'बैक्टीरिया हुए असरदार, एंटीबायोटिक दवाएं तेजी से हो रही बेअसर'- WHO की चिंता बढ़ाने वाली रिपोर्ट
topStories1hindi1478677

'बैक्टीरिया हुए असरदार, एंटीबायोटिक दवाएं तेजी से हो रही बेअसर'- WHO की चिंता बढ़ाने वाली रिपोर्ट

WHO Report: रिपोर्ट में ये भी सामने आया कि 8% मरीजों पर (Carbapenem) कार्बापेनम ग्रुप की दवाएं यानी लेटेस्ट एंटीबायोटिक्स भी काम नहीं कर रही हैं 

'बैक्टीरिया हुए असरदार, एंटीबायोटिक दवाएं तेजी से हो रही बेअसर'- WHO की चिंता बढ़ाने वाली रिपोर्ट

Antibiotics: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)  की लेटेस्ट रिपोर्ट में खुलासा हुआ हैकि दुनिया भर में एंटीबायोटिक दवाएं तेजी से बेअसर हो रही हैं. दरअसल दुनिया के 127 देश अपने यहां का डाटा डब्ल्यूएचओ से साझा करते हैं कि उनके देश में एंटी माइक्रोबियल रेजिस्टेंस (Anti Microbial Resistance) यानी एंटीबायोटिक्स के बेअसर होने की स्पीड क्या है.

इसी डाटा के आधार पर इस रिपोर्ट में ये आंकलन किया गया है कि फिलहाल कैसे हालात हैं. रिपोर्ट का नाम है Global Antimicrobial Resistance and Use Surveillance System (‎GLASS)‎ Report: 2022 यानी GLASS REPORT. इसके  नतीजे चिंता बढ़ाने वाले हैं. 

पहली बार रिपोर्ट में पाया गया है कि अस्पतालों में भर्ती गंभीर मरीजों में से 50 % को Klebsiella Pneumonia (क्लैबसेला निमोनिया) और Acinetobacter (एसिनेटोबेक्टर) spp नाम के दो बैक्टीरिया अपना शिकार बना रहे हैं और इंफेक्शन खून तक भी पहुंच रहा है.

कार्बापेनम ग्रुप की दवाएं काम नहीं कर रही हैं
रिपोर्ट में ये भी सामने आया कि 8% मरीजों पर (Carbapenem) कार्बापेनम ग्रुप की दवाएं यानी लेटेस्ट एंटीबायोटिक्स भी काम नहीं कर रही हैं और मरीज की मौत हो जाती है. कार्बापेनम एंटीबायोटिक दवाएं ब्रॉड स्पेक्ट्रम (Broad Spectrum) दवाएं होती हैं.

ये वो लेटेस्ट जेनरेशन एंटीबायोटिक दवाएं हैं जो मोटे तौर पर कई सारे बैक्टीरियल इंफेक्शन पर एक साथ काम करती हैं. कार्बापेनम ग्रुप में Imipenem, Meropenem, Ertapenem, and Doripenem जैसी स्ट्रांग और लेटेस्ट एंटीबायोटिक दवाएं शामिल हैं. 

Neisseria Gonorrhea के 60% इंफेक्शन दवाओं से बेअसर हो चुके हैं. ये एक STD यानी Sexually Transmitted Disease है. E.coli बैक्टीरिया के 20%मामलों में बहुत सी एंटीबायोटिक दवाएं काम नहीं कर रही. E coli (ई कोलाई) बैक्टीरिया Urinary Tract infections में सबसे ज्यादा पाया जाता है. इस इंफेक्शन के इलाज में 1st और 2nd जेनरेशन की एंटीबायोटिक दवाएं काम नहीं कर रहीं. 

और क्या कहती है रिपोर्ट?
रिपोर्ट में ये आंकलन किया गया कि 2017 से अब तक यानी 2022 तक कितने बदलाव हुए हैं. पहले के मुकाबले इंफेक्शन के खून में पहुंचने तक के मामलों में 15% की बढ़ोतरी दर्ज की गई है.  दो बैक्टीरिया के मामले में दवाओं के बेअसर होने का औसत 42% (E. Coli)  और 35% (MRSA) से ज्यादा है लेकिन रिसर्चरों का मानना है कि गरीब देशों और मिडिल इनकम देशों में ये दर ज्यादा है.

दरअसल इस मामले में हर अस्पताल से डाटा शेयर करने के मामले में विकसित देशों का मामला बेहतर है. उनके पूरे डाटा का आंकलन करने के बाद समझ में आया कि अमीर देशों में इन्हीं बैक्टीरिया के बेअसर होने की दर 11% और 6.8% पाई गई. गरीब देशों के बहुत से अस्पताल डाटा शेयर नहीं करते. इसलिए मौजूद डाटा के आधार पर ये पता चला है कि विकासशील देशों में एंटीबायोटिक्स के बेअसर होने की दर बढ़ रही है. 

एंटीबायोटिक दवाओं का बेअसर होना बड़ा खतरा
एंटीबायोटिक दवाओं के बेअसर होने को दुनिया पर मंडरा रहे 10 बड़े खतरों में माना गया है. लैंसेट के मुताबिक 2019 में दुनिया भर में 12 लाख 70 हज़ार लोगों की जान एंटीबायोटक दवाओं के काम ना करने की वजह से हो गई.

यानी ये वो दौर है जिसमें मरीज़ अस्पताल में भर्ती होगा, तो उसे अस्पताल से बैक्टीरिया वाले इंफेक्शन के संक्रमण का खतरा होगा. मरीज को दवाएं तो लिखी जाएंगी लेकिन दवाएं काम नहीं करेंगी और मरीज़ बेमौत मरने को मजबूर हो जाएगा.

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi - अब किसी और की जरूरत नहीं

Trending news