या मामले को दिल्ली की पटियाला हाऊस कोर्ट में ट्रांसफर करवाना चाहती है इसलिए एनआईए ने मोहाली की एनआईए कोर्ट में अर्ज़ी भी लगाई है. एनआईए के सीनियर प्रोसेक्यूटर सुरेंद्र सिंह ने बताया कि मिनिस्टरी ऑफ होम अफेयर्स को इस बारें में लिख चुके है. उन्होने कहा पहले भी एसएलपी दाखिल कर ज्यादातर मामले दिल्ली की कोर्ट में ट्रांसफर करवा चुके है. आरएसएस नेता जगदीश गगनेजा हत्या मामला और हिंदु नेता अमित अरोड़ा पर हुए हमले का मामला मोहाली की एनआईए कोर्ट में चल रहा है इन दोनों मामलों को भी दिल्ली ट्रांसफर करवाने की कोशिश जारी है.

एनआईए के सीनियर प्रोसेक्यूटर सुरेंद्र सिंह ने ज़ी मीडिया को बताया कि इंटेलिजेंस से मिली इनपुट के मुताबिक आरोपीयों को पंजाब की जेलों में खतरा है इसलिए ज्यादातर मामलों को दिल्ली ट्रांसफर करवा लिया गया और आरोपीयों को भी दिल्ली की तिहाड़ जेल में शिफ्ट कर दिया गया. उन्होने कहा अब बाकी बचे दो मामलों को भी दिल्ली की पटियाला हाऊस कोर्ट में ट्रांसफर करवा लिया जाएगा. क्योकिं टारगेट किलिंग मामलों में same set of accused यानि कि सेम आरोपी है हर मामले में आरोपी पर सेम चार्जेंस है क्योकिं साज़िश रचने वाले और वारदातों को अंजाम देने वाले आरोपी एक ही गिरोह से है.

एनआईए ज्यादातर मामलों में चार्जशीट दाखिल कर चुकी है हाल ही में एनआईए ने आऱएसएस नेता जगदीश गगनेता हत्या मामले में 11 आरोपियों के खिलाफ मोहाली की स्पेशल एनआईए कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी. NIA के वकील सुरेंद्र सिंह ने बताया कि जांच में सामने आया कि आरोपी पंजाब में माहौल बिगाड़ना चाहते थे इसलिए हिन्दू नेताओं को टारगेट किया गया.

चार्जशीट के मुताबिक हत्या की साज़िश पाकिस्तान, इटली,आस्ट्रेलिया, फ्रांस, यूके और दुबई में रची गयी.चार्जशीट के मुताबिक आरोपी हरदीप और रमनदीप सिंह को यूके के रहने वाले गुरशरणबीर ने ट्रेनिंग दी थी और जगतार सिंह जोहल ने साज़िश को अंजाम देने के लिये फंडिग की थी. पाकिस्तान में रह रहा खालिस्तानी हरमीत सिंह उर्फ पीएचडी इस पुरी साज़िश पर नज़र रखे हुये था और हमले के दिशा निर्देश दे रहा था. 

सुरेंद्र सिंह ने ज़ी मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि मुख्य आरोपी हरदीप सिंह शेरा और रमनदीप सिंह कैनेडियन और अन्य आरोपीयों को एनआईए ने गिरफ्तार कर लिया था हालांकि अभी भी कई आरोपी गुरजिंदर सिंह शास्त्री, हरमीत सिंह हैपी, गुरशरनबीर सिंह पहलवान और अन्य आरोपी आस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और दुसरे देशों में छुपे हुए है.

उन्होने कहा जांच चल रही है और फरार आरोपीयों पर भी जल्द पकड लिया जाएगा.बतादें जगदीश कुमार गगनेजा पर 6 अगस्त 2016 को जालंधर में गोलियां चलाईं गई थी. मौके पर ही उनकी मौत हो गई है.इसके बाद कई और हिन्दू नेताओं पर भी हमले किए गए. खालिस्तानी लिबरेशन फोर्स द्वारा टारगेट किलिंग करवाई गई थी.   

एनआईए दृारा टारगेट किलिंग मामलों में हरदीप सिह शेरा, रमनदीप सिंह कैनेडियन, धरमिंदर सिंह गुगनी, अनिल कुमार काला, जगतार सिंह जोहल, अमनिंदर सिंह मिंदु, मनप्रीत सिंह मनी, रविपाल सिंह भुंदा, हरमीत सिंह हैपी, गुरजिंदर सिंह शास्त्री और गुरशनरणबीर सिंह पहलवान के खिलाफ धारा 120B, 302, 34, 379, 419 of the IPC; sections 16, 17, 18, 18A, 18B, 20, 21 and 23 of the UAPA and sections 25 and 27 of the Arms Act,1959 के तहत चार्जशीट दाखिल की हुई है.