छात्रों के समर्थन में जामिया पहुंचे ANURAG KASHYAP, कहा- 'हम भेड़ बकरियों की तरह नहीं जी सकते'

अनुराग कश्यप CAA और NRC के खिलाफ आंदोलन करने वाले छात्रों का समर्थन करने के लिए शुक्रवार को जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी पहुंचे.

छात्रों के समर्थन में जामिया पहुंचे ANURAG KASHYAP, कहा- 'हम भेड़ बकरियों की तरह नहीं जी सकते'
बॉलीवुड सेलेब्स भी खुलकर अपनी बात सामने रखते नजर आ रहे हैं.

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) को लेकर जहां पूरे देश में बवाल मचा हुआ है, वहीं इस मामले पर बॉलीवुड दो धड़ों में बंट गया है. बॉलीवुड सेलेब्स भी खुलकर अपनी बात सामने रखते नजर आ रहे हैं. कई मशहूर हस्तियों ने हाल ही में विवादास्पद सीएए को लेकर विरोध दर्ज कराते हुए कहा था कि वे प्रदर्शन कर रहे छात्रों के साथ हैं, जबकि कई अन्य सेलेब्स ने कहा था कि वे इस कानून को लागू करने के फैसले में सरकार के साथ हैं. पूजा भट्ट, फरहान अख्तर, मनोज वाजपेयी, अनुराग कश्यप, हुमा कुरैशी, ऋचा चड्ढा, अली फजल, शबाना आजमी, कबीर खान, स्वरा भास्कर, सिद्धार्थ और सुशांत सिंह इस कानून का विरोध करते नजर आ रहे हैं. इनमें से कई हस्तियों ने सरकार विरोधी प्रदर्शनों में भाग भी लिया था.

वहीं, अब फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप CAA और NRC के खिलाफ आंदोलन करने वाले छात्रों का समर्थन करने के लिए शुक्रवार को जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी पहुंचे. इस दौरान अनुराग ने कहा, 'तीन महीने पहले लगता था हम मर गए, लेकिन जामिया आकर लगा अब जिंदा हैं. ये आंदोलन हमें इस बात का एहसास दिलाता है कि हमारा कोई वजूद है. हम भेड़ बकरियों की तरह नहीं जी सकते. बहुत समय से जरूरत थी सबको बाहर आने की.'

अनुराग से पहले हाल ही में मुंबई के गोवंडी में आयोजित हुए एक एंटी सीएए रैली में शामिल हुए थे, जहां उन्होंने कहा था, '15 दिसंबर के पहले तक लगने लगा था कि यह देश रहने लायक नहीं रहा. मैंने दुनिया के वो देश भी ढूंढने शुरू कर दिए थे, जहां बसा जा सकता है.. लेकिन फिर आत्मा से आवाज आई कि अपना देश छोड़कर कहां जाओगे. अगर हम भी चले गए, तो इन गरीबों के लिए कौन लड़ेगा? हम तो जा सकते हैं, लेकिन हमारे देश में कई सारे ऐसे लोग हैं, जो देश नहीं छोड़ सकते हैं. मैंने और मेरी बीवी ने तय किया यहीं लडेंगे और मरना पड़ा तो मरेंगे भी लेकिन यही रहेंगे.' 

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें