बिहार: कोरोना से परेशान लोगों से पप्पू यादव का वादा, सत्ता में आए तो फ्री में होगा हर तरह का इलाज

Bihar News:  जाप संयोजक पप्पू यादव ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पीएमसीएच में सिर्फ ऑक्सीजन ही नहीं बल्कि रेमडेसिवीर जैसी दवाओं पर भी कालाबाजारी हो रही है.   

बिहार: कोरोना से परेशान लोगों से पप्पू यादव का वादा, सत्ता में आए तो फ्री में होगा हर तरह का इलाज
पप्पू यादव ने बिहार में सरकार बनने पर फ्री इलाज देने का वादा किया

Patna: बिहार में कोरोना का कहर जारी है. इस बीच पटना हाई कोर्ट की जांच टीम ने राजधानी के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच में ऑक्सीजन को लेकर हो रही गड़बड़ी का खुलासा किया है.
हाई कोर्ट की जांच टीम ने पाया कि अस्पताल में खर्च हो रहे ऑक्सीजन सिलेंडर से दोगुना अधिक सिलेंडर का आंकड़ा सरकार को अस्पताल प्रशासन की तरफ से भेजा जा रहा है. अब इस मामले में सियासत तेज हो गई है. 

जाप संयोजक पप्पू यादव ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पीएमसीएच में सिर्फ ऑक्सीजन ही नहीं बल्कि रेमडेसिवीर जैसी दवाओं पर भी कालाबाजारी हो रही है. 
उन्होंने कहा कि निजी अस्पतालों को रेमडेसिवीर मिलती है, लेकिन सरकारी अस्पताल में यह इंजेक्शन उपलब्ध नहीं है. ऐसे में सरकारी अस्पतालों में दवा के अभाव में मरीज की मौत हो रही है.

इसके साथ ही पप्पू यादव ने कहा कि जब रेमडेसिवीर दवा कहीं मिल नहीं रहा है तो ऐसे में कुछ लोग इस दवा को कैसे बांट रहे हैं. इसकी जांच बिहार सरकार को मजिस्ट्रेट से करानी चाहिए.  उन्होंने कहा कि कई राज्यों में कोरोना मरीजों को सरकारी व गैर सरकारी अस्पतालों में हर तरह से फ्री इलाज किया जा रहा है. ऐसे में बिहार सरकार को चाहिए कि वह कोरोना मरीजों का फ्री में इलाज कराएं.

ये भी पढ़ें- Oxygen Scam! PMCH में भर्ती मरीजों से दोगुनी दिखाई जा रही Oxygen खपत, इस तरह हुआ खुलासा

साथ ही पप्पू यादव ने पीएमसीएच के डॉक्टर पर दवा व ऑक्सीजन के कालाबाजारी करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि बिहार की सता में आया तो किसी भी तरह इलाज राज्य में मुफ्त में होगा. यही नहीं सिस्टम कारण से किसी की  मौत नहीं होगी.

गौरतलब है कि पीएमसीएच में ऑक्सीजन को लेकर हो रहे गड़बड़ी का मामला सामने आने के बाद कई भाजपा नेता व एमएलसी नवल किशोर यादव ने भी इस महामारी के दौरान अस्पताल व डॉक्टरों के रवैये पर सवाल खड़ा किया है. भाजपा नेता नवल किशोर यादव ने कहा कि अस्पताल व डॉक्टर कालाबजारी में लगे हुए हैं. आम लोगों की मौत हो रही है. ऐसे में सरकार को इस मामले में निगरानी करने की जरूरत है.