close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उन्नाव से जुड़ा एक और मामला पहुंचा SC; चर्चित ज्योति दहेज हत्याकांड में ट्रांसफर पीटिशन दायर

उन्नाव (Unnao) से जुड़ा एक और मामला सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) पहुंच गया है. ये मामला उन्नाव के चर्चित ज्योति दहेज हत्याकांड (Jyoti Dowry murder case) का है. 

उन्नाव से जुड़ा एक और मामला पहुंचा SC; चर्चित ज्योति दहेज हत्याकांड में ट्रांसफर पीटिशन दायर
मृतक महिला की शादी के दौरान कुलदीप सिंह सेंगर आशीर्वाद देते हुए

नई दिल्ली: उन्नाव (Unnao) से जुड़ा एक और मामला सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) पहुंच गया है. ये मामला उन्नाव के चर्चित ज्योति दहेज हत्याकांड (Jyoti Dowry murder case) का है. मृतक महिला के पिता राकेश सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर पीटिशन (Transfer petition) दायर कर उन्नाव रेप केस (Unnao Rape case) के तर्ज पर इस केस को भी दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग की है. साथ ही इस मामले की सीबीआई (CBI) जांच की भी मांग की गई है. दरअसल, इसी साल 14 मई को ज्योति की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. मृतक महिला के पिता का आरोप है कि उसकी बेटी की शादी 4 दिसंबर 2017 में पूर्व ब्लॉक प्रमुख मुन्नू सिंह चौहान के बेटे गोलू सिंह चौहान के साथ हुई थी. ये ब्लॉक प्रमुख पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) का करीबी बताया जा रहा है.

पिता का कहना है कि दहेज के लिए उसकी बेटी की गोली मारकर हत्या कर दी गई. आपको बता दें कि मौत से 2 महीने पहले इसी साल 15 मार्च को ज्योति ने एक बच्ची को जन्म दिया था. पिता का कहना है कि ज्योति के मौत के बाद 2 महीने की बच्ची कहां है किसी को नहीं पता. इस मामले में 6 लोगों पर FIR दर्ज की गई थी. लेकिन 3 लोगों की ही गिरफ्तारी संभव हो पाई. कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) के प्रभाव के चलते 3 लोगों पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. जिनमें लिंकन सिंह उर्फ हरि ओम, जेठानी विनीता सिंह और देव कली शामिल हैं. इन तीनों लोगों को पुलिस (police) ने बाद में क्लीन चिट (clean chit) दे दी थी.

देखें लाइव टीवी

मृतक के पिता का यह भी आरोप है कि पूर्व ब्लॉक प्रमुख मुन्नू सिंह चौहान कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) का खास करीबी है. जिसके चलते अब तक न्याय नहीं मिल पा रहा है. इस केस पर कुलदीप सिंह सेंगर का ऐसा प्रभाव है कि न तो पुलिस (police) के आलाधिकारी सुन रहे हैं और न ही उन्हें न्याय मिल पा रहा है. कहीं से न्याय ना मिलता देख उन्होंने आखिरी रास्ता सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) चुना. पिता और मृतक महिला के भाई रोहित सिंह का आरोप है कि उन्हें जान से मारने की धमकी मिल रही है और केस (case) वापस लेने के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा है.