झारखंड में लगेगा लॉकडाउन! राजनीतिक दलों ने की मांग, कर्मचारियों ने किया यह काम

राज्य के कर्मचारी इस लहर की चैन को तोड़ने के लिए आगे हैं. झारखंड सचिवालय संवर्ग के कर्मियों ने सामूहिक अवकाश का एलान किया है. 

झारखंड में लगेगा लॉकडाउन! राजनीतिक दलों ने की मांग, कर्मचारियों ने किया यह काम
कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए आगे आये कर्मचारी(प्रतीकात्मक फोटो)

Ranchi: झारखंड (Jharkhand) में कोरोना (Corona) के हालात लगातार बेकाबू होते जा रहे हैं. राज्य में पिछले 24 घंटों में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा 4000 से ऊपर जा चुका है. ऐसे में अब राज्य के कर्मचारी इस लहर की चैन को तोड़ने के लिए आगे हैं. झारखंड सचिवालय संवर्ग के कर्मियों ने सामूहिक अवकाश का एलान किया है. 

इसके अलावा संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए शहीद चौक स्थित अटल वेंडर मार्केट के व्यवसायियों ने सामूहिक तौर पर अपने-अपने प्रतिष्ठान को एक सप्ताह के लिए बंद रखने का निर्णय लिया है. 

लॉकडाउन की उठ रही मांग

कांग्रेस (Congress) विधायक दीपिका पांडेय ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से लॉकडाउन की मांग की हैं. उन्होंने कहा है कि राज्य  के हालात काफी ज्यादा खराब हैं. ऐसे में सरकार को प्रदेश में लॉकडाउन लगाने पर ध्यान देना होगा. इसके अलावा दवा से लेकर ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने पर भी जोर दिया है. 

झारखंड कांग्रेस के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठकुर ने भी राज्य सरकार से लॉकडाउन लगाने कहा है. उन्होंने कहा है कि कोरोना से बचने के लिए अब सिर्फ लॉकडाउन ही एकमात्र रास्ता बचा हुआ है. इसके अलावा उन्होंने सुझाव देते हुए कहा कि सरकार अलग-अलग हिस्सों में भी लॉकडाउन लगा सकती है ताकि लोगों को रोजगार की भी दिक्कत न हो. वहीं, अब राज्य में कोरोना वैक्सीन को लेकर युद्धस्तर पर तैयारी करनी होगी. 

ये भी पढ़ें: नीतीश कैबिनेट ने 9 एजेंडों पर लगाई मुहर, वाहनों में मनपसंद नंबर के संशोधन प्रस्ताव पर को दी स्वीकृति

बीजेपी (BJP) के प्रदेश प्रवक्ता प्रदीप सिन्हा ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि राज्य में संकट के हालात बने हुए हैं,इसके बाद भी सरकार ने अभी तक कोई भी बड़ा फैसला नहीं लिया है. बीजेपी लगातार लॉकडाउन की मांग कर रही है. ऐसे में सरकार को इस पर गंभीरता से सोचना चाहिए.