close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

श्रीलंका सीरियल ब्‍लास्‍ट में 4 JDS नेताओं की भी मौत, कर्नाटक CM कुमारस्‍वामी ने की पुष्टि

कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी ने पहले इनकी मौत की आशंका जताई थी. बताया जा रहा है कि जेडीएस के 7 नेता 20 अप्रैल को श्रीलंका के दौरे पर गए थे. 

श्रीलंका सीरियल ब्‍लास्‍ट में 4 JDS नेताओं की भी मौत, कर्नाटक CM कुमारस्‍वामी ने की पुष्टि
20 अप्रैल को श्रीलंका गए थे 7 जेडीएस नेता. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में रविवार को हुए 8 बम धमाकों में जनता दल (सेक्‍यूलर) यानी जेडीएस के 4 नेताओं की भी मौत हुई है. इसकी पुष्टि कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी ने की है. पहले दो नेताओं की मौत की पुष्टि श्रीलंका में भारतीय उच्‍चायोग और विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने की थी. बताया जा रहा है कि जेडीएस के 7 नेता 20 अप्रैल को श्रीलंका के दौरे पर गए थे. लेकिन धमाकों के बाद इनसे संपर्क नहीं हो सका है.

 

इन जेडीएस नेताओं के नाम लक्ष्‍मण गौड़ा रमेश, केएम लक्ष्‍मीनारायण, एम रंगप्‍पा और केजी हनुमंथरैयप्‍पा हैं.  विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने श्रीलंका बम ब्‍लास्‍ट में मारे गए भारतीयों के जिन नामों पर श्रीलंका में मौजूद भारतीय उच्‍चायोग के ट्वीट को रीट्वीट किया था, उसमें 2 नाम भी शामिल हैं.

 

बता दें कि रविवार को 8 बम धमाकों में श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में अब तक 290 लोगों की मौत हुई है और करीब 500 लोग घायल हुए हैं. मरने वालों में  पांच भारतीय भी शामिल हैं. कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्‍वामी ने इस पर शोक व्‍यक्‍त किया है. 


धमाके के बाद चर्च की उड़ गई छत. फोटो रॉयटर्स 

कोलंबो में भारतीय उच्चायोग ने कहा कि वह श्रीलंका की परिस्थितियों की निगरानी कर रहा है. उच्चायोग ने ट्वीट किया, ‘‘हम स्थिति पर लगातार नजर रख रहे हैं. भारतीय नागरिक किसी भी तरह की सहायता, मदद और स्पष्टीकरण के लिए इन नंबरों पर फोन कर सकते हैं- +94777903082, +94112422788, +94112422789.’’ 

उच्चायोग ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘ दिये गये नंबरों के अलावा भारतीय नागरिक किसी भी सहायता के लिए +94777902082, +94772234176 नंबरों पर भी फोन कर सकते हैं.’’ पहले धमाकों की खबर कोलंबो के सेंट एंथनी गिरजाघर और राजधानी के बाहर नेगोम्बो में सेंट सेबेस्टियन गिरजाघर से आई.