5 Protein Myth: क्या हड्डी और किडनी पर बुरा असर डालता है प्रोटीन, एक्सपर्ट ने खोले हैरान करने वाले कई राज
X

5 Protein Myth: क्या हड्डी और किडनी पर बुरा असर डालता है प्रोटीन, एक्सपर्ट ने खोले हैरान करने वाले कई राज

कई लोग कम जानकारी होने के कारण प्रोटीन के बारे में बेवकूफ बनते रहते हैं, क्या आप भी उनमें से हैं?

5 Protein Myth: क्या हड्डी और किडनी पर बुरा असर डालता है प्रोटीन, एक्सपर्ट ने खोले हैरान करने वाले कई राज

क्या आप बॉडीबिल्डर हैं? क्या आप कसरत को गंभीरता से लेते हैं? आप अपने आस-पास के लोगों से प्रोटीन के बारे में बात करें और उन सभी बेबुनियाद बातों को नोट करें, जिससे आपको फर्क पड़ा! प्रोटीन एक मैक्रोन्यूट्रिएंट है, जो न केवल शरीर में मांसपेशियों को बढ़ाता है बल्कि शरीर के सही रूप से काम करने को सुनिश्चित करके आपके समग्र कल्याण का भी ध्यान रखता है. प्रोटीन की बात आते ही मात्रा और क्वालिटी को ध्यान में रखा जाता है, ताकि हमारा स्वास्थ हमेशा ठीक रहे. इसलिए हाई क्वालिटी वाले प्रोटीन को ही चुनें.

हाई क्वालिटी वाले प्रोटीन का मतलब "पूर्ण प्रोटीन" या "प्रोटीन जिसमें सभी 9 आवश्यक अमीनो एसिड हों." यह प्रोटीन आसानी से पच जाते हैं और मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए सही अनुपात में सभी अमीनो एसिड प्रदान करते हैं और इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत करते हुए डैमेज टिश्यू की मरम्मत में भी मदद करते हैं. प्रोटीन खाने से जुड़े अनेकों स्वास्थ्य लाभों के बावजूद लोगों को लगता है कि "अत्यधिक प्रोटीन स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है". लेकिन क्या इस बात में सच्चाई है? इतनी सारी जानकारी उपलब्ध होने के चलते तथ्यों को समझना मुश्किल हो सकता है.

इस बात को अच्छे से समझने के लिए आइए नजर डालें प्रोटीन खाने से जुड़े सबसे आम 5 मिथकों पर.

ये भी पढ़ें: Food for Body Part: शरीर के हर अंग के लिए खाना चाहिए अलग फूड, फायदे देखकर रह जाएंगे दंग, देखें फूड लिस्ट

मिथ 1- वेजिटेरियन फूड्स पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन प्रदान नहीं करते.
देश की जानी-मानी न्यूट्रिशनिस्ट नमामि अग्रवाल का कहना है कि सब्जियों से मिलने वाले प्रोटीन को अक्सर पशुओं से मिलने वाले प्रोटीन की तुलना में कमतर माना जाता है. जबकि सच यह है कि ये विभिन्न सब्जियां प्रोटीन की एक बहुमुखी मात्रा प्रदान करती हैं. जिनमें से कुछ हाई क्वालिटी वाले प्रोटीन भी होते हैं. सोया, क्विनोआ, अमरंथ, बकव्हीट और चिया के बीज सभी 9 अमीनो एसिड की बड़ी मात्रा प्रदान करते हैं और प्रोटीन के पूर्ण स्रोत के रूप में जाने जाते हैं. इसके अलावा, साबुत अनाज के साथ फलियां और दालों का सेवन संपूर्ण प्रोटीन प्राप्त करने का एक अच्छा तरीका है, जैसे: चावल और दाल, चपाती और छोले की सब्जी या पीनट बटर के साथ व्हीट ब्रेड. प्लांट बेस्ड प्रोटीन का सेवन करते समय आपको बस इतना ध्यान रखना है कि आप सभी खाद्य पदार्थों को मिलाकर अच्छे से अपनी डाइट को संतुलित करें, जिससे प्रोटीन सहित सभी पोषक तत्वों की पर्याप्त खपत सुनिश्चित हो सके.

मिथ 2- हाई प्रोटीन डाइट हड्डियों और किडनियों के लिए हानिकारक होती है.
NmamiLife की फाउंडर और सीईओ नमामि अग्रवाल का कहना है कि बहुत से लोग मानते हैं कि उच्च प्रोटीन डाइट से एसिड बनता है, जो हड्डियों को नुकसान पहुंचा सकता है या किडनियों के कामकाज को प्रभावित कर सकता है. यह बात शायद ही सच हो, क्योंकि प्रोटीन की अधिक खपत किडनियों पर कुछ दबाव बढ़ाती है, लेकिन यह किडनियों द्वारा किए जाने वाले कामों की तुलना में कम है. हमारी आपको यही सलाह हैं कि अपने आप को स्वस्थ बनाए रखने के लिए हेल्थ एक्सपर्ट से अपने प्रोटीन की दैनिक खुराक के बारे में जरूर बात करें.

ये भी पढ़ें: Best time of Lunch: क्या आप सही समय पर खा रहे हैं दोपहर का खाना, वरना कर देंगे गलती

मिथ 3- डेली प्रोटीन का सेवन कम करने से वजन कम करने में मदद मिलती है.
प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ आपके शरीर से अतिरिक्त वजन को कम करने के लिए प्रसिद्ध हैं. यह न केवल शरीर के उन संकेतों को सक्रिय करता है, जो आपकी क्रेविंग को कम करते हैं बल्कि यह आपके मेटाबॉलिज्म को भी तेज करता है, जिसका मतलब है कि वजन कम हो रहा है. प्रोटीन के उचित सेवन से भूख बढ़ाने वाले हार्मोन घ्रेलिन कम हो जाते हैं, जिससे वजन कम करने की कोशिशों को और बढ़ावा मिलता है. अपने हर भोजन में प्रोटीन को शामिल करने की कोशिश करें और अच्छे परिणामों के लिए प्रोटीन युक्त नाश्ता करें.

मिथ 4- प्रोटीन केवल मांसपेशियों के विकास में सहायता करता है.
यह सच नहीं है! प्रोटीन अमीनो एसिड से बनता है, जो कि मांसपेशियों का एक आवश्यक तत्व है. लेकिन यह टिश्यूज, टेंडन व लिगामेंट्स, त्वचा, बाल व नाखून, हार्मोन और एंटीबॉडी, इम्युनिटी, एंजाइम और यहां तक ​​कि ऊर्जा के अविश्वसनीय स्रोत का महत्वपूर्ण हिस्सा है. इसलिए प्रोटीन से सिर्फ मांसपेशियों का विकास नहीं बल्कि और भी बहुत सारे फायदे होते हैं.

मिथ 5- नाश्ते में उच्च प्रोटीन नहीं खाना चाहिए
न्यूट्रिशनिस्ट के मुताबिक, लोग ऐसा कहते हैं कि नाश्ता दिन का सबसे महत्वपूर्ण भोजन होता है और नाश्ते में प्रोटीन का सेवन आपके पूरे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है! प्रोटीन से भरपूर नाश्ता आपकी ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है, आपकी क्रेविंग को कम करता है, आपका मेटाबोलिज्म कुशलता से काम करता है और आपके शरीर को स्वस्थ और तंदुरुस्त बनाए रखता है. इससे ज्यादा और क्या चाहिए? नाश्ते में खाने के लिए बहुत से हाई प्रोटीन विकल्प मौजूद हैं जिन्हें आप चुन सकते हैं. वेजिटेबल ऑमलेट, नट्स के साथ योगर्ट, ओटमील, फ्रूट स्मूदी, स्क्रैम्बल्ड टोफू और फ्रूट पैराफिट ऐसे ही कुछ आसान हाई प्रोटीन नाश्ते के विकल्प हैं, जिन्हें आपको जरूर आजमाना चाहिए।

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.

Trending news