close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राफेल पर पीएम मोदी को मिला नीतीश कुमार का साथ, कहा- 'SC के फैसले के बाद ये कोई मुद्दा नहीं'

लोक संवाद कार्यक्रम के दौरान जब केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग संबंधी सवाल सीएम नीतीश कुमार से किया गया तो उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर मेरी जानकारी नहीं है. हाल में क्या हुआ है, इसके बारे में मुझे पता नहीं है.

राफेल पर पीएम मोदी को मिला नीतीश कुमार का साथ, कहा- 'SC के फैसले के बाद ये कोई मुद्दा नहीं'
ख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी जोरदार हमला किया है. (फाइल फोटो)

शैलेंद्र कुमार, पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर जोरदार हमला किया है. उन्होंने बिना नाम लिए कहा है कि जो भ्रष्टाचार पर आर्डिनेंस की कॉपी फाड़ रहे थे, वो अब क्या कर रहे हैं? क्या आप लोगों को पता है कि वो किसके साथ बैठकें कर रहे हैं? अब क्यों भ्रष्टाचार को मुद्दा नहीं मानने की मुहिम चलायी जा रही है? ये ट्रेंड पिछले डेढ़ साल से चल रहा है. मीडिया भी इस मुद्दे पर चुप है. किसी तरह का फॉलोअप नहीं आ रहा है. 

लोक संवाद कार्यक्रम के दौरान जब केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग संबंधी सवाल सीएम नीतीश कुमार से किया गया तो उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर मेरी जानकारी नहीं है. हाल में क्या हुआ है, इसके बारे में मुझे पता नहीं है, तो मैं कैसे इसका उत्तर दे सकता हूं. लेकिन बिहार में हमारी स्थिति पूरी तरह से साफ है. 

नीतीश कुमार

हम क्राइम, करप्शन और कम्युनलिज्म से किसी तरह का समझौता नहीं कर सकते हैं. हमारा भाजपा से मुद्दों के आधार पर 1996 से समझौता रहा है, अगर बीच के कुछ सालों को छोड़ दें, तो जार्ज फर्नांडिस के समय से हम मिलकर काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अगर कहीं पर भ्रष्टाचार होता है, तो एजेंसियां कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र हैं, अगर किसी को फंसाया जा रहा है, तो जो फंसा रहा है, उसे सिद्ध भी करना होता है. कोर्ट को फैसला करना है, तो क्या कोर्ट में वो सच साबित हो जायेगा. अगर नहीं होगा, तो फंसानेवाले का पूरा राज सामने आ जायेगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब अजीब सा ट्रेंड चल पड़ा है. भ्रष्टाचार को कोई मुद्दा ही नहीं माना जा रहा है. इसमें मीडिया का भी एक वर्ग शामिल है. अगर आपको विश्वास नहीं हो रहा है, तो हम आपके पुराने क्लिप और कतरन को ट्वीट कर सकते हैं. 
सीएम ने कहा कि लगभग डेढ़ साल से ये ट्रेंड चल रहा है. उन्होंने कहा कि जो लोग भ्रष्टाचार पर आए आर्डिनेंस को फाड़ रहे थे, उनकी क्या स्थिति आज है. वो क्या कर रहे हैं. कैसे उन आरोपियों की पार्टी के साथ समझौता किए हुये हैं. हमें तो समझ में नहीं आ रहा है. किस तरह की बात की जा रही है. नीतीश कुमार ने कहा कि जब बिहार में छापे पड़े थे, तो उस समय हमसे सवाल किए जा रहे थे?

मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रपिता महत्मा गांधी ने सात सामाजिक पाप बताये थे, उसमें उन्होंने भ्रष्टाचार की बात की थी, लेकिन अब बापू के बात को झुठलाया जा रहा है. आखिर किस तरह की बात हो रही है. रफाल के मुद्दे पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि इस पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ चुका है. संसद में भी बहस हो चुकी है, तो अब क्या बचा है. मुझे नहीं लगता कि रफाल अब कोई मुद्दा रह गया है.

मुख्यमंत्री ने ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर सीएम ने कहा कि हमार किस स्टैंड के हैं. ये पहले साफ है. हमारे रुख में ट्रिपल तलाक और मंदिर के मुद्दे पर किसी तरह का बदलाव नहीं है. हमें लगता है कि ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर मुस्लिम समाज से बात की जानी चाहिये. अगर किसी तरह की समस्या है, तो उस पर सुधार का सुझाव दिया जाना चाहिए. 

उन्होंने कहा कि ये बात भी सही है कि ट्रिपल तलाक के मुद्दे को लेकर मुस्लिम समाज की महिलाओं ने भी सवाल उठाया है. ये चूंकि एक बड़े समाज से जुड़ा मुद्दा है. इसलिए उस समाज को ही इस पर पहल करनी चाहिये. मुख्यमंत्री ने कहा कि देश संविधान से चलता है. मंदिर के मुद्दे का जिक्र करते हुये सीएम ने कहा कि कानूनी या फिर आपसी सहमति से इस पर फैसला होना चाहिये. सुप्रीम कोर्ट में मामला चल रहा है. अगर इस बीच किसी तरह की पहल होती है और आपसी बातचीत से मामला हल होता है, तो उसका भी स्वागत है.