close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर के 575 युवा भारतीय सेना में हुए शामिल

जम्मू कश्मीर लाइट इंफ़ेन्ट्री रेजीमेटंल सेण्टर, श्रीनगर में आज पासिंग आउट परेड के माध्यम से घाटी के 575 युवाओं ने देश की रक्षा की शपथ ली और भारतीय सेना के अभिन्न अंग बने. 

अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर के 575 युवा भारतीय सेना में हुए शामिल
हिंदू, मुस्लिम, सिख, बौद्ध धर्म के धर्मगुरुओं ने जम्मू कश्मीर से युवाओं को शपथ दिलाई.

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के युवाओं के हाथ में अब पत्थर नहीं बल्कि भारतीय सेना की बंदूक़ होगी, जो कि देश की रक्षा के लिए तत्पर रहेंगे. ये बदलते कश्मीर की कहानी है, जहां का युवा अब देश की एकता, अखंडता और रक्षा के लिए भारतीय सेना में शामिल हो रहा है. जम्मू कश्मीर के 575 युवा शनिवार को भारतीय सेना में शामिल हुए. 

जम्मू कश्मीर लाइट इंफ़ेन्ट्री रेजीमेटंल सेण्टर, श्रीनगर में आज पासिंग आउट परेड के माध्यम से घाटी के 575 युवाओं ने देश की रक्षा की शपथ ली और भारतीय सेना के अभिन्न अंग बने. बलिदानम् वीरं लक्षणम् और भारत माता के नारों के बीच देश के तिरंगे के सामने घाटी के युवाओं ने भारत की रक्षा के लिए और देश की आन बान शान के लिए शपथ ली. हिंदू, मुस्लिम, सिख, बौद्ध धर्म के धर्मगुरुओं ने जम्मू कश्मीर से युवाओं को शपथ दिलाई. 

भारतीय सेना की हिस्सा बनने के बाद जम्मू कश्मीर के युवाओं ने Zee News से बातचीत में कहा कि हम देश के लिए मर मिटने को तैयार हैं. भारत मां की रक्षा के लिए हम हमेशा तत्पर रहेंगे. भारतीय सेना की JAK LI रेजिमेंट में के इन जवानों ने कहा कि हमें सेना में शामिल होने पर गर्व महसूस हो रहा है. नवनियुक्त सैनिकों ने कश्मीर के युवाओं से अपील भी की कि देशहित में आगे आएं और देश की रक्षा के लिए भारतीय सेना में शामिल हों.

जम्मू कश्मीर के जो जवान आज भारतीय सेना में शामिल हुए हैं, उनके परिवार के सदस्य भी श्रीनगर पहुंचे थे. परिवार के लोगों ने Zee News से बातचीत की और कहा कि हमारे बेटे आज से देश सेवा में लग जाएंगे, ये हम सभी के लिए गर्व की बात है.

लाइव टीवी देखें

भारतीय सेना के लेफ़्टिनेंट जनरल अश्विनी कुमार ने Zee News से बातचीत में कहा कि जम्मू कश्मीर में लगातार भर्ती चलती रहेगी और ये बदलते कश्मीर की तस्वीर है. भारतीय सेना हर क़दम पर आपके साथ खड़ी है, जो बच्चे आगे बढ़ना चाहते हैं, उनके साथ भारतीय सेना है.
 
आपको बता दें जम्मू कश्मीर लाइट इंफ़ेन्ट्री रेजीमेंट की शुरूआत 1947 में हुई थी. उस वक़्त घुसपैठियों को रोकने के लिए इसका गठन किया गया था. इस रेजीमेंट को 1972 में भारतीय सेना का अभिन्न अंग बनाया गया. कुल मिलाकर अब ये कहा जा सकता है कि जम्मू कश्मीर में जहां एक तरफ विकास को रोडमैप तैयार किया जा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ जम्मू कश्मीर के युवाओं को मुख्य धारा में जोड़ने की कवायद भी जारी है.