close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

एम्‍स में बाउंसर्स की गुंडागर्दी: बच्‍ची से मिलना चाहते थे दो पर‍िजन, लाठी डंडो से पीटा

एम्स ट्रामा सेंटर में मोजूद बाउंसर लाठी डंडों से मरीज के परिजन की पिटाई करते दिख रहे हैं. ये पूरी घटना रविवार दोपहर करीब 3 बजे की बताई जा रही है. जब एम्स ट्रामा सेंटर के बाउंसरस ने लाठी डंडों से मरीज के परिजनों को खदेड़ा.

एम्‍स में बाउंसर्स की गुंडागर्दी: बच्‍ची से मिलना चाहते थे दो पर‍िजन, लाठी डंडो से पीटा

नई दिल्‍ली: एम्स के ट्रामा सेन्टर के बाहर सुरक्षा कर्मचारियों द्वारा कथित तौर पर किए गये हमले में एक मरीज के पिता सहित चार लोग घायल हो गए. रविवार को दिल्ली के एम्स ट्रामा सेंटर से मरीज के परिजनों की पिटाई का एक वीडियो सामने आया. इसमें एम्स ट्रामा सेंटर में मोजूद बाउंसर लाठी डंडों से मरीज के परिजन की पिटाई करते दिख रहे हैं. ये पूरी घटना रविवार दोपहर करीब 3 बजे की बताई जा रही है. जब एम्स ट्रामा सेंटर के बाउंसरस ने लाठी डंडों से मरीज के परिजनों को खदेड़ा.
 
पीड़ित परिवार के लोगों का कहना है कि पिछले कुछ दिनों से इनकी 14 साल की बेटी एम्स ट्रामा सेंटर में भर्ती है, जिसकी रीढ़ की हड्डी की सर्जरी बीते शनिवार की गई थी. पीड़ित परिवार का कहना है की विज़िटर पास पर 2 लोगो को अस्पताल में अंदर जाने की इजाजत दी जाती है, लेकिन अस्पताल के बाउंसर 1 ही शख्स को अंदर जाने दे रहे थे, जिस बात को लेकर पीड़ित परिवार और अस्पताल के बाउंसर के बीच कहासुनी शुरू हो गई. इसके बाद बाउंसर ने लाठी डंडों से पूरे परिवार की पिटाई कर दी.

वीडियो में हैरानी वाली बात ये है की अस्पताल के बाउंसर परिजनों की डंडे से पिटाई करते साफ नजर आ रहे है और पुलिस मूकदर्शक बनी नजर आ रही है. इस पूरी घटना में एक ही परिवार के कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए.

परिवार का तो यहां तक कहना है की एम्स ट्रामा सेंटर के बाउंसर्स ने पीड़ित परिवार की महिलाओं के साथ बदसलूकी भी की. दिल्ली पुलिस ने अस्पताल के पांच बाउंसर्स को हिरासत में लेकर जांच शुरू कर दी है. वही दूसरी ओर एम्स प्रशासन का कहना है एक पीड़ित  पक्ष के कई लोग ज़बरदस्ती अस्पताल के अंदर घुसने की कोशिश कर रहे थे. बाउंसर ने रोका तो उनकी तरफ के करीब 30 लोगो ने पहले मारपीट शुरू की. लेकिन दोनों तरफ के कई लोग जख्मी हुए है और इस मामले की एम्स प्रशासन जांच करेगा और अगर सुरक्षाकर्मियों की गलती हुई तो एक्शन लिया जाएगा.

इस पूरे मामले में पुलिस ने आईपीसी की धारा 323/341/354/509/34 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया और मामले की जांच की जा रही है.