PM मोदी के बर्थडे पर बिहार सरकार का स्पेशल 'मिशन', विपक्ष बोला-'कुर्सी बचाने के लिए चल रहा ड्रामा'

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन को लेकर एक बड़ा अभियान चलाने का निर्देश दिया है. 17 सितंबर को पूरे प्रदेश में कोरोना टीकाकरण का मेगा मिशन आयोजित किया जाएगा.

PM मोदी के बर्थडे पर बिहार सरकार का स्पेशल 'मिशन', विपक्ष बोला-'कुर्सी बचाने के लिए चल रहा ड्रामा'
PM मोदी के बर्थडे पर बिहार सरकार का स्पेशल 'मिशन'. (फाइल फोटो)

Patna: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) के जन्मदिन को लेकर तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं. बिहार सरकार ने भी प्रधानमंत्री के जन्मदिन को लेकर तैयारी की है. 17 सितंबर को पूरे प्रदेश में मेगा वैक्सीनेशन ड्राइव का फैसला किया गया है. खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) इस अभियान की मॉनिटरिंग करेंगे. स्वास्थ्य महकमे ने इस मिशन को कामयाब बनाने के लिए कमर कस ली है.

पीएम की सालगिरह को लेकर प्रदेश के सीएम की दिलचस्पी विपक्ष को रास नहीं आ रही है. विपक्ष ने इस मेगा वैक्सीनेशन ड्राइव पर सवाल खड़े कर दिए हैं. विपक्ष इसे पूरी तरह से राजनीतिक हथकंडा करार दे रहा है. RJD और कांग्रेस ने इस अभियान को लेकर बिहार सरकार को कटघरे में खड़ा किया है.

ये भी पढ़ें- PM मोदी के जन्मदिन पर गरमाई बिहार की राजनीति, RJD बोली-बर्थडे भी BJP के लिए इवेंट

टीकाकरण की तैयारियों में नीतीश सरकार, 17 सितंबर को चलेगा बड़ा अभियान 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्मदिन BJP के लिए बेहद खास है और पार्टी हर साल इस दिन विशेष कार्यक्रम करती है. इस साल जब देशभर में कोरोना (Corona) से बचाव को लेकर टीकाकरण अभियान चल रहा है, BJP 17 सितंबर से लेकर 7 अक्टूबर तक देश के अलग-अलग राज्यों में कार्यक्रमों का आयोजन करने की तैयारी में है. 17 सितंबर को पीएम का जन्मदिन है, तो 7 अक्टूबर वो तारीख है जब नरेन्द्र मोदी पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री बनें थे. ये दोनों दिन BJP के लिए खास हैं.

एक तरफ पार्टी स्तर पर BJP कार्यक्रम का आयोजन कर रही है, तो दूसरी तरफ सहयोगी दल JDU के नेता नीतीश कुमार के नेतृत्व में चल रही बिहार सरकार ने भी बड़ी तैयारी की है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन को लेकर एक बड़ा अभियान चलाने का निर्देश दिया है. 17 सितंबर को पूरे प्रदेश में कोरोना टीकाकरण का मेगा मिशन आयोजित किया जाएगा. इस दिन बड़ी संख्या में लोगों को वैक्सीनेट करने की तैयारी की जा रही है. स्वास्थ्य विभाग की तरफ से चलाए जाने वाले इस अभियान की मॉनिटरिंग खुद सीएम नीतीश कुमार करेंगे.

तेजस्वी का सीएम पर तेज निशाना, 'कुर्सी बचाने के लिए चल रहा ड्रामा'
इधर, प्रदेश सरकार ने जैसे ही पीएम के जन्मदिन को लेकर अपनी प्लानिंग बताई, पूरा विपक्ष आग-बबूला हो गया. विपक्ष को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का ये फैसला रास नहीं आया. विपक्ष ने इसे सीएम का राजनीतिक हथकंडा करार देकर जमकर निशाना साधा. विपक्ष ने सीएम को 2013 की याद दिलाते हुए कहा, 'ये कैसा रिश्ता है जिसमें पहले नीतीश कुमार पीएम मोदी का नाम सुनना पसंद नहीं करते थे. जब नरेन्द्र मोदी को BJP ने पीएम उम्मीदवार बनाया तो नीतीश कुमार ने NDA से रिश्ता खत्म कर लिया. नरेन्द्र मोदी के बिहार आगमन पर उन्होंने भोजन का निमंत्रण देकर थाली वापस खींच ली थी. अब उन्हीं नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन पर नीतीश कुमार कार्यक्रम चलाने की बात कर रहे हैं.'

विपक्ष ने 17 सितंबर को होने वाले कार्यक्रम को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मजबूरी करार दिया. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने कहा, 'सीएम नीतीश कुमार अब पीएम की खुशामद में लगे हैं. जब से BJP ने अलग-अलग प्रदेशों में अपने सीएम को बदला है, तब से बिहार के सीएम नीतीश कुमार को भी कुर्सी खोने का डर है. अपनी कुर्सी बचाने के लिए नीतीश कुमार प्रधानमंत्री की जी-हुजूरी में लगे हैं.'

ये भी पढ़ें- पटना में भव्य तरीके से मनाया जाएगा PM Modi का जन्मदिन, जानें क्या है प्रोग्राम

नेता प्रतिपक्ष के बयान पर NDA का पलटवार, विपक्ष की सोच को कहा ओछी मानसिकता 
वहीं, प्रधानमंत्री का जन्मदिन मनाने को लेकर विपक्ष ने जब सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधा तो पूरे NDA ने जोरदार पलटवार किया. JDU ने इसे विपक्ष की ओछी मानसिकता करार दिया. JDU ने कहा कि 'विपक्षी दल कभी विकास की बात कर ही नहीं सकते. इन्हें कभी जनता की भलाई की चिंता नहीं होती. केन्द्र और राज्य सरकार के विकास कार्यों से इन्हें जलन होती है. पीएम मोदी और सीएम नीतीश की उपलब्धियों से ये खार खाते हैं. मेगा वैक्सीनेशन ड्राइव से जनता का भला होगा, लेकिन विपक्ष को इसमें भी गंदी राजनीति करनी है.'

BJP ने भी विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधा. BJP ने कहा, 'आधुनिक भारत में और आजाद भारत में पीएम मोदी से ज्यादा कल्याणकारी कार्य किसी भी प्रधानमंत्री ने नहीं किए होंगे. इसलिए प्रधानमंत्री के जन्मदिन पर जनता की भलाई के लिए अच्छे कार्यक्रम चलाए जाने चाहिए. विपक्ष को भी पीएम के जन्मदिन पर होने वाले कार्यक्रम में सम्मिलित होना चाहिए.'