बिहार में 'मॉब लिंचिंग' ने बढ़ाया प्रशासन का सिरदर्द, महज ढाई महीने में 39 घटनाएं

बच्चा चोरी की अफवाह या कई अन्य मामलों भीड़ द्वारा कानून को हाथ में लेकर हिंसा करने की घटना थमने का नाम नहीं ले रही है. पुलिस मुख्यालय के आंकड़ों के मुताबिक पिछले ढाई महीनों के दौरान मॉब लिंचिंग (भीड़ हिंसा) में 14 लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई.

बिहार में 'मॉब लिंचिंग' ने बढ़ाया प्रशासन का सिरदर्द, महज ढाई महीने में 39 घटनाएं
ढाई महीनों में मॉब लिंचिंग में 14 लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई.(प्रतीकात्कम तस्वीर)

पटना: बिहार में पुलिस की लाख कोशिशों के बावजूद बच्चा चोरी की अफवाह या कई अन्य मामलों भीड़ द्वारा कानून को हाथ में लेकर हिंसा करने की घटना थमने का नाम नहीं ले रही है. पुलिस मुख्यालय के आंकड़ों के मुताबिक पिछले ढाई महीनों के दौरान मॉब लिंचिंग (भीड़ हिंसा) में 14 लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई, जबकि 45 घायल हुए हैं. इस दौरान मॉब लिंचिंग की 39 घटनाएं दर्ज की गईं.

बिहार पुलिस मुख्यालय लगातार ऐसे मामलों को लेकर संवेदनशील इलाकों में जागरुकता अभियान चला रही है. पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी मानते हैं कि बच्चा चोरी की घटना हुई नहीं हैं परंतु अफवाह के कारण भीड़ उन्मादी हो रही है. हालांकि, पुलिस कानून को हाथ में लेने वालों को कड़ी चेतावनी देते हुए लोगों को जागरूक करने जैसे कदम उठा रही है.

 

बच्चा चोरी के अफवाह को लेकर इस कदर दहशत का माहौल बन गया है कि अभिभावक भी चिंतित हैं. बिहार में बच्चा चोरी करने का शक होते ही लोग उग्र हो जा रहे हैं और उसकी जमकर पिटाई कर दे रहे हैं.

मुजफ्फरपुर के माड़ीपुर चित्रगुप्त नगर में बुधवार को बच्चो चोरी के आरोप में स्थानीय लोगों ने दो महिलाओं को पकड़ लिया और उसकी जमकर पिटराई कर दी. पुलिस के सही वक्त पर पहुंच जाने के कारण दोनों महिलाओं की जान जरूर बच गई, परंतु दोनों बुरी तरह जख्मी हो गई हैं.

समस्तीपुर जिले में भी दो दिन पूर्व भीड़ हिंसा का मामला सामने आया. लोगों ने एक विक्षिप्त बुजुर्ग महिला को बच्चा चोरी के आरोप में सड़क पर पटक कर डंडे और लातों से जकर पीटा. हालांकि इस दौरान कुछ समझदार लोगों द्वारा महिला को भीड़ से बचाया गया.

उल्लेखनीय है कि बिहार की राजधानी पटना हो या राज्य के सुदूरवर्ती क्षेत्र ऐसी घटनाएं सामने आ रही हैं. पूर्वी चंपारण जिले के फेनहारा थाना में भीड़ ने नौ सितंबर को एक व्यक्ति की भीड ने पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी, बाद में मृतक की पहचान सीतामढ़ी के शत्रुघ्न सिन्हा के रूप में की गई. इससे पहले आठ सितंबर को भीड़ ने एक 22 साल के युवक की भी चोरी के अफवाह के कारण हत्या कर दी थी.

पुलिस मुख्यालय में दर्ज आंकड़ों के मुताबिक, बिहार में ढाई महीने के दौरान मॉब लिंचिंग में 14 लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई, जबकि 45 घायल हुए हैं. मॉब लिंचिंग की 39 घटनाएं इस दौरान दर्ज की गईं. पुलिस के मुताबिक इन घटनाओं में 348 नामजद और 4000 अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) जितेन्द्र कुमार ने कहा कि मॉब लिंचिंग के खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई कर रही है. भीड़ में शामिल वैसे तमाम शख्स जो वीडियो फुटेज में आते हैं या फिर उनकी मौजूदगी की जानकारी मिलती है, उनपर कार्रवाई की जा रही है.

उन्होंने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा, "जुलाई से अबतक मॉबलिंचिंग की 39 घटनाओं में 278 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. वीडियो फुटेज की मदद से भी मॉब लिंचिंग में शामिल लोगों को चिह्न्ति कर कार्रवाई की जा रही है."

उन्होंने बताया मॉब लिंचिंग की घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस जागरूकता फैला रही है, जिसके लिए ऑडियो क्लिप और पोस्टर का भी सहारा लिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं में त्वरित सुनवाई कर दोषियों को सजा दिलाने की कोशिश की जाएगी. (इनपुट IANS से भी)