close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

  • 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    90कांग्रेस+

  • अन्य

    98अन्य

अपनी सीट खोजें

कैसरगंज

नई दिल्ली: कैसरगंज उत्तर प्रदेश के 80 लोकसभा क्षेत्रों में एक संसदीय सीट है. इस शहर की पहचान खुरमे (एक तरह की मिठाई) के लिए बहुत प्रसिद्ध है. प्रदेश की राजनीति में बड़ा चेहरा माने जाने वाले बेनी प्रसाद वर्मा यहां से चार बार सांसद रहे हैं. कांग्रेस छोड़ने के बाद वह समाजवादी पार्टी में शामिल हुए और 1996 से लगातार 2004 तक जीत दर्ज की. कैसरगंज लोकसभा सीट सपा का गढ़ रहा. 1991 के बाद साल 2014 में यहां बीजेपी ने जीत दर्ज की थी. कैसरगंज उत्तर प्रदेश के 80 लोकसभा क्षेत्रों में एक संसदीय सीट है और यह 57वें नंबर की सीट है. महागठबंधन में ये सीट बसपा के पाले में गई है.

बृजभूषण शरण सिंह, भारतीय जनता पार्टी
चंद्रदेव राम यादव, बहुजन समाज पार्टी
विनय कुमार पांडे, कांग्रेस
कांग्रेस- विनय कुमार पांडे
पीएसपी (एल)- धनंजय शर्मा

2014 में क्या था जनादेश
उत्तर प्रदेश की कैसरगंज लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के बृजभूषण शरण सिंह सांसद हैं. साल 2014 में उन्होंने सपा प्रत्याशी विनोद कुमार सिंह को हराकर जीत दर्ज की थी. बृजभूषण शरण सिंह को 3,81,500 मिले थे. वहीं, दूसरे नंबर पर रहे विनोद कुमार सिंह को 3,03,282 वोट मिले थे. बीएसपी के कृष्ण कुमार ओझा तीसरे और कांग्रेस के मुकेश श्रीवास्तव चौथे स्थान पर रहे थे.

क्या है राजनीतिक इतिहास
साल 1957 में कैसरगंज लोकसभा सीट पर पहली बार चुनाव हुए. इस चुनाव में कांग्रेस के भगवादीन मिश्रा यहां से सांसद बने. साल 1962 में स्वतंत्रता पार्टी ने इस सीट पर कब्जा किया. साल 1967, 1971 और 1977 में भारतीय जनसंघ ने यहां से जीत हासिल की. साल 1980 और फरि 1984 में कांग्रेस दो बार लगातार इस सीट पर जीत दर्ज करने में कामयाब रही. साल 1989 में यहां बीजेपी ने अपना खाता खोला और रूद्र सेन चौधरी एमपी चुने गए. साल 1991 में फिर बीजेपी ने जीत दर्द की, लेकिन 1996 में हैट्रिक नहीं लगा सकी और सपा ने पहली बार जीत दर्ज की और बेनी प्रसाद वर्मा यहां से सांसद चुने गए. 1998, 1999 और 2004 में उन्होंने जीत दर्ज की, वह लगातार 4 बार यहां से सांसद रह चुके हैं. 2009 में भी ये सीट सपा के ही नाम रही लेकिन इस बार बृजभूषण शरण सिंह यहां के सांसद बने. 2014 में बृजभूषण शरण सिंह फिर मैदान में उतरे, लेकिन इस बार पार्टी सपा नहीं, बल्कि बीजेपी थी. बृजभूषण शरण सिंह ने साल 2014 में जीत दर्ज कर संसद एक बार फिर पहुंचे.

और पढ़े

और पढ़े

उम्मीदवार पार्टी वर्तमान स्थिति कुल वोट
बृजभूषण शरण सिंह बीजेपी

जीते

581358
चंद्रदेव राम यादव बीएसपी

हारे

319757
विनय कुमार पांडे \विन्नू\ कांग्रेस

हारे

37132
नोटा नोटा

हारे

13168
उमेश कुमार आरजेएपी (यू)

हारे

5899
शिव नारायण निर्दलीय

हारे

4898
मुन्नी निर्दलीय

हारे

4565
चंद्र प्रकाश पांडे एनटीपी

हारे

3117
ओम प्रकाश मिश्रा निर्दलीय

हारे

3089
प्रमोद कुमार एसएमएएसपी

हारे

2214
संतोष बीपीएचपी

हारे

2166
वाजिद एजेपी (आई)

हारे

2036
धनंजय शर्मा पीएसपी (लोहिया)

हारे

2001

कैसरगंज खबरें

कैसरगंज: CM योगी के लिए की आपत्तिजनक टिप्पणी, कांग्रेस प्रत्याशी के खिलाफ FIR दर्ज

कैसरगंज: CM योगी के लिए की आपत्तिजनक टिप्पणी, कांग्रेस प्रत्याशी के खिलाफ FIR दर्ज

जिलाधिकारी नितिन बंसल ने बुधवार को बताया कि कांग्रेस प्रत्याशी ने मंगलवार को एक वक्तव्य में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, गोरक्ष पीठाधीश्वर रहे महंत अवैद्यनाथ तथा नाथ सम्प्रदाय के विरुद्ध आपत्ति जनक टिप्पणी की थी. 

Apr 24, 2019, 01:19 PM IST
BSP ने जारी की तीसरी सूची, इन पांच सीटों पर तय किए प्रत्याशियों के नाम

BSP ने जारी की तीसरी सूची, इन पांच सीटों पर तय किए प्रत्याशियों के नाम

बीएसपी इससे पहले 17 लोकसभा प्रत्याशियों की घोषणा कर चुकी है. गौरतलब है कि बसपा इस बार प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ गठबंधन करके 38 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. 

Apr 9, 2019, 02:30 PM IST