छपरा: क्राइम के सवाल पर डीजीपी ने कहा- अपराधी किसी को भी मार सकते हैं चाहे DGP क्यों ना हो

छपरा पुलिस लाइन के मैदान में दोनों शहिद पुलिस के जवानों को सलामी दी गई जिसमें बिहार के डीजीपी एवम सारण के डीआईजी, एसपी एवम जिलाधिकारी सहित सैकड़ों लोगों ने शहीद जवानों श्रधांजलि दी. 

छपरा: क्राइम के सवाल पर डीजीपी ने कहा- अपराधी किसी को भी मार सकते हैं चाहे DGP क्यों ना हो
छपरा पुलिस लाइन के मैदान में दोनों शहीद पुलिस को डीजीपी ने श्रद्धांजली दी.

छपरा: बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय आज छपरा पहुंचे. छपरा पुलिस लाइन के मैदान में दोनों शहीद पुलिस के जवानों को सलामी दी गई. आपको बता दें कि पुलिस लाइन जहां कल अपराधियों द्वारा अंधाधुंध फायरिंग कर एक दरोगा मिथलेश कुमार साह और एक सिपाही फारूक की हत्या कर दी गई थी.

छपरा पुलिस लाइन के मैदान में दोनों शहिद पुलिस को जवानों को सलामी दी गई जिसमें बिहार के डीजीपी एवम सारण के डीआईजी, एसपी, जिलाधिकारी सहित सैकड़ों लोगों ने शहीद जवानों श्रधांजली दी. वही बिहार के डीजीपी ने मीडिया से बात करने के दौरान बताया कि हम सभी को जात-पात से ऊपर उठकर अपराधियों से लड़ना होगा.

 

डीजीपी ने कहा कि हम अपने शहीद जवानों की कुर्बानी बेकार नही जाने देंगे. अपराधियों को खोज कर निकालेंगे जिन्होंने इस घटना को अंजाम दिया है. वहीं, शहिद दरोगा के बड़े भाई ने डीजीपी से घटना की सीबीआई जांच जी मांग की तो डीजीपी भड़क उठे और उन्होंने कहा कि हम इसकी जांच करने के लिए सक्षम हैं. सीबीआई जांच का आदेश राज्य सरकार का काम है.

वहीं, मीडिया के सवालों पर भी डीजीपी भड़क उठे और कहा कि आये दिन इस तरह की घटनाएं आम हो गई है और अपराधियो का मनोबल बढ़ता जा रहा है. अपराधी किसी की भी हत्या कर सकते हैं, चाहे वह डीजीपी ही क्यों ना हों. 

आपको बता दें कि शहीद मिथलेश कुमार साह गरीबों के मसीहा माने जाते थे. उनके ईमानदारी की चर्चा सभी के जुबान पर रहती है. इनकी पोस्टिंग जिले भर के जिस-जिस थानों में बतौर थानेदार होती थी वहां की जनता सुकून से रहती थी.