106 साल के बुजुर्ग ने दी कोरोना को मात, 'सुपर अंकल' ने डॉक्टरों को भी किया हैरान

डॉक्टरों का कहना है कि 100 से भी अधिक उम्र के एक बुजुर्ग दिल्ली में कोविड-19 के पहले मरीज हैं जो महज 17 दिनों में इससे रिकवर होकर घर लौट गए. 

106 साल के बुजुर्ग ने दी कोरोना को मात, 'सुपर अंकल' ने डॉक्टरों को भी किया हैरान

नई दिल्ली: कोविड 19 (Covid 19) की सबसे अधिक मार झेल रहे शहरों में से एक है दिल्ली. आंकड़ों में लगातार हो रही बढ़ोतरी देख शहर के लोगों में बीमारी का डर है. लेकिन यहां एक ऐसा मामला सामने आया है जिसने डॉक्टरों को भी हैरान कर दिया है. 

डॉक्टरों का कहना है कि 100 से भी अधिक उम्र के एक बुजुर्ग दिल्ली में कोविड-19 के पहले मरीज हैं जो महज 17 दिनों में इससे रिकवर होकर घर लौट गए. उनको मई में राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल से छुट्टी दी गई थी. वह पूरी तरह स्वस्थ हैं और दूसरों को इससे लड़ने की राह दिखा हैं. 

चौंकाने वाली बात ये भी है कि इस उम्र में भी उनका रिकवरी रेट बेहद तेज था. उनका 70 साल का बेटा भी कोरोना से संक्रमित हुआ था, लेकिन मुख्तार अपने बेटे से ज्यादा तेजी से इस बीमारी से उबरे. उनके पत्नी, बेटे समेत परिवार के अन्य सदस्यों को भी करोना हुआ था और  अब सभी को छुट्टी दी जा चुकी है.

ये भी पढ़ें- WHO ने माना- हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस; बदल सकती हैं गाइडलाइंस

मुख्तार अहमद दावा करते हैं कि वो 107 वर्ष के हैं और बहुत सी बीमारियों का सामना कर चुके हैं. मुख्तार अहमद ने बताया कि 1918  में जब वो छोटे थे तो उन्होंने महामारी स्पेनिश फ्लू का भी सामना किया था.

VIDEO...

बता दें कि स्पेनिश फ्लू ने पूरी दुनिया में तबाही मचाई थी. उस वक्त पूरी दुनिया की लगभग एक तिहाई आबादी इससे प्रभावित हुई थी और अब स्पेनिश फ्लू देख चुके गिनती के ही लोग दुनिया में बचे हुए हैं. उस पर भी जिन्होंने इसे बीमारी के तौर पर झेला है, वो और भी कम हैं.

इसे चमत्कार कहें, भगवान की कृपा, जिंदगी से जंग लड़ने का जज्बा या जीने की दृढ़ इच्छाशक्ति. इसको कुछ भी नाम दिया जा सकता है, लेकिन दुनियाभर में चर्चा ये है कि इस उम्र में भी कोरोना उनसे हार गया.