DNA ANALYSIS: भारत में चीन के जासूसी नेटवर्क के बारे में एक और Exclusive खुलासा

अब हम भारत में चीन के डिजिटल जासूसी नेटवर्क के बारे में एक और एक्सक्लूसिव जानकारी देंगे. हमने आपको बताया था कि भारत के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री समेत कई बड़े नेताओं और बड़े लोगों की चीन जासूसी करवा रहा है.

DNA ANALYSIS: भारत में चीन के जासूसी नेटवर्क के बारे में एक और Exclusive खुलासा

नई दिल्ली: अब हम भारत में चीन के डिजिटल जासूसी नेटवर्क के बारे में एक और एक्सक्लूसिव जानकारी देंगे. हमने आपको बताया था कि भारत के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री समेत कई बड़े नेताओं और बड़े लोगों की चीन जासूसी करवा रहा है. करीब 10 हजार भारतीयों की जासूसी के बारे में रिपोर्ट वियतनाम के एक प्रोफेसर क्रिस्टोफर बाल्डिंग (Christopher Balding) ने तैयार की है. क्रिस्टोफर बाल्डिंग वर्ष 2018 में बीजिंग की एक यूनिवर्सिटी में काम करते थे और अब अपनी सुरक्षा में खतरे के बाद वो वियतनाम से अमेरिका जा चुके हैं. आज हमारे सहयोगी चैनल WION ने क्रिस्टोफर बाल्डिंग से बात करके इस जासूसी मामले पर नई जानकारियां दी हैं.

जासूसी के बारे में रिपोर्ट वियतनाम के एक प्रोफेसर ने तैयार की
- सबसे बड़ी बात ये है कि किसी खास व्यक्ति के मोबाइल फोन पर आने वाली सभी जानकारियों को चीन की सरकार देख और सुन सकती है. आपके मोबाइल फोन पर आने वाले टेक्स्ट मैसेज, ऑडियो और वीडियो कॉल यानी हर तरह के कंटेंट तक चीन की पहुंच है.

- दूसरी बड़ी बात ये है कि चीन अब भी भारत के 10 हजार लोगों की निगरानी कर रहा है. इस खुलासे के बाद भी इन लोगों के मोबाइल फोन पर नजर रखी जा रही है.

- और आखिरी बात ये है कि चीन की कंपनी ने भारत के लगभग 10 हजार लोगों के डेटा को मिलाकर एक सुपर डेटाबेस बनाया है और इस डेटाबेस की मदद से उन्हें ये जानकारी मिलती है कि भारत और भारत के लोगों के विचारों को कैसे प्रभावित किया जा सकता है. यानी ये मामला कैम्ब्रिज एनालिटिका के मुकाबले ज्यादा बड़े पैमाने पर किया गया है.

आपको याद होगा कि ब्रिटेन की एक कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका (Cambridge Analytica) पर ये आरोप लगा था कि उसने करोड़ों वोटर्स के डेटा का इस्तेमाल करके उन्हें प्रभावित किया था. Christopher Balding ने चीन के जासूसी नेटवर्क के बारे में हमें एक्सक्लूसिव बातें बताई हैं.

ZEE NEWS की जासूसी करा रहा चीन
आपको याद होगा चीन जिन भारतीयों की जासूसी करवा रहा है उसमें राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के अलावा कई बड़े नेताओं, सैनिक अधिकारियों, वैज्ञानिकों, संपादकों और दूसरे महत्वपूर्ण लोगों के नाम हैं. इसमें एक नाम ज़ी न्यूज़ (Zee News), ज़ी बिजनेस (Zee Business) और अंतरराष्ट्रीय चैनल WION के एडिटर-इन-चीफ सुधीर चौधरी (Sudhir Chaudhary) का भी है. इसकी वजह ये है कि ज़ी न्यूज़ ने लगातार देश के 137 करोड़ लोगों को चीन के प्रोपेगैंडा से बचाने की कोशिश की है और भविष्य में भी हम लगातार देशहित में खबरें दिखाते रहेंगे.

आप हमेशा इस बात का ध्यान रखिएगा कि अगर आपके कार्ड का डेटा चोरी हो जाए तो आपकी जिंदगी भर की कमाई खतरे में पड़ सकती है. लेकिन अगर कोई कंपनी आपका डेटा चुराकर आपके विचारों को प्रभावित करे तो आपके देश के भविष्य पर खतरा हो सकता है और चीन इस समय यही करने की कोशिश कर रहा है.

ये भी देखें-